भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

टॉप मंदिर

  • ॐकारेश्वर महादेव मंदिर


    ॐकारेश्वर महादेव मंदिर

    ॐकारेश्वर महादेव मंदिर बोरीवली में सबसे पुराने शिव मंदिर में से एक है, और बोरीवली रेलवे स्टेशन के पास भी है।

  • डुल्या मारुति मंदिर

    पेशवा कालीन यह ऐतिहासिक मंदिर सन् 1600 के आस-पास से पूना शहर के गणेशपेठ में स्थित है, जिसे डुल्या मारुति मंदिर के नाम से ख्याति प्राप्त है।

  • श्री अय्यप्पा मंदिर

    श्री अय्यप्पा मंदिर, भगवान गणेश, भगवान अय्यप्पा और माता दुर्गा का पवित्र स्थल है। मंदिर वास्तुकला श्री एदवलम नारायणन नांबुथिरी के मार्गदर्शन के अनुरूप ही हुई है।

  • प्रेम मंदिर

    प्रेम मंदिर भगवान के प्यार का एक स्मारक है। यह भक्ति केंद्र ज्ञान और भक्ति के व्यावहारिक अनुभव के माध्यम से उन सभी को सेवा प्रदान करता है, जो भगवान के प्यार की खोज में आते हैं।

  • रोहिणी कालीबाड़ी

    पेटीएम के डिजिटल डोनेशन बॉक्स (दानपात्र) के उपयोग के साथ रोहिणी कालीबारी मंदिर डिजिटल भारत अभियान का हिस्सा बना हुआ है।

  • श्री जगन्नाथ मंदिर

    जगन्नाथ पूरी की तर्ज पर ही रोहिणी श्री जगन्नाथ मंदिर का निर्माण किया जा रहा है। मंदिर के प्राण प्रतिस्ता का संभावित समय सन् 2018 में माना जा रहा है।

  • श्री श्री राधा माधव मंदिर

    रोहिणी और इसके आस-पास के क्षेत्र के विकाश के साथ लाखों भक्तों की आध्यात्मिक ज्ञान की बढ़ती जरूरत को इस्कॉन रोहिणी प्रतिनिधित्व कर रहा है।

  • श्री बालाजी बाबोसा मंदिर

    श्री बालाजी बाबोसा मंदिर दिल्ली के रोहिणी में स्थित यह मंदिर श्रद्धालुओं के लिए आकर्षण का मुख्य केंद्र बना हुआ है।

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली

ओइम् जय वीणे वाली, मैया जय वीणे वाली, ऋद्धि-सिद्धि की रहती, हाथ तेरे ताली।...

मंत्र: महामृत्युंजय मंत्र, संजीवनी मंत्र, त्रयंबकम मंत्र

मंत्र के 33 अक्षर हैं जो महर्षि वशिष्ठ के अनुसार 33 कोटि(प्रकार)देवताओं के द्योतक हैं।

लिङ्गाष्टकम् - Lingashtakam

ब्रह्ममुरारिसुरार्चितलिङ्गं निर्मलभासितशोभितलिङ्गम्।

माँ सरस्वती! मुझको नवल उत्थान दो।

मुझको नवल उत्थान दो । माँ सरस्वती! वरदान दो ॥ माँ शारदे! हंसासिनी...

हे वीणा वादिनी सरस्वती, हंस वाहिनी..

हे वीणा वादिनी सरस्वती, हंस वाहिनी सरस्वती, विद्या दायिनी सरस्वती...

माँ शारदे कहाँ तू, वीणा बजा रही हैं!

माँ शारदे कहाँ तू, वीणा बजा रही हैं, किस मंजु ज्ञान से तू...

माँ! मुझे तेरी जरूरत है।

माँ ! मुझे तेरी जरूरत है। कब डालोगी, मेरे घर फेरा, तेरे बिन, जी नहीं लगता मेरा...

दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध शिव मंदिर
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध शिव मंदिर

4 मार्च 2019 को आने वाली महा शिवरात्रि इन मंदिरों मे मनाई जाएगी। नई दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के प्रमुख भगवान शिव मंदिर:

दिल्ली और आस-पास के मंदिरों मे शिवरात्रि की धूम-धाम!
दिल्ली और आस-पास के मंदिरों मे शिवरात्रि की धूम-धाम!

4 मार्च 2019 को आने वाली महा शिवरात्रि इन मंदिरों मे मनाई जाएगी।...

मनाएँ शिवरात्रि 101 प्राचीन शिवलिंगों के अभिषेक साथ!
मनाएँ शिवरात्रि 101 प्राचीन शिवलिंगों के अभिषेक साथ!

बाबा बटेश्वरनाथ धाम, बटेश्वर! आगरा जिले मे, आगरा शहर से दूर, भगवान कृष्ण के पैतृक नगर जहाँ उनके पिता बासुदेव जी रहा करते थे। उस प्राचीन नगर मे स्थित है ये 101 शिव मंदिर।

आरती: माँ सरस्वती वंदना

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता, या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना।...

प्रार्थना: दया कर दान विद्या का!

देश के एक हजार से ज्यादा केंद्रीय विद्यालयों, जवाहर नवोदय विद्यालय में बच्चों द्वारा सुबह...

संकट मोचन हनुमानाष्टक

लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर। वज्र देह दानव दलन, जय जय जय कपि सूर ॥

प्रार्थना: वह शक्ति हमें दो दया निधे!

उत्तर प्रदेश के साथ अधिकतर उत्तर भारत के सरकारी स्कूल में 1961 से ही गाई जाने वाली सबसे प्रसिद्ध प्रार्थना। वह शक्ति हमें दो दया निधे...

अथ श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा | बृहस्पतिदेव की कथा

भारतवर्ष में एक राजा राज्य करता था वह बड़ा प्रतापी और दानी था। वह नित्य गरीबों और ब्राह्‌मणों...

श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा 2

बोलो बृहस्पतिदेव की जय। भगवान विष्णु की जय॥ बोलो बृहस्पति देव की जय॥

भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण से छूटे भगवान चित्रगुप्त!

जब भगवान् राम दशानन रावण को मार कर अयोध्या लौट रहे थे, तब उनके खडाऊं को राजसिंहासन पर रख कर राज्य चला रहे राजा भरत...

श्री गंगा चालीसा
श्री गंगा चालीसा

जय जय जननी हराना अघखानी। आनंद करनी गंगा महारानी॥ जय भगीरथी सुरसरि माता।

श्री सूर्य देव चालीसा
श्री सूर्य देव चालीसा

जय सविता जय जयति दिवाकर!, सहस्त्रांशु! सप्ताश्व तिमिरहर॥ भानु! पतंग! मरीची! भास्कर!...

श्री लक्ष्मी चालीसा
श्री लक्ष्मी चालीसा

मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो हृदय में वास। मनोकामना सिद्घ करि, परुवहु मेरी आस॥

शुद्ध भावनाओं से ईश्वर और सुंदर भविष्य पक्का है!

एक मन्दिर था, उसमें सभी लोग पगार पर थे। आरती वाला, पूजा कराने वाला आदमी, घण्टा बजाने वाला भी पगार पर था...

प्रेरक कहानी: बिना श्रद्धा और विश्वास के, गंगा स्नान!

इसी दृष्टांत के अनुसार जो लोग बिना श्रद्धा और विश्वास के केवल दंभ के लिए गंगा स्नान करते हैं उन्हें वास्तविक फल नहीं मिलता परंतु इसका यह मतलब नहीं कि गंगा स्नान व्यर्थ जाता है।

प्रभुकृपा: यही आप से प्रार्थना है।

रात नौ बजे लगभग अचानक मुझे एलर्जी हो गई। घर पर दवाई नहीं, न ही इस समय मेरे अलावा घर में कोई और...

माँ सरस्वती अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली

ॐ सरस्वत्यै नमः। ॐ महाभद्रायै नमः। ॐ महामायायै नमः। ॐ वरप्रदायै नमः। ॐ श्रीप्रदायै नमः।...

श्री महासरस्वती सहस्रनाम स्तोत्रम्!

ध्यानम्: श्रीमच्चन्दनचर्चितोज्ज्वलवपुः शुक्लाम्बरा मल्लिका-मालालालित...

नामावलि: श्री गणेश अष्टोत्तर नामावलि

श्री गणेश के 108 नाम और उनसे जुड़े मंत्र। गजानन- ॐ गजाननाय नमः। गणाध्यक्ष- ॐ गणाध्यक्षाय नमः...

माता सीता अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली

ॐ सीतायै नमः। ॐ जानक्यै नमः। ॐ देव्यै नमः। ॐ वैदेह्यै नमः। ॐ राघवप्रियायै नमः। ॐ रमायै नमः...

मूंग दाल के मगौड़े  बनाने की विधि
मूंग दाल के मगौड़े बनाने की विधि

...डार्क ब्राउन हो जाने के बाद उन्हें एक प्लेट में निकाल लेते हैं इसी प्रकार मिश्रण से सारे मगौड़े बना लेते हैं।

तिल-गुड़ के लड्डू बनाने की विधि
तिल-गुड़ के लड्डू बनाने की विधि

...जब मिश्रण हल्का गरम हो तभी लड्डू बना लें ठंडा होने पर लड्डू नहीं बन पाएँगे।

साबूदाना खिचड़ी बनाने की विधि
साबूदाना खिचड़ी बनाने की विधि

साबूदाना को एक बर्तन में साफ पानी में डाल कर निकाल लेते है धुले हुए साबूदानों को आधा कप पानी डाल कर ५ से६ घंटे के लिए भिगोने रख देते हैं...

close this ads
^
top