टॉप मंदिर

  • संतोषी माता मंदिर


    संतोषी माता मंदिर

    हरि नगर के पवित्र माँ संतोषी मंदिर की स्थापना 3 जुलाई 1981 को सतगुरु श्री शमशेर बहादुर सक्सेना जी और उनकी पत्नी सतगुरु माँ श्रीमती कांता सक्सेना जी ने की थी।

  • श्री कालकाजी मंदिर

    माँ आदिशक्ति के काली रूप को समर्पित यह श्री कालकाजी मंदिर, जिसे जयंती पीठ या मनोकामना सिद्ध पीठ भी कहा जाता है।

  • भगवान विश्वकर्मा मंदिर

    भगवान विश्वकर्मा मंदिर, महाभारत काल के सबसे प्रसिद्ध नवनिर्मित शहर इंद्रप्रस्थ का निर्माण स्थल था। पांडवों ने विश्वकर्मा जी के शिल्प एवं वास्तु ज्ञान की मदद से खांडव वन पर इंद्रप्रस्थ शहर की स्थापना की थी।

  • श्री कैलाशपति मंदिर

    20 टन बजन का विशाल, दिल्ली का सबसे बड़ा शिवलिंग श्री कैलाशपति मंदिर के प्रथम पूज्य हैं। इतनी विशाल शिवलिंग को रखने के लिए मंदिर मे विशेष आधारशिला रखी गई है।

  • श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

    श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग नागों के ईश्वर रूप में भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह गुजरात के द्वारका धाम से 17 किलोमीटर बाहरी क्षेत्र की ओर स्थित है।

  • श्री त्रंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग

    श्री त्रंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग तीन छोटे-छोटे लिंग ब्रह्मा, विष्णु और शिव प्रतीक स्वरूप, त्रि-नेत्रों वाले भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है।

  • श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर

    श्री लक्ष्मीनारायण मंदिर नाशिक पंचवटी के तपोवन का एक महत्वपूर्ण मंदिर है। कुम्भ मेले के दौरान प्रशासन द्वारा भी सर्व प्रथम संत, महंतो और महामंडलेश्वरों के रुकने की व्यवस्था इसी मंदिर में की जाती है।

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय सन्तोषी माता!

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता..

भजन: ना जाने कौन से गुण पर, दयानिधि रीझ जाते हैं!

ना जाने कौन से गुण पर, दयानिधि रीझ जाते हैं। यही सद् ग्रंथ कहते हैं, यही हरि भक्त गाते हैं...

भजन: रघुपति राघव राजाराम

रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम ॥ सुंदर विग्रह मेघश्याम, गंगा तुलसी शालग्राम...

भजन: बिनती सुनिए नाथ हमारी..

बिनती सुनिए नाथ हमारी, हृदयष्वर हरी हृदय बिहारी, हृदयष्वर हरी हृदय बिहारी, मोर मुकुट पीतांबर धारी..

सुनो सुनो, एक कहानी सुनो!

सुनो सुनो एक कहानी सुनो, ना राजा की ना रानी की...

दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध मंदिर
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध मंदिर

नई दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के लगभग सभी प्रमुख हिंदू, जैन, सिक्ख और बौद्ध मंदिर। सभी शिव मंदिर, हनुमान मंदिर, गुरुद्वारा, दिगंबर जैन मंदिर, वाल्मीकि मंदिर, इस्कॉन टेंपल, कालीबाड़ी।

प्रसिद्ध जैन मंदिर!
प्रसिद्ध जैन मंदिर!

नई दिल्ली, गाजियाबाद, फिरोज़ाबाद, वहेलना-मुजफ्फरनगर, शौरीपुर-बेटेश्वर और सासनी के प्रमुख जैन मंदिरों की सूची:

दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर!
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर!

दिल्ली और आस-पास के शहर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर।

भजन: जय राम रमा रमनं समनं।

जय राम राम रमनं समनं। भव ताप भयाकुल पाहि जनम॥ अवधेस सुरेस रमेस बिभो।...

प्रार्थना: दया कर दान विद्या का!

देश के एक हजार से ज्यादा केंद्रीय विद्यालयों, जवाहर नवोदय विद्यालय में बच्चों द्वारा सुबह...

संकट मोचन हनुमानाष्टक

बाल समय रवि भक्षी लियो तब।.. लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर।...

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे!

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे, त्वया हिन्दुभूमे सुखं वर्धितोऽहम्...

भगवान श्री विश्वकर्मा चालीसा
भगवान श्री विश्वकर्मा चालीसा

श्री विश्वकर्म प्रभु वन्दऊं, चरणकमल धरिध्यान।... जय श्री विश्वकर्म भगवाना। जय विश्वेश्वर कृपा निधाना॥

श्री शिव चालीसा
श्री शिव चालीसा

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान। कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

श्री राम चालीसा
श्री राम चालीसा

श्री रघुबीर भक्त हितकारी । सुनि लीजै प्रभु अरज हमारी ॥ निशि दिन ध्यान धरै जो कोई । ता सम भक्त और नहिं होई ॥

हमे हर जीव मैं प्रभु नजर आते हैं

जब बच्चे ने ईश्वर के साथ रोटी खाई! एक 6 साल का छोटा सा बच्चा, उसे भगवान् के बारे में कुछ भी पता नही था..

रामायण से, श्री कृष्ण के पंख की कहानी

वनवास के दौरान माता सीताजी को प्यास लगी, तभी श्रीरामजी ने चारों ओर देखा, तो उनको दूर-दूर तक जंगल ही जंगल दिख रहा था। कुदरत से प्रार्थना की, हे वन देवता..

प्रेरक कहानी: भक्ति का प्रथम मार्ग है, सरलता!

प्रभु बोले भक्त की इच्छा है पूरी तो करनी पड़ेगी। चलो लग जाओ काम से। लक्ष्मण जी ने लकड़ी उठाई, माता सीता आटा सानने लगीं। आज एकादशी है...

श्री गुरु अष्टकम

शरीरं सुरुपं तथा वा कलत्रं, यशश्चारू चित्रं धनं मेरुतुल्यम्। मनश्चेन्न लग्नं गुरोरंघ्रिपद्मे, ततः किं ततः किं ततः किं ततः किम्..

शिवाष्ट्कम्: जय शिवशंकर, जय गंगाधर.. पार्वती पति, हर हर शम्भो

जय शिवशंकर, जय गंगाधर, करुणाकर करतार हरे, जय कैलाशी, जय अविनाशी...

श्री शिवमङ्गलाष्टकम्॥

भवाय चन्द्रचूडाय निर्गुणाय गुणात्मने। कालकालाय रुद्राय नीलग्रीवाय मङ्गलम्॥

श्री कृष्णाष्टकम्

वसुदॆव सुतं दॆवं कंस चाणूर मर्दनम्। दॆवकी परमानन्दं कृष्णं वन्दॆ जगद्गुरुम्...

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2020

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | Sunday, 27 September 2020 पद्मिनी एकादशी - Padmini Ekadasi

अधिक मास 2020: 18 सितंबर - 16 अक्टूबर

आधिक मास हिन्दू पंचांग में एक अतिरिक्त माहीने को कहा जाता है। इस वर्ष अर्थात 2020 मे अधिक मास आश्विन-मास के रूप मे 18 सितंबर से शुरू होकर 16 अक्टूबर तक रहेगा।

Sabarimala Temple, Kerala

Sabarimala temple one of the famous temples of India. Millions of people come here every day to visit. Let's know about the history and status of this temple.

World's Longest Vishnu Temple Angkor Wat

Angkor Wat is one of the largest monuments in the world in northern Cambodia. Angkor Wat's temple is located in the city of Karong CM Reap in Cambodia.

बालभोग बनाने की सरल विधि
बालभोग बनाने की सरल विधि

जन्माष्टमी, कथा आदि के बाद प्रसाद के रूप में प्रयोग होने वाले बालभोग को बनाने की सरल विधि..

पंचामृत बनाने की विधि
पंचामृत बनाने की विधि

हिंदू समाज में पूजा के बाद पंचामृत प्रसाद के रूप में दिया जाता है। आइये जानते हैं! पंचामृत बनाने की सरल विधि..

समा के चावल की खीर बनाने की विधि
समा के चावल की खीर बनाने की विधि

अधिकतम व्रत जिसमें अन्न ग्रहण करना वर्जित होता है, उस व्रत में समा के चावल की खीर का उपयोग किया जाता है। आइए जानें इसे बनाने की विधि...

🔝