टॉप मंदिर

  • गणेश टेकरी


    गणेश टेकरी

    गणेश टेकरी मंदिर नाथद्वारा के सबसे प्राचीनतम मंदिरों मे से एक है। टेकरी का अर्थ होता है पहाड़ी, अर्थात भगवान श्री गणेश की पहाड़ी। यह मंदिर ही नहीं पूरी की पूरी पहाड़ी ही श्री गणेश को समर्पित है..

  • स्टैच्यू ऑफ बिलीफ

    स्टैच्यू ऑफ बिलीफ 351 फीट ऊँची, भगवान शिव की दुनिया में सबसे बड़ी शिव मूर्ति है। 25 फीट ऊँचे नंदी की स्थापना।

  • औघड़नाथ मंदिर

    मेरठ महानगर में श्री बाबा औघड़नाथ शिव मंदिर एक प्राचीन सिद्धिपीठ है। इस मन्दिर में स्थापित लधुकाय शिवलिंग स्वयंभू, फलप्रदाता तथा मनोकामनायें पूर्ण करने वाले औघड़दानी शिवस्वरूप हैं।

  • बड़ा हनुमान मंदिर

    श्री रमेश्वरदास जी महाराज की प्रेरणा से निर्मित बड़ा हनुमान मंदिर, जिसके प्रांगण मे स्थित है 41 फुट उँची श्री हनुमान जी की विशाल मूर्ति।

  • बौद्ध बिरला मंदिर

    बौद्ध मंदिर का निर्माण लागत राजा सेठ जुगल किशोर बिड़ला की उदारता से दान दी गई भूमि पर हुआ था। जिसे महा बोधि सोसाइटी को सौंप दिया गया था। अतः मंदिर को बौद्ध बिरला मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।

  • साँची स्तूप

    सांची स्तूप को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। यह पहले से ही भारत के सबसे महत्वपूर्ण स्थानों में से एक है।

  • धौलिगिरि शांति स्तूप

    दया नदी के निकट धौलीगिरी शांति स्तूप सम्राट अशोक के कलिंग युद्ध क्षेत्र का सबसे प्रसिद्ध शांति स्तूप है।

श्री गणेश आरती

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥...

श्री हनुमान आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥..

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन: भजन

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन, सुन लो मेरी पुकार । पवनसुत विनती बारम्बार...

भजन: राम का प्यारा है, सिया दुलारा है, हनुमान

राम का प्यारा है, सिया दुलारा है, संकट हारा है, हनुमान II

लाल लंगोटे वाले वीर हनुमान है: भजन

लाल लंगोटे वाले वीर हनुमान है, हनुमान गढ़ी में बैठे, अयोध्या की शान है..

वीरो के भी शिरोमणि, हनुमान जब चले: भजन

वीरो के भी शिरोमणि, बलवान जब चले, हनुमान जब चले

गणेश चालीसा
गणेश चालीसा

जय गणपति सदगुण सदन, कविवर बदन कृपाल। विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥

हनुमान चालीसा
हनुमान चालीसा

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर । जय कपीस तिहुँ लोक उजागर ॥ राम दूत अतुलित बल धामा | हनुमान चालीसा लिरिक्स

शिव चालीसा
शिव चालीसा

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान। कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

दिल्ली के हनुमान बालाजी मंदिर
दिल्ली के हनुमान बालाजी मंदिर

हनुमान जी श्री राम के बहुत बड़े भक्त हैं और भगवान शिव के अवतार हैं। हनुमान जी के माता-पिता का नाम अंजना और केसरी है इसलिए उन्हें अंजनी-पुत्रा और केसरी-नंदन कहा जाता है।

भारत मे बिरला के प्रसिद्ध मंदिर
भारत मे बिरला के प्रसिद्ध मंदिर

बिड़ला मंदिर भारत के पुराने प्रमुख उद्योगपति बिड़ला परिवार द्वारा निर्मित हिंदू मंदिर हैं। बिड़ला मंदिरों की सूची निम्न प्रकार है...

भारत के चार धाम
भारत के चार धाम

आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा परिभाषित चार वैष्णव तीर्थ हैं। बद्रीनाथ धाम, रामेश्वरम धाम, जगन्नाथ धाम, द्वारका धाम...

आखिर कर्म ही महान है: प्रेरक कहानी

बुद्ध का प्रवचन सुनने के लिए गांव के सभी लोग उपस्थित थे, लेकिन वह भक्त ही कहीं दिखाई नहीं दे रहा था।.

जिसका भी मनोबल जागा: प्रेरक कहानी

बचपन से ही उसे इस प्रकार से तैयार किया गया था कि युद्ध में शत्रु सैनिको को देखकर वो उनपर इस तरह टूट पड़ता कि देखते ही देखते शत्रु के पाँव उखड जाते।...

धैर्य से काम लेने मे ही समझदारी है

बात उस समय की है जब महात्मा बुद्ध विश्व भर में भ्रमण करते हुए बौद्ध धर्म का प्रचार कर रहे थे और लोगों को ज्ञान दे रहे थे।..

भारतीय ऋतुएँ

सभी ऋतुओं की बात करें तो एक वर्ष में कुल छह ऋतुएँ होती हैं। इस मामले में, प्रत्येक मौसम की अवधि दो महीने है।

दिवाली विशेष 2022

दीवाली/दीपावली क्यों, कब, कहाँ और कैसे? आरती माँ लक्ष्मीजी, भगवान श्री कुबेर जी की आरती, आरती श्री गणेश जी, आरती श्री रामचन्द्र जी की कीजै, श्री गोवर्धन महाराज आरती

ऑस्ट्रेलिया में प्रसिद्ध हिंदू त्योहार कौन से हैं?

ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों के मुख्य प्रमुख त्योहार दीपावली और अन्नकूट समारोह है हर साल ऑस्ट्रेलियाई संसद भवन, कैनबरा में आयोजित किए जाते हैं। सबसे लोकप्रिय दीवाली सिडनी समारोहों में से एक ऑस्ट्रेलिया की हिंदू परिषद द्वारा आयोजित दीपावली महोत्सव है।

बुद्ध पूर्णिमा की शुभकामनाएँ

बुद्ध पूर्णिमा, बुद्ध जयंती या वेसाक बौद्धों का त्योहार है जो गौतम बुद्ध के जन्म का प्रतीक है। बुद्ध का अर्थ है आत्मज्ञान और मृत्यु। यह अप्रैल या मई में पूर्णिमा के दिन पड़ता है और भारत में यह राजपत्रित अवकाश होता है।

सूजी का हलवा बनाने की विधि
सूजी का हलवा बनाने की विधि

भोग लगाने के लिए सूजी का हलवा तैयार करने के सरल विधि...

सिंघाड़े का हलवा बनाने की विधि
सिंघाड़े का हलवा बनाने की विधि

सिंघाड़े का हलवा बन कर तैयार हो जाता है। कतलियों को अपने स्वादानुसार काजू अथवा बादाम 1-1 चम्मच से सजा लेते हैं।

समा के चावल की खीर बनाने की विधि
समा के चावल की खीर बनाने की विधि

अधिकतम व्रत जिसमें अन्न ग्रहण करना वर्जित होता है, उस व्रत में समा के चावल की खीर का उपयोग किया जाता है। आइए जानें इसे बनाने की विधि...

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App