भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

प्रेम मंदिर


updated: Feb 15, 2019 19:05 PM About | Timing | Highlights | History | Photo Gallery


प्रेम मंदिर () - Raman Reti Vrindavan Uttar Pradesh

वृंदावन अपने अंदर धर्म के प्रति निरंतरता का भाव बनाये हुए है। वृंदावन में पुराने मंदिर हैं जिनके साथ साथ अब यह नये मंदिर भी बनते जा रहे हैं। आज-कल श्रद्धालु इन नवीन स्थानों और मंदिरों का रुख किये हुए हैं। ऐसा माना जाता है कि हम भारतीय मनोंरजन में भी पवित्रता के तत्व देखते हैं। यही कारण है कि समय के साथ धार्मिक लोग अपने स्थानों का रूप भी बदल रहे हैं। मुख्य बात यह है कि जीवन में जीवंतता बनी रहे इस बात को भारतीय मानते हैं। इसका नजारा इतना अद्भुत है कि इसे देखकर कोई भी राधे-राधे कहे बिना नहीं रह सकता।

वृंदावन में 54 एकड़ में बना यह प्रेम मंदिर 125 फुट ऊंचा, 122 फुट लंबा और 115 फुट चौड़ा है। इसमें हरियाली भरे बगीचे, फव्वारे, श्रीकृष्ण और राधा की मनोहर झांकियां, श्रीगोवर्धन धारण लीला, कालिया नाग दमन लीला, झूलन लीलाएं दिखाई गई हैं। यहां संगमरमर की चिकनी पट्टियों पर श्री राधा गोविंद के सरल दोहे लिखे गए हैं, जिससे इन्हें भक्त आसानी से पढ़ और समझ सकें।

बाहरी दीवारों पर मथुरा एवं द्वारका की लीलाएं क्रमबद्ध रूप से चित्रित हैं। कुब्जा-उद्धार, कंस-वध, देवकी-वसुदेव की कारागृह से मुक्ति, सान्दीपनी मुनि के गुरुकुल में जाकर कृष्ण-बलराम का विद्याध्ययन, रुक्मिणी-हरण, सोलह हजार एक सौ आठ रानियों का वर्णन, नारद जी द्वारा श्रीकृष्ण की गृहस्थावस्था के दर्शन, श्रीकृष्ण का अपने अश्रुओं द्वारा सुदामा के चरण पखारना, सुदामा एवं उनके परिवार का एक रात्रि में काया-पलट, कुरुक्षेत्र में श्रीकृष्ण का गोपियों से पुनर्मिलन, रुक्मिणी आदि द्वारिका की रानियों का श्रीराधा एवं गोपियों के साथ मिलन, श्रीकृष्ण द्वारा उद्धव को अंतिम उपदेश एवं दर्शन तत्पश्चात स्वधाम-गमन आदि लीलाएं भी चित्रित की गई हैं।

मुख्य आकर्षण

  • 30,000 टन इटली के करारा संगमरमर का निर्माण किया।
  • 125 फीट ऊंचा, 122 फीट लंबा और 115 फीट चौड़ा है।
  • 150 गोल खंभो पर खड़ा संपूर्ण आधार हैं।
  • 9 सुंदर नक्काशीदार गुंबदों के साथ सजाया गया।
  • 17 सुनहरे रंग के कलश और सबसे ऊपर लहराता एक भव्य ध्वज।
  • नागरा वास्तुकला के आधार पर बनाया गया।
  • झूलन लीला, गोवर्धन लीला, रास लीला और कालिया नाग लीला।

समय सारिणी

दर्शन समय
Summer : 5:00 AM - 12:00 PM, 4:30 PM – 8:30 PM
5:30 AM: आरती और परिक्रमा
6:30 AM: भोग
8:30 AM: दर्शन आरती
11:30 AM: भोग
12:00 PM: शयन आरती
4:30 PM: दर्शन आरती
5:30 PM: भोग
7:00 PM: शीतकालीन: संगीत और डिजिटल फाउंटेन शो (1 October - 31 March)
7:30 PM: ग्रीष्मकालीन: संगीत और डिजिटल फाउंटेन शो (1 April - 31 September)
8:30 PM: शयन आरती
त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Available in English - Prem Mandir
Prem Mandir is a monument of God`s love. This devotional centre will serve all who come in search of God`s love, through knowledge and the practical experience of devotion.

जानकारियां

मंत्र
हरे कृष्णा
धाम
Ground Floor: Shri Radha Krishna First Floor
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Water Coolar, CCTV Security, Office, Shoe Store, Washrooms, Parking
धर्मार्थ सेवाएं
Shyama Shyam Dham, Jagaduru Kripalu Chikitsalaya, Sadhana Bhawan
संस्थापक
जगद्गुरुट्टम 1008 श्री कृपालु जी महाराज
देख-रेख संस्था
जगद्गुरु कृपालु परिषद
द्वारा उद्घाटन
जगद्गुरुट्टम 1008 श्री कृपालु जी महाराज
समर्पित
श्री राधा कृष्ण
क्षेत्रफल
12 acre, The whole complex 54 acres
वास्तुकला
नगारा
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध

1993

श्यामा श्याम धाम में सत्संग भवन, जिसका उद्घाटन जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज ने किया था।

14 January 2001

प्रेम मंदिर की नीव रखी गई।

18 September 2015

सभी तीन जेकेपी के बीच सबसे बड़ा अस्पताल का उद्घाटन किया गयापराह्न (साप्ताहिक बंद बृहस्पतिवार को)

17 February 2012

प्रेम मंदिर, होली पूर्णिमा का उद्घाटन

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: Parikrama Marg >> Bhaktivedanta Swami Marg
नदी:
पता
Raman Reti Vrindavan Uttar Pradesh
facebook
http://www.facebook.com/JKPIndia/
twitter
http://twitter.com/JKPIndia
google+
http://plus.google.com/108995074931064403995
निर्देशांक
27.572059°N, 77.671966°E
प्रेम मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/prem-mandir

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली

ओइम् जय वीणे वाली, मैया जय वीणे वाली, ऋद्धि-सिद्धि की रहती, हाथ तेरे ताली।...

आरती: माँ सरस्वती जी

जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सदगुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥

close this ads
^
top