close this ads

श्री १००८ चंद्रप्रभ दिगंबर जैन मंदिर


updated: Nov 10, 2016 06:45 AM About | Timing | Photo Gallery | How to Reach | Comments


श्री १००८ चंद्रप्रभ दिगंबर जैन मंदिर (Shri 1008 Chandraprabha Digambar Jain Mandir) - Sadar Baazar Near Khirki, Purani Mandi, Firozabad - 283203

श्री १००८ चंद्रप्रभ दिगंबर जैन मंदिर (Shri 1008 Chandraprabha Digambar Jain Mandir), near ghanta ghar via famous place Khidki. 1.5 feet height Chandraprabha statue originated from village Chandrabada near river Yamuna. Read full history in hindi

ये भी जानें

समय सारिणी

दर्शन समय
Diwali-Holi: 5:30 AM - 12:00 AM, 5:30 PM - 9:30 PM
Holi-Diwali: 6:00 AM - 12:00 AM, 5:00 PM - 9:00 PM
आरती
Winter Abhishekam: 6:30 - 7:30 AM
Summar Abhishekam: 6:00 - 7:00 AM
त्यौहार

Introduction Chandraprabha Statue in Hindi

चंद्रप्रभ मूर्ति परिचय: यह शत-प्रतिशत पारदर्शक स्फतिकमणिमय मूर्ति संपूर्ण जैन जगत का गौरव है। इस एक मूर्ति के कारण ही आज भी यह जैन धर्मावलम्बियों के लिए तीर्थ बना हुआ है। "यह नगर धन्य है। भारत भर में इस प्रकार की दूसरी मूर्ति नहीं है। यह चतुर्तकालीन सर्वोतकृष्ट सतिशय मूर्ति है" - आचार्य शिरोमणि श्री शांतिसागर जी महाराज।

नगर से चार मील दक्षिण की ओर यमुना तट पर स्थित चंद्रबाड़ा राज्य के राजा श्री चंद्रपाल जैन के पास यह मूर्ति थी। जब मुहम्मद गौरी ने राज्य पर आक्रमण किया तो उन्होने सुरक्षा हेतु यमुना मे प्रवाह कर दिया। बाद मे फ़िरोज़बाद के एक भक्त ने रात्रि स्वप्न अनुसार बताई विधि से - टोकरी भर पुष्प यमुना के जल मे छोड़े, वह पुष्प एक एकत्र हुए। तभी एक चमत्कारी घटना घटी, वहाँ यमुना का पानी घुटने तक रह गय। इस प्रकार यह मूर्ति यहाँ लाई गई। सैकड़ों वर्षों से इसके दर्शन - पूजन से भक्तों को मनोकामना पूर्ण हो रही है। यह उन्ही विश्ववन्य अष्टम तीर्थकर की मूर्ति है, जिसके प्रकाशन द्वारा स्वामी समस्तभ शिव कोटि राजा का मिथ्यात्व दूर किया था।

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
The town is blessed with this unique Lord Chandraprabha Statue, said by Shiromani Shri Acharya Maharaj Shantisagar Ji.

The town is blessed with this unique Lord Chandraprabha Statue, said by Shiromani Shri Acharya Maharaj Shantisagar Ji.

Beautifully crafted yellow, golden color first floor balcony increases the look of Chandra Prabhu mandir.

Beautifully crafted yellow, golden color first floor balcony increases the look of Chandra Prabhu mandir.

Multi color flag having blue, green, white, yellow and red horizontal stripes represent the holy flag of Jainism.

Multi color flag having blue, green, white, yellow and red horizontal stripes represent the holy flag of Jainism.

A full vertical view, includes ground floor main hall, first floor satsang hall and second floor with main shikhar at top.

A full vertical view, includes ground floor main hall, first floor satsang hall and second floor with main shikhar at top.

Nearest Shri Radha Govind temple from top roof of Chandra Prabhu mandir, under the concept of Mandir se Mandir Tak.

Nearest Shri Radha Govind temple from top roof of Chandra Prabhu mandir, under the concept of Mandir se Mandir Tak.

जानकारियां

धाम
L-R: Neminatha BhagwanBhagwan Adinatha(Rishabhanatha) JiBhagwan Mahavir JiBhagwan Shitalanatha JiBhagwan Shantinatha JiBhagwan ChandraprabhaBhagwan Parshvanatha Ji
First Floor: Bhagwan Abhinandananatha JiSwadhyay Kaccha (Reading Room)Om Hreem (ॐ ह्रीं)
बुनियादी सेवाएं
Drinking Water, Prasad, Shoe Store
धर्मार्थ सेवाएं
Satsang Hall, Digambar Jain Girls Inter College
Homeopathy Aushadhalaya: 5:00 - 7:30 PM
संस्थापक
Raja Chandrapal
स्थापना
1053
देख-रेख संस्था
Shri Chandraprabha Digambar Jain Mandir Atishaya Kshetra Samiti
समर्पित
Lord Chandraprabha
फोटोग्राफी
Yes (It's not ethical to capture photograph inside the temple when someone engaged in worship! Please also follow temple`s Rules and Tips.)

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: National Highways 2 (NH 2) / Agra Road >> Roadways Bus Stand Road
रेलवे: Firozabad Railway Station
पता
Sadar Baazar Near Khirki, Purani Mandi, Firozabad - 283203
निर्देशांक
27.156399°N, 78.387144°E
श्री १००८ चंद्रप्रभ दिगंबर जैन मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/chandraprabhu-mandir-firozabad

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै रामचन्द्र जी की। हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥

रघुवर श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै श्री रघुवर जी की, सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥

आरती: जय जय तुलसी माता

जय जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब जग की सुख दाता, सबकी वर माता॥

^
top