करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

द्रौपदी घाट मंदिर - Draupadi Ghat Mandir


updated: Mar 19, 2019 07:14 AM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


द्रौपदी घाट मंदिर वह जगह है जहाँ रानी द्रौपदी स्नान के लिए आतीं थीं, और दैनिक पूजा किया करती थीं। आधुनिक भारत में पंडित जवाहरलाल नेहरू द्वारा कर्ण घाट के पास इस स्थान का नवीकरण कराया गया है। जहाँ श्री कृष्ण के साथ द्रौपदी का एक छोटा सा मंदिर है। ऐतिहासिक दृष्टि से इस स्थान का बहुत महत्व है, क्योंकि इसे महाभारत काल से जोड़कर देखा जाता है।

आस-पास की जगह से अनभिज्ञ लोगों के लिए इस स्थान तक पहुँचना भ्रम-पूर्ण हो सकता है, अतः गूगल-मेप का प्रयोग करें। लेख के अंत में गूगल-मेप की सही दिशा को दर्शाया गया है।

प्रचलित नाम: द्रौपदी मंदिर

मुख्य आकर्षण

  • जगह जहाँ देवी द्रौपदी दैनिक पूजा के लिए आती थीं।
  • महाभारत काल की ऐतिहासिक प्रष्ठभूमि।

समय सारिणी

दर्शन समय
27x7
त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Draupadi Ghat Mandir - Available in English

Draupadi Ghat Mandir is a place where queen Draupadi come for bath and offer daily pooja. In modern India, place renovate by Pt. Jawaharlal Nehru, near to Karn Ghat.

जानकारियां

धाम
Shri KrishnaPeepal Tree
बुनियादी सेवाएं
Drinking Water
संस्थापक
महाभारत काल
समर्पित
भगवान श्री कृष्ण
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें

पता 📧
Hastinapur Hastinapur Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Ganeshpur - Hastinapur Road
रेलवे 🚉
Meerut
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport
नदी ⛵
Ganga
निर्देशांक 🌐
29.143738°N, 78.020814°E
द्रौपदी घाट मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/draupadi-ghat-mandir

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय जय तुलसी माता

जय जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब जग की सुख दाता, सबकी वर माता॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

top