Next Festival: गोपाष्टमी | तुलसी विवाह | Information: BhaktiBharat.com is now SECURE!

Top Mandirs

  • Shri Sanatan Dharm Mandir


    Shri Sanatan Dharm Mandir

    Residency area of Green Park Block-K, a center of spiritual transformation श्री सनातन धर्म मंदिर (Shri Sanatan Dharm Mandir) dedicated to Purushottam Sri Ramchandra Ji near Green Park metro station.

  • Shri Laxmi Narayan Mandir

    श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर (Shri Laxmi Narayan Mandir) is dedication to Goddess Shri Lakshmiji and her consort Lord Shri Narayan, thus is known as Shri Lakshmi Narayan Mandir. The temple is unique in Northern India due to its white marble, which is of the highest quality from Makarana Rajasthan, and its five sky touching pinnacles which are adorned with gold.

  • Golok Dham

    गोलोक धाम (Golok Dham) established by Jagadguru Shri Kripalu ji Maharaj. One of the famous destination of JKP.

  • Prem Mandir

    प्रेम मंदिर (Prem Mandir) is a monument of God`s love. This devotional centre will serve all who come in search of God`s love, through knowledge and the practical experience of devotion.

  • Bhagwan Valmiki Mandir

    भगवान वाल्मीकि मंदिर (Bhagwan Valmiki Mandir) dedicated to Maharishi Valmiki. Prime Minister Narendra Modi gave a clarion call for a ‘स्वच्छ भारत - Swach Bharat (Clean India)’ on the birth anniversary of the Mahatma Gandhi on 2 October 2014.

आरती: श्री हनुमान जी

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम् ॥
वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं, श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे ॥

आरती: माँ लक्ष्मीजी

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता।
तुमको निसदिन सेवत, हर विष्णु विधाता॥

आरती: माँ महाकाली

जय काली माता, मा जय महा काली माँ।
रतबीजा वध कारिणी माता।
सुरनर मुनि ध्याता, माँ जय महा काली माँ॥...

माता श्री गायत्री जी की आरती

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता।
सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता॥

चालीसा: श्री हनुमान जी

श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि।
बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि॥

श्री लक्ष्मी चालीसा

मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो हृदय में वास।
मनोकामना सिद्घ करि, परुवहु मेरी आस॥

श्री शिव चालीसा

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान। कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

श्री दुर्गा चालीसा

नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥
निरंकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूँ लोक फैली उजियारी॥

मंत्र: शिव तांडव स्तोत्रम्

जटाटवीगलज्जलप्रवाहपावितस्थले
गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजङ्गतुङ्गमालिकाम्।
डमड्डमड्डमड्डमन्निनादवड्डमर्वयं
चकार चण्डताण्डवं तनोतु नः शिवः शिवम्॥१॥

मंत्र: णमोकार महामंत्र

णमो अरिहंताणं, णमो सिद्धाणं, णमो आयरियाणं, णमो उवज्झायाणं, णमो लोए सव्व साहूणं।

मंत्र: माँ गायत्री

इस मंत्र का हिंदी में मतलब है - हे प्रभु, कृपा करके हमारी बुद्धि को उजाला प्रदान कीजिये और हमें धर्म का सही रास्ता दिखाईये। यह मंत्र सूर्य देवता के लिये प्रार्थना रूप से भी माना जाता है।

Card image cap
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर।

दिल्ली और आस-पास के शहर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर।

Card image cap
List Of Famous ISKCON Temples

The International Society for Krishna Consciousness (ISKCON), known colloquially as the Hare Krishna movement or Hare Krishnas, is a Gaudiya Vaishnava religious organisation.

Card image cap
ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर

ब्रजभूमि (Brajbhoomi) or ब्रिजभूमि (Brijbhoomi) is the region related to childhood activities of Lord Krishna. Enriched prosperity of crop and cattles, center of high volume spiritual and cultural activities.

होता है सारे विश्व का, कल्याण यज्ञ से।

होता है सारे विश्व का, कल्याण यज्ञ से।
जल्दी प्रसन्न होते हैं, भगवान् यज्ञ से॥

आ लौट के आजा हनुमान...

आ लौट के आजा हनुमान, तुम्हे श्री राम बुलाते हैं।
जानकी के बसे तुममे प्राण, तुम्हे श्री राम बुलाते हैं॥

रामा रामा रटते रटते, बीती रे उमरिया।

रामा रामा रटते रटते, बीती रे उमरिया।
रघुकुल नंदन कब आओगे, भिलनी की डगरिया॥

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन!

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन, सुन लो मेरी पुकार।
पवनसुत विनती बारम्बार॥

कोयल- अपनी वाणी को मधुर बना लेना।

कुछ देर बैठो, बातें करते हैं.. कौआ- वह जरा जल्दी में है और देश को छोड़कर परदेस जा रहा है।...

देवशिशु ने जगायी सदबुद्धि..

यह घटना १९९० की है, जब मैं परम वन्दनीया माताजी से दीक्षा लेकर पहली बार नवरात्रि अनुष्ठान में था। इससे पहले कि मैं घटना का जिक्र करूँ...

प्रेरक कहानी: अपना मान भले टल जाए, भक्त का मान ना टलने देना।

भक्त के अश्रु से प्रभु के सम्पूर्ण मुखारविंद का मानो अभिषेक हो गया। अद्भुत दशा हुई होगी... ज़रा सोचो! रंगनाथ जी भक्त की इसी दशा का तो आनंद ले रहे थे।

^
top