होलिका दहन, धुलण्डी, दूज होली विशेषांक 2021 (Holika Dahan, Dhulendi, Dauj - Holi Specials)

दुनियाँ में रंगों के त्यौहार नाम से प्रसिद्ध, भारत के इस पर्व की सबसे अधिक धूम-धाम, भगवान श्री कृष्ण की नगरी मथुरा-वृंदावन मे होती है।

आइए जानें! भारत मे तीन दिनों तक चलने वाला तथा ब्रजभूमि मे पाँच दिनों तक चलने वाले इस उत्सव से जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ एवं भजन त्वरित(क्विक) लिंक्स...

होली कब, कैसे क्यों और कहाँ?
होली - होलिका दहन, धुलण्डी, दूज

आरती:
आरती कुंजबिहारी की
भगवान श्री चित्रगुप्त जी की आरती
श्री खाटू श्याम जी आरती
ॐ जय जगदीश हरे आरती

मंत्र | नामावली | स्तोत्र | अष्टकम
मधुराष्टकम्: धरं मधुरं वदनं मधुरं
श्री कृष्णाष्टकम् - आदि शंकराचार्य
श्री दशावतार स्तोत्र: प्रलय पयोधि-जले
दैनिक हवन-यज्ञ विधि

होली भजन:
आज बिरज में होरी रे रसिया
होली खेल रहे नंदलाल
फाग खेलन बरसाने आये हैं, नटवर नंद किशोर
अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं
मेरे बांके बिहारी लाल
श्री राम स्तुति

मंदिर:
ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर
द्वारका, गुजरात के विश्व विख्यात मंदिर
दिल्ली के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर

अगला उत्सव, पर्व, व्रत एवं पूजा:
चैत्र नवरात्रिराम नवमी
चेटी चंडमत्स्य जयंती

Holika Dahan, Dhulendi, Dauj - Holi Specials in English

Let's know! Some special information, Aarti and Bhajan quick (quick) links related to Holi festival…

Blogs Holi BlogsHolika Dahan BlogsDulahandi BlogsDuj BlogsHolika BlogsFestival Of Colors Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

गंगा दशहरा 2021

गंगा नदी ब्रह्मा के कमंडल में निवास करती है, भगवान विष्णु के चरणों से निकलती है और भगवान शिव के जट्टा के माध्यम से पृथ्वी पर अवतरित होती है। गंगा जी के इस अवतार दिवस को गंगा दशहरा के नाम से जाना जाता है।

What is the sacredness of Ganga Dussehera?

Ganga Dussehra is a major festival of Hindus. Jyeshtha Shukla Dashami is called Dussehra.

निर्जला एकादशी 2021

सभी व्रतों में निर्जला एकादशी का विशेष महत्व है। इसे सबसे कठिन व्रतों में से एक माना जाता है। इस व्रत में जल ग्रहण अनिवार्य है। इसलिए इसे निर्जला एकादशी कहते हैं।

पूजा की बत्ती बनाने की विधि

पूजा की बत्ती बनाने की विधि | रुई से बत्ती कैसे बनाये? | रुई से बत्ती बनाने की विधि

वैदिक पौराणिक शंख

वैदिक पौराणिक शंख, शंख के नाम एवं प्रकार, शंख की महिमा, भगवान श्रीकृष्ण, अर्जुन, भीमसेन, युधिष्ठिर, नकुल, सहदेव, सहदेव, भीष्म के शंख का क्या नाम था?

राहुकाल क्या होता है?

ग्रहों के गोचर में हर दिन सभी ग्रहों का एक निश्चित समय होता है, इसलिए राहु के लिए भी हर समय एक दिन आता है, जिसे राहु काल कहा जाता है।

पंडित जी, वैशाली गाज़ियाबाद

वैशाली, इंदिरापुरम एवं वसुंधरा क्षेत्र के प्रतिष्ठित पंडित जी से आप भक्ति-भारत के द्वारा सम्पर्क कर सकते हैं।

🔝