Download Bhakti Bharat APP
Aaj Ki Tithi | Today Tithi आज की तिथि
मंत्र - Mantra मंत्र
कथा - Katha कथाएँ
chalisa चालीसा
Bhaktmal" भक्तमाल New
शुभकामना मेसेज 2022 शुभकामना मेसेज
Popular मंदिर
त्योहार 2021 त्योहार
प्रेरक कहानियाँ - Prerak Kahaniyan प्रेरक कहानियाँ
Web Stories वेब स्टोरी
Aaj Ka Vichar | Thought of The Day आज का विचार
भजन - Bhajan Sangeet भजन
आरती  - Aarti, Arti, arati Sangrah आरती
Group of Temples मंदिर-समूह
ISKCON ISKCON
Blogs ब्लॉग
Jainism जैन धर्म
Bhog, Prasad भोग, प्रसाद

अथ श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा | बृहस्पतिदेव की कथा

भारतवर्ष में एक राजा राज्य करता था वह बड़ा प्रतापी और दानी था। वह नित्य गरीबों और ब्राह्‌मणों...

गजेंद्र और ग्राह मुक्ति कथा

संत अनंतकृष्ण बाबा जी के पास एक लड़का सत्संग सुनने के लिए आया करता था। संत से प्रभावित होकर बालक द्वारा दीक्षा के लिए प्रार्थना करने..

मोक्षदा एकादशी व्रत कथा

मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष मे आने वाली इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस दिन गीता जयंती मनाई जाती हैं साथ ही यह धनुर्मास की एकादशी कहलाती हैं..

आदित्य-हृदय स्तोत्र

ततो युद्धपरिश्रान्तं समरे चिन्तया स्थितम् । रावणं चाग्रतो दृष्टवा युद्धाय समुपस्थितम् ॥ दैवतैश्च समागम्य द्रष्टुमभ्यागतो रणम् ।

संकट मोचन हनुमानाष्टक

बाल समय रवि भक्षी लियो तब।.. लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर।...

हनुमान द्वादश नाम स्तोत्रम - मंत्र

हनुमान जी के 12 नाम | हनुमान द्वादश नाम | हनुमानद्वादशनाम स्तोत्र | Hanumaan 12 naam |

श्री कृष्ण चालीसा
श्री कृष्ण चालीसा

बंशी शोभित कर मधुर, नील जलद तन श्याम । अरुण अधर जनु बिम्बफल..

हनुमान चालीसा
हनुमान चालीसा

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर । जय कपीस तिहुँ लोक उजागर ॥ राम दूत अतुलित बल धामा | हनुमान चालीसा लिरिक्स

सूर्य चालीसा
सूर्य चालीसा

जय सविता जय जयति दिवाकर!, सहस्त्रांशु! सप्ताश्व तिमिरहर॥ भानु! पतंग! मरीची! भास्कर!...

सद्गुरु

सद्गुरु भारत के कोयम्बटूर में स्थित ईशा फाउंडेशन के संस्थापक और प्रमुख हैं। ईशा आश्रम आध्यात्मिक, पर्यावरण और शैक्षिक गतिविधियों का एक प्रसिद्ध केंद्र है।

स्वामी प्रणवानंद

स्वामी प्रणवानंद, जिन्हें युगाचार्य श्रीमत स्वामी प्रणवानंद जी महाराज के नाम से भी जाना जाता है, एक हिंदू योगी और संत थे, जिन्होंने भारत सेवाश्रम संघ के नाम से जाने जाने वाले गैर-लाभकारी और आध्यात्मिक संगठन की स्थापना की।

चैतन्य महाप्रभु

चैतन्य महाप्रभु 15वीं शताब्दी के एक भारतीय संत थे, जिन्हें उनके शिष्यों और विभिन्न शास्त्रों द्वारा राधा और कृष्ण का संयुक्त अवतार माना जाता है।

नीब करौरी बाबा

भक्तमाल | नीब करौरी बाबा | अपभ्रंश नाम - नीम करोली बाबा | वास्तविक नाम - लक्ष्मी नारायण शर्मा | आराध्या - श्री हनुमान जी

नोएडा के प्रसिद्ध मंदिर
नोएडा के प्रसिद्ध मंदिर

नोएडा भारत की धार्मिक आस्था के काफी नजदीक जान पड़ता है, आइए जानते हैं यहाँ के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में...

दिल्ली के हनुमान मंदिर
दिल्ली के हनुमान मंदिर

हनुमान जी श्री राम के बहुत बड़े भक्त हैं और भगवान शिव के अवतार हैं। हनुमान जी के माता-पिता का नाम अंजना और केसरी है इसलिए उन्हें अंजनी-पुत्रा और केसरी-नंदन कहा जाता है।

बृजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर
बृजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर

बृजभूमि अथवा ब्रिजभूमि भगवान कृष्ण की बचपन से संबंधित गतिविधियों से जुड़ा क्षेत्र है।

यज्ञ की सच्ची पूर्ण आहुति - प्रेरक कहानी

एक बार युधिष्ठिर ने विधि-विधान से महायज्ञ का आयोजन किया। उसमें दूर-दूर से राजा-महाराजा और विद्वान आए।...

जब चंदन का बाग बना कोयला? - प्रेरक कहानी

एक राजा जो बहुत परोपकारी थे, उनके पास बहुत ही सुन्दर और विशाल चन्दन का बाग था जिससे हर वर्ष उनको सहस्त्रों रूपये का चन्दन अन्य देशावरों को जाता जिससे तेल और इत्र तैयार किये जाते थे..

मुझे वो दो जो तेरा है - प्रेरक कहानी

एक बार गुरु नानक देव जी अपने शिष्यों के साथ एक ऐसे गांव में पहुंचे जहां के लोग साधु-संन्यासी लोगों को बिल्कुल भी पसंद नहीं करते थे...

कपूर जलाने के क्या फायदे हैं?

भारतीय रीति-रिवाजों में कपूर का एक विशेष स्थान है और पूजा के लिए प्रयोग किया जाता है। कपूर का उपयोग आरती और पूजा हवन के लिए भी किया जाता है। हिंदू धर्म में कपूर के इस्तेमाल से देवी-देवताओं को प्रसन्न करने की बात कही गई है।

श्रीमद भगवद गीता पढ़ने का वैज्ञानिक कारण क्या है?

श्रीमद्भगवद्गीता, इस पवित्र ग्रंथ को कम से कम एक बार अवश्य पढ़ना चाहिए। कई मानते हैं कि गीता की शिक्षाओं का भी पालन करना चाहिए। लेकिन कुछ ही लोग गीता के वास्तविक उद्देश्य को पहचान पाते हैं। किसी अन्य पवित्र ग्रंथ की तुलना में खासकर सनातन संस्कृति में गीता पर अधिक जोर क्यों है...

आठ प्रहर क्या है?

हिंदू धर्म के अनुसार दिन और रात को मिलाकर 24 घंटे में आठ प्रहर होते हैं। औसतन एक प्रहर तीन घंटे या साढ़े सात घंटे का होता है, जिसमें दो मुहूर्त होते हैं। एक प्रहर 24 मिनट की एक घाट होती है। कुल आठ प्रहर, दिन के चार और रात के चार।

रुद्राभिषेक क्या है ?

अभिषेक शब्द का शाब्दिक अर्थ है – स्नान कराना। रुद्राभिषेक का अर्थ है भगवान रुद्र का अभिषेक अर्थात शिवलिंग पर रुद्र के मंत्रों के द्वारा अभिषेक करना।

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App