पितृ पक्ष | शारदीय नवरात्रि | शरद पूर्णिमा | आज का भजन!

टॉप मंदिर

  • भगवान विश्वकर्मा मंदिर


    भगवान विश्वकर्मा मंदिर

    भगवान विश्वकर्मा मंदिर, महाभारत काल के सबसे प्रसिद्ध नवनिर्मित शहर इंद्रप्रस्थ का निर्माण स्थल था। पांडवों ने विश्वकर्मा जी के शिल्प एवं वास्तु ज्ञान की मदद से खांडव वन पर इंद्रप्रस्थ शहर की स्थापना की थी।

  • श्री गुंडिचा मंदिर

    श्री गुंडिचा मंदिर (Odia: ଗୁଣ୍ଡିଚା ମନ୍ଦିର) वार्षिक होने वाले श्री जगन्नाथ रथ यात्रा का अंतिम गंतव्य है। जबकि, श्री जगन्नाथ मंदिर प्रारंभिक स्थान है, इन दोनों मंदिरों को जोड़ती हुई तीन किलोमीटर लम्बी ग्रांड रोड है।

  • इन्द्रद्युम्न सरोवर तीर्थ

    इन्द्रद्युम्न सरोवर तीर्थ पवित्र सरोवर पांच-छः मंदिरों से घिरा हुआ है, एवं गुंडिचा मंदिर से आधा किमी दूर ही स्थित है।

  • श्री पंचमुखी हनुमान मंदिर

    श्री पंचमुखी हनुमान मंदिर लक्ष्मण डुंगरी की तली पर स्थित जाग्रत श्री हनुमान धाम है।

  • श्री विमलाम्बा शक्ति पीठ

    श्री विमलम्बा शक्ति पीठ गोवर्धन मठ के गुरु शंकराचार्य द्वारा प्रतिस्थापन मंदिर है। इस स्थान पर माँ सती की नाभि का रूप में जाना जाता है।

  • जगन्नाथ धाम

    भारत के पूर्व दिशा में स्थित जगन्नाथ धाम को चार वैष्णव धामों में से एक माना जाता है। भारत के चार धाम आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा परिभाषित चार वैष्णव तीर्थ हैं।

  • नोयडा कालीबाड़ी

    नोयडा कालीबाड़ी की परिकल्पना से स्थापना तक पहुँचाने का श्रेय नोएडा बंगाली कल्चरल एसोसिएशन की अथक प्रयासों को ही जाता है। कालीबाड़ी की स्थापना के बाद शिवधाम एवं श्री राधा कृष्णा धाम की भी स्थापना हुई।

  • मंगल महादेव बिरला कानन

    मंगल महादेव बिड़ला कानन का उद्घाटन वर्ष 1994 की महा शिवरात्रि के अवसर पर पूर्व प्रधानमंत्री माननीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा एवं श्री सरल बसंत बिड़ला की उपस्थिति में किया गया।

आरती: श्री विश्वकर्मा जी

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु, जय श्री विश्वकर्मा। सकल सृष्टि के करता, रक्षक स्तुति धर्मा॥

आरती: श्री गणेश जी

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥...

मंत्र: शांति पाठ

ॐ द्यौ: शान्तिरन्तरिक्षँ शान्ति:, पृथ्वी शान्तिराप: शान्तिरोषधय: शान्ति:।...

दैनिक हवन-यज्ञ विधि!

दैनिक हवन-यज्ञ करने की सही और सरल विधि। और जानें मंत्रों का समयानुसार सही उपयोग उनके भावार्थ के साथ...

भजन: कभी धूप कभी छाँव!

सुख दुःख दोनों रहते जिस में, जीवन है वो गाओं, कभी धूप कभी छाँव

भजन: दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले..

दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले, तेरे दुःख दूर करेंगे राम । किये जा तू जग में भलाई का काम, तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।

भजन: भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा!

भारत के लिए भगवन का, एक वरदान है गंगा, सच पूछो तो इस देश की पहचान है गंगा, हर हर गंगे, हर हर गंगे !

भजन: ऐसे मेरे मन में विराजिये!

ऐसे मेरे मन में विराजिये, कि मै भूल जाऊं काम धाम, गाऊं बस तेरा नाम...

दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर!
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर!

दिल्ली और आस-पास के शहर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर।

दिल्ली मे यहाँ विराजमान हैं, श्री गणेश जी!
दिल्ली मे यहाँ विराजमान हैं, श्री गणेश जी!

गणेशोत्सव के लिए दिल्ली और आस-पास के शहर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के इन मंदिरों मे विराजमान हैं श्री गणेश जी।

दिल्ली के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर।
दिल्ली के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर।

दिल्ली और आस-पास के शहर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर...

श्री राम स्तुति: श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन!

श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन हरण भवभय दारुणं। नव कंज लोचन कंज मुख...

जय राम रमा रमनं समनं।

जय राम राम रमनं समनं। भव ताप भयाकुल पाहि जनम॥ अवधेस सुरेस रमेस बिभो।...

प्रार्थना: वह शक्ति हमें दो दया निधे!

उत्तर प्रदेश के साथ अधिकतर उत्तर भारत के सरकारी स्कूल में 1961 से ही गाई जाने वाली सबसे प्रसिद्ध प्रार्थना। वह शक्ति हमें दो दया निधे...

प्रार्थना: दया कर दान विद्या का!

देश के एक हजार से ज्यादा केंद्रीय विद्यालयों, जवाहर नवोदय विद्यालय में बच्चों द्वारा सुबह...

माँ बगलामुखी पौराणिक कथा!

एक बार सतयुग में महाविनाश उत्पन्न करने वाला ब्रह्मांडीय तूफान उत्पन्न हुआ, जिससे संपूर्ण विश्व नष्ट होने लगा इससे चारों ओर हाहाकार मच गया। संसार की रक्षा करना असंभव हो गया...

पार्श्व एकादशी व्रत कथा!

युधिष्ठिर ने कहा हे भगवान! आपने भाद्रपद कृष्ण एकादशी अर्थात अजा एकादशी का सविस्तार वर्णन सुनाया। अब आप कृपा करके मुझे भाद्रपद शुक्ल एकादशी का क्या नाम, इसकी विधि तथा इसका माहात्म्य कहिए।

अजा एकादशी व्रत कथा!

अब आप कृपा करके मुझे भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी के विषय में भी बतलाइये। इस एकादशी का क्या नाम है तथा इसके व्रत का क्या विधान है? इसका व्रत करने से किस फल की प्राप्ति होती है?

ऋषि पंचमी व्रत कथा!

विदर्भ देश में उत्तंक नामक एक सदाचारी ब्राह्मण देव रहते थे। उनकी पत्नी बड़ी पतिव्रता थी, जिसका नाम सुशीला था। उन ब्राह्मण के एक पुत्र तथा एक पुत्री दो संतान थी।

भगवान श्री विश्वकर्मा चालीसा
भगवान श्री विश्वकर्मा चालीसा

श्री विश्वकर्म प्रभु वन्दऊं, चरणकमल धरिध्यान।... जय श्री विश्वकर्म भगवाना। जय विश्वेश्वर कृपा निधाना॥

गणपति श्री गणेश चालीसा
गणपति श्री गणेश चालीसा

जय गणपति सदगुण सदन, कविवर बदन कृपाल। विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥

श्री राम चालीसा
श्री राम चालीसा

श्री रघुबीर भक्त हितकारी । सुनि लीजै प्रभु अरज हमारी ॥ निशि दिन ध्यान धरै जो कोई । ता सम भक्त और नहिं होई ॥

श्री राधा नाम की कीमत

एक बार एक व्यक्ति था। वह एक संत जी के पास गया। और कहता है कि संत जी, मेरा एक बेटा है। वो न तो पूजा पाठ करता है और न ही भगवान का नाम लेता है।

प्रेरक कहानी: तीन गुरु चोर, कुत्ता और छोटा बच्चा

एक दिन एक शिष्य ने महंत से सवाल किया, स्वामीजी आपके गुरु कौन है? मेरे हजारो गुरु हैं! लेकिन फिर भी मै अपने तीन गुरुओ के बारे मे तुम्हे जरुर बताऊंगा...

प्रेरक कहानी: भक्ति का प्रथम मार्ग है, सरलता!

प्रभु बोले भक्त की इच्छा है पूरी तो करनी पड़ेगी। चलो लग जाओ काम से। लक्ष्मण जी ने लकड़ी उठाई, माता सीता आटा सानने लगीं। आज एकादशी है...

नामावलि: श्री गणेश अष्टोत्तर नामावलि

श्री गणेश के 108 नाम और उनसे जुड़े मंत्र। गजानन- ॐ गजाननाय नमः। गणाध्यक्ष- ॐ गणाध्यक्षाय नमः...

मधुराष्टकम्: धरं मधुरं वदनं मधुरं - श्रीवल्लभाचार्य कृत

अधरं मधुरं वदनं मधुरं नयनं मधुरं हसितं मधुरं। हृदयं मधुरं गमनं मधुरं मधुराधिपते रखिलं मधुरं॥

श्री कृष्णाष्टकम्

वसुदॆव सुतं दॆवं कंस चाणूर मर्दनम्। दॆवकी परमानन्दं कृष्णं वन्दॆ जगद्गुरुम्...

॥ श्री शिवसहस्रनामावली ॥

ॐ स्थिराय नमः। ॐ स्थाणवे नमः। ॐ प्रभवे नमः। ॐ भीमाय नमः। ॐ प्रवराय नमः। ॐ वरदाय नमः। ॐ वराय नमः। ॐ सर्वात्मने नमः...

पारंपरिक मोदक बनाने की विधि!
पारंपरिक मोदक बनाने की विधि!

इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान भोग लगाने में किया जाता है, आइए जानते हैं पारंपरिक तरीके से मोदक बनाने की सरल विधि...

बेसन के लड्‍डू बनाने की विधि
बेसन के लड्‍डू बनाने की विधि

बेसन के लड्‍डू गजानन श्री गणेश को अति प्रिय हैं, अतः इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान खूब होता है, आइए जानते हैं इन्हें बनाने की सरल विधि...

केसर मोदक बनाने की विधि
केसर मोदक बनाने की विधि

मोदक श्री गणेश के सबसे प्रिय मिष्ठान हैं, अतः इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान भोग लगाने में किया जाता है, आइए जानते हैं केसर मोदक बनाने की सरल विधि...

top