त्यौहार

हरिद्वार कुंभ

💦 हरिद्वार कुंभ - Haridwar Kumbh

कुंभ मेला हिन्दू तीर्थयात्राओं में सर्वाधिक पावन तीर्थयात्रा है। बारह वर्षों के अंतराल से यह पर्व हरिद्वार में मनाया जाता है।

पौष बड़ा उत्सव

🍛 पौष बड़ा उत्सव - Paush Bada

पौष बड़ा भारतीय राज्य राजस्थान की राजधानी जयपुर शहर में हिंदू पंचांग महिना पौष के दौरान मनाया जाने वाला त्यौहार है।

पूर्णिमा

🌕 पूर्णिमा - Purnima

पूर्णिमा प्रत्येक माह की शुक्ला पक्ष मे आने वाला मासिक उत्सव है, अतः पूर्णिमा वर्ष मे 12 बार, तथा अधिक मास की स्थिति मे 13 बार भी हो सकती है।

सकट चौथ

सकट चौथ - Sakat Chauth

प्रत्येक माह की चतुर्थी श्री गणेश की पूजा का दिन माना गया है। माघ चतुर्थी को सकट चौथ के रूप में मनाया जाता है।

षटतिला एकादशी

🐚 षटतिला एकादशी - Ekadashi

हिंदू पंचांग के अंतर्गत प्रत्येक माह की 11वीं तीथि को एकादशी कहा जाता है। एकादशी को भगवान विष्णु को समर्पित तिथि माना जाता है..

शिवरात्रि

🔱 शिवरात्रि - Shivaratri

शिवरात्रि साल मे 12/13 बार आने वाला मासिक त्यौहार है, जो पूर्णिमा से एक दिन पहिले त्रियोदशी के दिन आता है।

अमावस्या

🌚 अमावस्या - Amavasya

अमावस्या एक वर्ष मे 12 बार आने वाला मासिक उत्सव है, अधिक मास की स्थिति मे यह एक वर्ष मे 13 बार भी हो सकती है।

मौनी अमावस्या

🤫 मौनी अमावस्या - Mauni Amavasya

मौनी अमावस्या के दिन मौन व्रत धारण कर मन को संयमित करके काम, क्रोध, लोभ, मोह आदि से दूर रखना चाहिए।

वसंत पंचमी

🌻 वसंत पंचमी - Vasant Panchami

वसंत पंचमी माघ शुक्ल पंचमी को ज्ञान और बुद्ध‌ि की देवी मां सरस्वती जी के प्राकट्य दिवस के रूप मे जाना जाता है।

रथ सप्तमी

☀️ रथ सप्तमी - Ratha Saptami

सप्तमी तिथि भगवान सूर्य को समर्पित है, सूर्य को सात सफेद घोड़ों वाले रथ पर विराजमान माना गया है। माघ महीने में शुक्ल पक्ष सप्तमी को रथ सप्तमी या माघ सप्तमी के रूप में जाना जाता है।

माघ गुप्त नवरात्रि

🐅 माघ गुप्त नवरात्रि - Gupt Navratri

देवी भागवत के अनुसार वर्ष में चार बार नवरात्रि आते हैं और जिस प्रकार नवरात्रि में देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है, ठीक उसी प्रकार गुप्त नवरात्रि में दस महाविद्याओं की साधना की जाती है।

फुलेरा दूज

🌼 फुलेरा दूज - Phulera Dooj

फाल्‍गुन माह की द्वितीया को मनायी जाने वाली फुलेरा दूज, होली आगमन का प्रतीक मानी जाती है। उत्तर भारत के गांवों में फुलेरा दूज का उत्‍सव बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

होली

💦 होली - Holi

उत्तर भारत में, होली तीन दिनों तक मनाए जाने वाला त्यौहार है, जिसे रंगों का त्यौहार के नाम से भी प्रसिद्ध है।

सोमवती अमावस्या

🌚 सोमवती अमावस्या - Somvati Amavasya

सोमवार के दिन आने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं। गणित के प्रायिकता सिद्धांत के अनुसार अमावस्या वर्ष में एक अथवा दो बार ही सोमवार के दिन हो सकती है।

चेटी चंड

🐟 चेटी चंड - Cheti Chand

चेटी चंड सिंधी लोगों का एक सबसे लोकप्रिय त्योहार है जिसे सिंधी नववर्ष के रूप में भी मनाया जाता है।

मत्स्य जयंती

🐋 मत्स्य जयंती - Matsya Jayanti

मत्स्य अवतार भगवान विष्णु के दस अवतारों मे से पहले अवतार हैं, जो राक्षस हयग्रीव से ब्रह्मांड को बचाने के लिए अवतरित हुए थे।

राम नवमी

🏹 राम नवमी - Ram Navami

राम नवमी को भगवान श्रीराम के अवतरण दिवस के रूप मे मानते है। तथा यह उत्सव चैत्र नवरात्रि का नौवें दिन के रूप मे भी मनाया जाता है।

चैत्र नवरात्रि

🐅 चैत्र नवरात्रि - Navratri

नवरात्रि, नवदुर्ग नौ दिनों का उत्सव है, सभी नौ दिन माँ आदि शक्ति के विभिन्न रूपों को समर्पित किए गये हैं।

 महावीर जन्म कल्याणक

🦁 महावीर जन्म कल्याणक - Mahavir Janma Kalyanak

हिन्दू और जैन पंचांग के अनुसार, जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंकर श्री महावीर स्वामी के जन्म-दिवस के अवसर पर महावीर जयंती मनाई जाती है।

श्री हनुमान जन्मोत्सव

श्री हनुमान जन्मोत्सव - Shri Hanuman Janmotsav

श्री हनुमान जन्मोत्सव या हनुमान जयंती हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है, इसे भारत में वानर राज राम भक्त हनुमान जी के जन्म के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ आरती

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

ॐ जय जगदीश हरे आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

श्री सत्यनारायण जी आरती

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा। सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा॥

Latest Mandir

  • श्री बाबा औघड़नाथ शिव मंदिर


    श्री बाबा औघड़नाथ शिव मंदिर

    मेरठ महानगर में श्री बाबा औघड़नाथ शिव मंदिर एक प्राचीन सिद्धिपीठ है। इस मन्दिर में स्थापित लधुकाय शिवलिंग स्वयंभू, फलप्रदाता तथा मनोकामनायें पूर्ण करने वाले औघड़दानी शिवस्वरूप हैं।

  • सारसबाग गणपती मंदिर

    भगवान श्री गणेश को समर्पित सारसबाग गणपती मंदिर का एक सुंदर एवं समृद्ध ऐतिहासिक अतीत है। मंदिर के प्रमुख आराध्य श्री गणेश को श्री सिद्धिविनायक कहा जाता है, क्योंकि इसकी सूंड दाईं ओर मुड़ी हुई है।

  • श्री दादा देव मंदिर

    श्री दादा देव मंदिर पालम, शाहबाद, बागडोला, नासिरपुर, बिंदापुर, डाबड़ी, असालतपुर, उंटाला, मटियाला, बापरोला, पूठकला और नांगलराई गाँवों का ग्राम देवता मंदिर है।..

वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे.. भजन

वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे। पर दुःखे उपकार करे तो ये, मन अभिमान न आणे रे...

किसलिए आस छोड़े कभी ना कभी: भजन

किस लिए आस छोड़े कभी ना कभी, क्षण विरह के मिलन में बदल जाएंगे । नाथ कब तक रहेंगे कड़े एक दिन,

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी

जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी ॥ अजर अमर अज अरूप,

भजन: धन धन भोलेनाथ बॉंट दिये, तीन लोक..

धन धन भोलेनाथ बॉंट दिये, तीन लोक इक पल भर में ऐसे दीनदयाल मेरे दाता, भरे खजाना पल भर में॥

🔝