त्यौहार

शिवरात्रि

🔱 शिवरात्रि - Shivaratri

शिवरात्रि साल मे 12/13 बार आने वाला मासिक त्यौहार है, जो पूर्णिमा से एक दिन पहिले त्रियोदशी के दिन आता है। 11 मार्च महा शिवरात्रि 2021

अमावस्या

🌚 अमावस्या - Amavasya

अमावस्या एक वर्ष मे 12 बार आने वाला मासिक उत्सव है, अधिक मास की स्थिति मे यह एक वर्ष मे 13 बार भी हो सकती है।

सोमवती अमावस्या

🌚 सोमवती अमावस्या - Somvati Amavasya

सोमवार के दिन आने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं। गणित के प्रायिकता सिद्धांत के अनुसार अमावस्या वर्ष में एक अथवा दो बार ही सोमवार के दिन हो सकती है।

हरिद्वार कुंभ

💦 हरिद्वार कुंभ - Haridwar Kumbh

कुंभ मेला हिन्दू तीर्थयात्राओं में सर्वाधिक पावन तीर्थयात्रा है। बारह वर्षों के अंतराल से यह पर्व हरिद्वार में मनाया जाता है।

चैत्र नवरात्रि

🐅 चैत्र नवरात्रि - Chaitra Navratri

नवरात्रि, नवदुर्ग नौ दिनों का उत्सव है, सभी नौ दिन माँ आदि शक्ति के विभिन्न रूपों को समर्पित किए गये हैं।

पना संक्रांति

☀️ पना संक्रांति - Pana Sankranti

हिंदू पंचांग के अनुसार, जिस दिन भगवान सूर्य मेष राशि में प्रवेश करते हैं, उस दिन मेष संक्रांति मनाई जाती है। ओडिशा में इसे पना संक्रांति कहा जाता है और इस दिन नए साल का त्योहार भी मनाया जाता है।

वैशाखी

🎋 वैशाखी - Vaisakhi

वैशाखी त्यौहार सिख धर्म के पवित्र त्यौहारों में से एक है। वैशाखी त्यौहार हर साल 13 या 14 अप्रैल को मनाया जाता है..

चेटी चंड

🐟 चेटी चंड - Cheti Chand

चेटी चंड सिंधी लोगों का एक सबसे लोकप्रिय त्योहार है जिसे सिंधी नववर्ष के रूप में भी मनाया जाता है।

मत्स्य जयंती

🐋 मत्स्य जयंती - Matsya Jayanti

मत्स्य अवतार भगवान विष्णु के दस अवतारों मे से पहले अवतार हैं, जो राक्षस हयग्रीव से ब्रह्मांड को बचाने के लिए अवतरित हुए थे।

राम नवमी

🏹 राम नवमी - Ram Navami

राम नवमी को भगवान श्रीराम के अवतरण दिवस के रूप मे मानते है। तथा यह उत्सव चैत्र नवरात्रि का नौवें दिन के रूप मे भी मनाया जाता है।

कामदा एकादशी

🐚 कामदा एकादशी - Kamada Ekadashi

हिंदू पंचांग के अंतर्गत प्रत्येक माह की 11वीं तीथि को एकादशी कहा जाता है। एकादशी को भगवान विष्णु को समर्पित तिथि माना जाता है..

महावीर जयंती

🦁 महावीर जयंती - Mahavir Jayanti

हिन्दू और जैन पंचांग के अनुसार, जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंकर श्री महावीर स्वामी के जन्म-दिवस के अवसर पर महावीर जयंती मनाई जाती है।

पूर्णिमा

🌕 पूर्णिमा - Purnima

पूर्णिमा प्रत्येक माह की शुक्ला पक्ष मे आने वाला मासिक उत्सव है, अतः पूर्णिमा वर्ष मे 12 बार, तथा अधिक मास की स्थिति मे 13 बार भी हो सकती है।

चैत्र पूर्णिमा

☀️ चैत्र पूर्णिमा - Chaitra Purnima

चैत्र पूर्णिमा पर सूर्योदय के पूर्व उठकर पवित्र नदी, सरोवर या कुंड में स्नान करने, दान करने और व्रत पूजा के संकल्प से मनोकामनाएं पूर्ण होती है।

हनुमान जयंती

हनुमान जयंती - Hanuman Jayanti

श्री हनुमान जन्मोत्सव या हनुमान जयंती हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है, इसे भारत में वानर राज राम भक्त हनुमान जी के जन्म के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

अक्षय तृतीया

अक्षय तृतीया - Akshaya Tritiya

वैशाख के शुक्ल पक्ष की तृतीया को आने वाले इस हिंदू त्यौहार को अक्षय तृतीया अथवा अख तीज के नाम से जाना जाता है। शुभ कार्य का पुण्य कभी भी कम नहीं होता है।..

परशुराम जन्मोत्सव

🪓 परशुराम जन्मोत्सव - Parshuram Janmotsav

भगवान परशुराम का जन्म अक्षय तृतीया के दिन हुआ था अतः उनकी शस्त्रशक्ति भी अक्षय है।

आदि शंकराचार्य जयंती

📿 आदि शंकराचार्य जयंती - Adi Shankaracharya Jayanti

आदि गुरु शंकराचार्य के जन्म दिवस को उनकी जयंती के रूप में मनाया जाता है। गुरु शंकराचार्य भारतीय गुरु और दार्शनिक थे, उनका जन्म केरल के कालपी नामक स्थान पर हुआ था।...

बगलामुखी जयंती

🦢 बगलामुखी जयंती - Baglamukhi Jayanti

बगलामुखी अष्टमी, बगलामुखी माता के अवतार दिवस के रूप में मनाया जाता हैं। जिन्हें माता पीताम्बरा या ब्रह्मास्त्र विद्या भी कहा जाता है।

सीता नवमी

🙏 सीता नवमी - Sita Navami

सीता नवमी मिथिला के राजा जनक और रानी सुनयना की बेटी और अयोध्या की रानी देवी सीता के अवतार दिवस के रूप मे मनाया जाता है, इसे जानकी नवमी भी कहा गया है।

श्री सूर्य देव - ऊँ जय सूर्य भगवान

ऊँ जय सूर्य भगवान, जय हो दिनकर भगवान। जगत् के नेत्र स्वरूपा, तुम हो त्रिगुण स्वरूपा।

श्री खाटू श्याम जी आरती

ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे॥

श्री सूर्य देव - जय जय रविदेव।

जय जय जय रविदेव जय जय जय रविदेव। रजनीपति मदहारी शतलद जीवन दाता॥

Latest Mandir

  • श्री शिव नवग्रह मंदिर धाम


    श्री शिव नवग्रह मंदिर धाम

    श्री शिव नवग्रह मंदिर धाम, भगवान शिव की उपस्थिति के साथ नवग्रह को समर्पित है। मंदिर का एक मुख्य भाग शनि धाम के रूप मे श्री शनि महाराज जी को समर्पित है।

  • श्री राम जन्मभूमि

    श्री राम जन्मभूमि मंदिर भगवान विष्णु के सातवें अवतार श्रीरामचंद्र जी का अवतरण / जन्म स्थल है। उनका अवतरण त्रेता युग मे हुआ था।

  • प्राचीन श्री शिव शक्ति मंदिर

    भगवान शिव एवं माँ आदिशक्ति को समर्पित वैशाली का सबसे पुराना गौरी-शंकर मंदिर प्राचीन श्री शिव शक्ति मंदिर के नाम से जाना जाता है।

जय जय सुरनायक जन सुखदायक: भजन

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण । राम भजो, राम रटो..

जिनके हृदय श्री राम बसे: भजन

जिनके हृदय श्री राम बसे, उन और को नाम लियो ना लियो । जिनके हृदय श्री राम बसे..

भजन: इतनी शक्ति हमें देना दाता

इतनी शक्ति हमें देना दाता, मनका विश्वास कमजोर हो ना..

भजन: मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे

मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे, राम आएँगे, राम आएँगे आएँगे..

🔝