Hanuman Chalisa

🐚चैतन्य महाप्रभु जयंती - Chaitanya Mahaprabhu Jayanti

Chaitanya Mahaprabhu Jayanti Date: Tuesday, 7 March 2023
Chaitanya Mahaprabhu Jayanti

श्री चैतन्य महाप्रभु की जयंती, कृष्ण भक्तों द्वारा फागुन पूर्णिमा पर मनाई जाती है। इस वर्ष भक्त चैतन्य महाप्रभु जयंती की 535वीं वर्षगांठ को 18 मार्च, 2022 को मनाई जाएगी। श्री चैतन्य महाप्रभु जयंती को श्री गौर पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है।

गौड़ीय संप्रदाय के संस्थापक चैतन्य महाप्रभु:
चैतन्य महाप्रभु को उनके सुनहरे रंग के कारण गौरांग के नाम से भी जाना जाता है। गौड़ीय संप्रदाय की स्थापना करने वाले चैतन्य महाप्रभु, यह त्यौहार गौड़ीय वैष्णवों के लिए नए साल की शुरुआत का भी प्रतीक है। महान महाप्रभु के अनुयायियों को गौड़ीय वैष्णव कहा जाता है।

जैसा कि शास्त्रों में कहा गया है, परम भगवान श्री कृष्ण इस कलियुग के लिए संकीर्तन - युग धर्म की स्थापना के लिए श्री चैतन्य महाप्रभु के रूप में प्रकट हुए। उनके माता-पिता ने उनका नाम निमाई रखा क्योंकि वह अपने पैतृक घर के आंगन में एक नीम के पेड़ के नीचे पैदा हुए थे।

चैतन्य जयंती पूरे भारत में मुख्य रूप से बंगाल, ओडिशा, बिहार, झारखंड में मनाई जाती है और दुनिया भर के इस्कॉन मंदिरों में अत्यधिक उल्लास के साथ मनाई जाती है।

चैतन्य महाप्रभु की शिक्षाएँ
चैतन्य महाप्रभु ने संस्कृत में लिखे गए कुछ शिक्षाएँ है। उनके आध्यात्मिक, धार्मिक, मोहक और प्रेरक विचारों ने लोगों की आत्मा को छू लिया। उनके द्वारा सिखाई गई कुछ बातें नीचे दी गई हैं:
◉ कृष्ण ज्ञान के सागर हैं।
◉ उनके तटस्थ स्वभाव के कारण ही जीव सभी बंधनों से मुक्त होता है।
◉ जीव इस संसार से पूरी तरह अलग है और एक समान ईश्वर है।
◉ पूर्ण और शुद्ध विश्वास जीवों का सबसे बड़ा अभ्यास है।
◉ कृष्ण का शुद्ध प्रेम ही परम लक्ष्य है।
◉ सभी जीव ईश्वर के छोटे अंश हैं।
◉ कृष्ण सर्वोच्च सत्य हैं।
◉ यह कृष्ण हैं जो सभी ऊर्जा प्रदान करते हैं।
◉ जीव अपने तटस्थ स्वभाव के कारण ही संकट में पड़ते हैं।

चैतन्य के अनुसार भक्ति ही मुक्ति का एकमात्र साधन है। उनके अनुसार जीव दो प्रकार के होते हैं, नित्य मुक्त और नित्य संसार। माया नित्य मुक्त जीवों को प्रभावित नहीं करती, जबकि सनातन सांसारिक प्राणी माया और मोह से भरे हुए हैं। चैतन्य महाप्रभु कृष्ण भक्ति के धनी थे।

उनके अनुसार हरे कृष्ण, हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम, हरे राम, राम राम हरे हरे। यह महामंत्र भगवान को सबसे प्यारा और प्रिय है।

भक्त संतों में चैतन्य महाप्रभु को प्रमुख संत माना जाता है। चैतन्य महाप्रभु की मृत्यु 46 वर्ष की आयु में 1534 ईस्वी में ओडिशा के पुरी शहर में हुई थी, जो भगवान जगन्नाथ का मुख्य निवास स्थान है।

संबंधित अन्य नामगौर पूर्णिमा, चैतन्य जयंती
सुरुआत तिथिफाल्गुन शुक्ला पूर्णिमा

Chaitanya Mahaprabhu Jayanti in English

The birth anniversary of Sri Chaitanya Mahaprabhu is celebrated by Krishna devotees on Phagun Purnima | Chaitanya Jayanti | Sri Gaur Purnima | Gaudiya Vaishnavas new year

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
25 March 202414 March 20253 March 202622 March 202710 March 2028
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
फाल्गुन शुक्ला पूर्णिमा
समाप्ति तिथि
फाल्गुन शुक्ला पूर्णिमा
महीना
फरवरी / मार्च
पिछले त्यौहार
18 March 2022
अगर आपको यह त्योहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्योहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

Hanuman Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App