टॉप मंदिर

  • श्री दादा देव मंदिर


    श्री दादा देव मंदिर

    श्री दादा देव मंदिर पालम, शाहबाद, बागडोला, नासिरपुर, बिंदापुर, डाबड़ी, असालतपुर, उंटाला, मटियाला, बापरोला, पूठकला और नांगलराई गाँवों का ग्राम देवता मंदिर है।..

  • श्री गौरी शंकर मंदिर

    श्री गौरी शंकर मंदिर, भगवान शिव और माँ आदिशक्ति को समर्पित, एक 800 साल पुराना लिंगम है जो भूरे रंग के फल्लस पत्थर से बना है

  • बालाजी धाम मंदिर, इंदिरापुरम

    इंदिरापुरम का सबसे प्रसिद्ध बालाजी मंदिर। मंगलवार एवं शनिवार को भक्तों की संख्या अधिक होती है। सुंदर,आकर्षक एवं मनमोहक विग्रह।

  • सिद्धिदाता मंदिर

    श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर भगवान श्री नारायण एवं उनकी पत्नी देवी श्री लक्ष्मीजी को समर्पित है। मंदिर सफेद रंग के चमकते संगमरमर के कारण उत्तरी भारत में अपनी अद्वितीय आभा के कारण प्रसिद्ध है।

  • बाबा बटेश्वर धाम

    बाबा बटेश्वरनाथ धाम, प्राचीन 101 भगवान शिव मंदिरों की एक श्रृंखला है, इसलिए इसे धाम कहा जाता है।

  • श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

    श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग नागों के ईश्वर रूप में भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह गुजरात के द्वारका धाम से 17 किलोमीटर बाहरी क्षेत्र की ओर स्थित है।

  • श्री मोहन कुंड राधा कृष्ण मंदिर

    श्री मोहन कुंड मंदिर का प्रारम्भ बाबा श्री रामरतन दास जी महाराज द्वारा मोहर कुंड की खुदाई से हुआ, उस समय भगवान श्री कृष्ण अर्थात मोहन को मोहर द्वारा संवोधन किया गया था।

श्री गणेश आरती

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥...

श्री हनुमान जी आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥..

जन्मे अवध रघुरइया हो: भजन

जन्मे अवध रघुरइया हो, सब मंगल मनावो, रूप मे अनूप चारो भइया हो,

गाइये गणपति जगवंदन: भजन

गाइये गणपति जगवंदन । शंकर सुवन भवानी के नंदन ॥ सिद्धि सदन गजवदन विनायक...

शिव स्तुति: आशुतोष शशाँक शेखर

आशुतोष शशाँक शेखर, चन्द्र मौली चिदंबरा, कोटि कोटि प्रणाम शम्भू..

पार्वती तेरा भोला, जगत में: शिव भजन

पार्वती तेरा भोला, जगत में सबसे निराला है । जो मै होती गंगा जैसी..

नोएडा के प्रसिद्ध मंदिर
नोएडा के प्रसिद्ध मंदिर

नोएडा भारत की धार्मिक आस्था के काफी नजदीक जान पड़ता है, आइए जानते हैं यहाँ के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में...

दिल्ली के प्रसिद्ध हनुमान बालाजी मंदिर
दिल्ली के प्रसिद्ध हनुमान बालाजी मंदिर

हनुमान जी श्री राम के बहुत बड़े भक्त हैं और भगवान शिव के अवतार हैं। हनुमान जी के माता-पिता का नाम अंजना और केसरी है इसलिए उन्हें अंजनी-पुत्रा और केसरी-नंदन कहा जाता है।

पुणे शहर के प्रसिद्ध मंदिर
पुणे शहर के प्रसिद्ध मंदिर

मराठा पेशवा विस्तार के दौरान, पुणे में मंदिरों का निर्माण नहीं हुआ। पूणे शहर में मां लक्ष्मी, श्री गणेश और दत्तात्रेय भगवान के मंदिर अत्यधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

गणपति श्री गणेश चालीसा
गणपति श्री गणेश चालीसा

जय गणपति सदगुण सदन, कविवर बदन कृपाल। विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥

श्री हनुमान चालीसा
श्री हनुमान चालीसा

श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि। बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि॥

श्री शिव चालीसा
श्री शिव चालीसा

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान। कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

मानवता भीतर के संस्कारों से पनपती है

श्री टी.एन. शेषन जब मुख्य चुनाव आयुक्त थे, तो परिवार के साथ छुट्टीयां बिताने के लिए मसूरी जा रहे थे। परिवार के साथ उत्तर प्रदेश से निकलते हुऐ रास्ते में..

डमरू बजा, बारिश शुरू हो गई: प्रेरक कहानी

सहज विनोद भाव में बोलीं: प्रभु,आप भी अगर बारह वर्षों के बाद डमरू बजाना भूल गये तो?..

प्रेरक कहानी: गुरु गूंगे, गुरु बावरे, गुरु के रहिये दास! - Guru Purnima Special

गुरु गूंगे गुरु बाबरे गुरु के रहिये दास, गुरु जो भेजे नरक को, स्वर्ग कि रखिये आस!

शकुनि से जुड़ी कुछ जानकारियाँ..

शकुनि के पिता, माता, पत्नी, बेटे का क्या नाम था? युद्ध में सहदेव ने वीरतापूर्वक युद्ध करते हुए शकुनि और उलूक को घायल कर दिया और देखते ही देखते उलूक का वध दिया।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी विशेषांक 2021

आइए जानें! श्री कृष्ण जन्माष्टमी से जुड़ी कुछ जानकारियाँ, प्रसिद्ध भजन एवं सम्वन्धित अन्य प्रेरक तथ्य..

सावन शिवरात्रि विशेषांक 2021

जानें! सावन की शिवरात्रि से जुड़ी कुछ जानकारियाँ एवं सम्वन्धित प्रेरक तथ्य..

क्यों मनाई जाती है गुरु पूर्णिमा?

24 जुलाई, 2021 को गुरु पूर्णिमा मनाया जाएगा। गुरु पूर्णिमा का पबित्र पर्व आषाढ़ मास की पूर्णिमा तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार मनाया जाता है। भारत में इस दिन को बड़ी श्रद्धा के साथ गुरु की पूजा की जाती है।

पंचामृत बनाने की विधि
पंचामृत बनाने की विधि

हिंदू / जैन समाज में पूजा के बाद पंचामृत प्रसाद के रूप में दिया जाता है। आइये जानते हैं! रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने मे सहायक पंचामृत बनाने की सरल विधि..

पारंपरिक मोदक बनाने की विधि!
पारंपरिक मोदक बनाने की विधि!

इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान भोग लगाने में किया जाता है, आइए जानते हैं पारंपरिक तरीके से मोदक बनाने की सरल विधि...

वृंदावन पंचामृत बनाने की विधि
वृंदावन पंचामृत बनाने की विधि

हिंदू / जैन समाज में पूजा के बाद पंचामृत प्रसाद के रूप में दिया जाता है। आइये जानते हैं! रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने मे सहायक पंचामृत बनाने की सरल विधि..

🔝