फुलेरा दूज - Phulera Dooj


Updated: Jan 13, 2020 23:45 PM बारें में | संबंधित जानकारियाँ | यह भी जानें


आने वाले त्यौहार: 25 February 2020
फाल्‍गुन माह की द्वितीया को मनायी जाने वाली फुलेरा दूज, होली आगमन का प्रतीक मानी जाती है। उत्तर भारत के गांवों में फुलेरा दूज का उत्‍सव बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

फाल्‍गुन माह की द्वितीया को मनायी जाने वाली फुलेरा दूज, होली आगमन का प्रतीक मानी जाती है। उत्तर भारत के गांवों में फुलेरा दूज का उत्‍सव बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। फुलेरा दूज के बाद से ही होली की तैयारियां शुरू कर दीं जातीं हैं। कुछ लोग इसे होली रखने वाले दिन के रूप में भी जानते हैं। इस त्यौहार से गुलरियाँ बनाने का कार्य शुरू किया जाता हैं।

इस त्यौहार को फूलों से रंगोली बनाई जाती है तथा विशेष रूप से श्री राधाकृष्‍ण का फूलों से श्रंगार करके उनकी पूजा की जाती है। ब्रजभूमि के श्री कृष्ण मंदिरों में इस त्यौहार का महत्व सर्वाधिक हैं। इस दिन मथुरा और वृंदावन में सभी मंदिरों को फूलों से सजाया जाता है और फूलों की होली खेली जाती है। भगवान कृष्ण के मंदिरों में भजन गाये एवं सुने जाते हैं।

ऐसी भी मान्यता है कि, फुलैरा दूज इस माह का सबसे शुभ दिन होता है और इस दिन किसी भी शुभ कार्य को किया जा सकता है। सर्दी के मौसम के बाद इसे विवाह का अंतिम शुभ दिन माना जाता, अतः इस दिन किसी भी मुहूर्त में शादी की जा सकती है। परंतु ज्योतिष विज्ञान के कई ज्ञाता यह दिन प्रति पल शुभ है, इस तथ्य को स्वीकार नहीं करते हैं।

संबंधित अन्य नाम
फुलरिया दूज, फुलैरा दूज

Phulera Dooj in English

Phulera Dooj celebrated on the second day of Phalguna month, celebrated as a symbol of Holi arrival

गुलरियाँ

गुलरियाँ का प्रयोग होलिका दहन के समय किया जाता है। गूलरियाँ को गाय के गोबर से गोल-गोल टिक्की आकर देकर उनके बीच में छिद्र बना दिया जाता है। सूखने के बाद उन्हें एक धागे मे पिरो लिया जाता है, जिसे गूलरियों की माला कहा जाता है।

इन गुलरियाँ के निर्माण के साथ एक दिलचस्प तथ्य यह है कि इन्हें केवल फुलेरा दूज से ही बनाना / निर्माण शुरू कर सकते हैं।

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
15 March 20214 March 202221 February 202312 March 2024
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
फाल्गुन शुक्ल द्वितीया
समाप्ति तिथि
फाल्गुन शुक्ल द्वितीया
महीना
फरवरी / मार्च
कारण
फाल्गुन मास का सबसे पवित्र दिन।
उत्सव विधि
होली, होली की तैयारियाँ, भजन, कीर्तन।
महत्वपूर्ण जगह
मथुरा, वृंदावन, उत्तर भारत, श्री कृष्ण मंदिर।
पिछले त्यौहार
8 March 2019

अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!
* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें
🔝