त्यौहार

शारदीय नवरात्रि

🐅 शारदीय नवरात्रि - Navratri

नवरात्रि, नवदुर्ग नौ दिनों का उत्सव है, सभी नौ दिन माँ आदि शक्ति के विभिन्न रूपों को समर्पित किए गये हैं।

दुर्गा पूजा

🐅 दुर्गा पूजा - Durga Puja

दुर्गा पूजा को माँ दुर्गा द्वारा दुष्ट राक्षस महिषासुर पर विजय प्राप्‍ति की खुशी में मनाया जाता है, इसलिए माँ को दुर्गतनाशिनी के रूप में पूजा जाता है।

पापांकुशा एकादशी

🐚 पापांकुशा एकादशी - Ekadashi

हिंदू पंचांग के अंतर्गत प्रत्येक माह की 11वीं तीथि को एकादशी कहा जाता है। एकादशी को भगवान विष्णु को समर्पित तिथि माना जाता है..

पद्मनाभ द्वादशी

🐚 पद्मनाभ द्वादशी - Padmanabha Dwadashi

पापांकुशा एकादशी के अलगे दिन द्वादशी तिथि को पद्मनाभ द्वादशी व्रत आता है। पद्मनाभ द्वादशी आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी को मनाई जाती है।

शरद पूर्णिमा

🌕 शरद पूर्णिमा - Sharad Purnima

शरद पूर्णिमा, पूर्णिमा के दिन आने वाले प्रसिद्ध हिंदू त्यौहारों में से एक है। शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा सभी सोलह कलाओं के साथ पृथ्वी के नजदीक होता है।

कोजागरी पूजा

कोजागरी पूजा - Kojagari Puja

शरद कोजागरी पूजा भारतीय राज्य जैसे उड़ीसा, पश्चिम बंगाल और असम में अश्विन पूर्णिमा के दौरान देवी लक्ष्मी को समर्पित है। लक्ष्मी पूजा का यह दिन कोजागरी पूर्णिमा या बंगला लक्ष्मी पूजा के रूप में भी जाना जाता है।

वाल्मीकि जयंती

📿 वाल्मीकि जयंती - Valmiki Jayanti

आदि कवि महर्षि वाल्मीकि के जन्म दिवस पर मनाये जाने वाले त्यौहार को वाल्मीकि जयंती कहा जाता है।

करवा चौथ

करवा चौथ - Karwa Chauth

हिंदू सनातन पद्धति में करवा चौथ सुहागिनों का महत्वपूर्ण त्यौहार माना गया है। इस पर्व पर सुहागिन पतिव्रता महिलाएं हाथों में मेहंदी व सोलह श्रृंगार कर अपने सास-ससुर एवं पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखतीं हैं।

बिश्नोई स्थापना दिवस

बिश्नोई स्थापना दिवस - Bishnoi Sthapana Divash

बिश्नोई स्थापना दिवस सन् 1485 से कार्तिक कृष्णा अष्टमी को बिश्नोई संप्रदाय के द्वारा मनाया जाता है। इस संप्रदाय की स्थापना गुरु जम्भेश्वर जी ने की थी।

अहोई अष्टमी

अहोई अष्टमी - Ahoi Ashtami

हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष के दौरान दीवाली से 8 दिन पहले अहोई अष्टमी मनाई जाती है।

गोवत्स द्वादशी

🐮 गोवत्स द्वादशी - Govatsa Dwadashi

कार्तिक कृष्ण द्वादशी के दिन आने वाले गोवत्स द्वादशी उत्सव के दिन गाय माता एवं उनके बछड़े की पूजा की जाती है। यह त्यौहार एकादशी के एक दिन के बाद द्वादशी को मनाया जाता है।

मासिक शिवरात्रि

🔱 मासिक शिवरात्रि - Shivaratri

शिवरात्रि साल मे 12/13 बार आने वाला मासिक त्यौहार है, जो पूर्णिमा से एक दिन पहिले त्रियोदशी के दिन आता है।

अमावस्या

🌚 अमावस्या - Amavasya

अमावस्या एक वर्ष मे 12 बार आने वाला मासिक उत्सव है, अधिक मास की स्थिति मे यह एक वर्ष मे 13 बार भी हो सकती है।

दिवाली

🪔 दिवाली - Diwali

दीपावली भारत का सबसे बड़ा और सबसे प्रकाशमय त्यौहार है।

लाभ पंचमी

🪔 लाभ पंचमी - Labh Panchami

कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को भारत के गुजरात राज्य में, लाभ पंचमी सबसे अधिक महत्ता के साथ मनाया जाता है।

गोपाष्टमी

गोपाष्टमी - Gopashtami

जब भगवान श्री कृष्ण पौगंड अवस्था में पहुँचे, तब गोपाष्टमी के दिन नंद महाराजा ने गायों और श्रीकृष्ण जी के लिए एक समारोह किया।

तुलसी विवाह

🌱 तुलसी विवाह - Tulsi Vivah

तुलसी विवाह, माँ तुलसी और भगवान विष्णु का विवाह अनुष्ठान है। इस त्योहार के दौरान कन्यादान समारोह सहित सभी शादी से संबंधित अनुष्ठान किए जाते हैं। 9 November 2019

वैकुण्ठ चतुर्दशी

वैकुण्ठ चतुर्दशी - Vaikuntha Chaturdashi

वैकुण्ठ चतुर्दशी को हरिहर का मिलन कहा जाता हैं अर्थात भगवान शिव और विष्णु का मिलन...

देव दिवाली

देव दिवाली - Dev Diwali

देव दिवाली वाराणसी और पूर्वी उत्तर प्रदेश में मनाया जाने वाला प्रसिद्ध त्यौहार है।

गुरु नानक गुरुपर्व

📿 गुरु नानक गुरुपर्व - Guru Nanak Gurpurab

गुरु नानक गुरुपर्व सिखों के प्रथम गुरु, श्री गुरु नानक देव जी की जयंती के रूप में मनाया जाता हैं...

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी: आरती

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी

स्तुति श्री हिंगलाज माता और श्री विंध्येश्वरी माता सुन मेरी देवी पर्वतवासनी...

श्री हनुमान जी आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं, श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे॥

Latest Mandir

  • ग्रेटर नोएडा कालीबाड़ी


    ग्रेटर नोएडा कालीबाड़ी

    ग्रेटर नोएडा कालीबाड़ी की परिकल्पना का प्रारूप सन् 2003 से ही ग्रेटर नोएडा शारदीय संस्‍कृति समिति द्वारा तैयार कर लिया गया था। परंतु ग्रेटर नोएडा काली मंदिर अभी भी निर्माणाधीन अवस्था में है।

  • नई दिल्ली कालीबाड़ी

    नई दिल्ली कालीबाड़ी (Bengali: নতুন দিল্লী কালীবাড়ি), दिल्ली में बंगाली संस्कृति का प्रमुख केंद्र है, दिल्ली-एनसीआर मे स्थापित यह माँ काली का सबसे पुराना मंदिर है।

  • श्री महालक्ष्मी मंदिर

    श्री महालक्ष्मी मंदिर मुख्‍यतया तीन देवियों श्री महाकाली, श्री महालक्ष्मी और श्री महासरस्वती को समर्पित है। मंदिर के पीछे की ओर समुद्र दर्शन किया जा सकता है, तथा मंदिर के चारों तरफ बैठने की व्यवस्था है।

मैं परदेशी हूँ पहली बार आया हूँ!

मैं परदेशी हूँ पहली बार आया हूँ, दर्शन करने मइया के दरबार आया हूँ...

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। ज्योत जगा के, सर को झुका के...

भजन: घुमा दें मोरछड़ी

हीरा मोत्या जड़ी जड़ी, संकट काटे खड़ी खड़ी, मेरे सर पे बाबा, घुमा दे मोरछड़ी..

मंगल की सेवा सुन मेरी देवा - माँ काली भजन

मंगल की सेवा सुन मेरी देवा, हाथ जोड तेरे द्वार खडे । पान सुपारी ध्वजा नारियल..

🔝