Download Bhakti Bharat APP
Download APP Now - Hanuman Chalisa - Durga Chalisa - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel -

बरगाभीमा मंदिर - Bargabhima Mandir

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

◉ यह मंदिर देवी काली को समर्पित है और 51वां शक्तिपीठ माना जाता है।
◉ यहां देवी सती का बायां टखना गिरा था।
◉ मंदिर को पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा एक विरासत स्थल घोषित किया गया है।
◉ प्रसिद्ध क्रांतिकारी खुदीराम बोस यहां पूजा करने आते थे।

माँ बर्गाभिमा मंदिर जिसे कपालिनी (भीमरूपा) शक्तिपीठ के नाम से भी जाना जाता है। यह एक प्राचीन हिंदू मंदिर है जो पश्चिम बंगाल के पूर्व मेदिनीपुर जिले के तमलुक में स्थित है। यह मंदिर देवी काली को समर्पित है और इसे मां दुर्गा का 51वां शक्तिपीठ माना जाता है, जहां सती का बायां टखना गिरा था। मंदिर को पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा एक विरासत स्थल घोषित किया गया है। हर साल हजारों भक्त मां काली का आशीर्वाद लेने आते हैं।

बरगाभीमा मंदिर का इतिहास और वास्तुकला
बरगाभीमा मंदिर एक प्राचीन मंदिर है। इस स्थान का उल्लेख महाभारत में उस स्थान के रूप में किया गया है जिसे भीम ने प्राप्त किया था। वर्तमान मंदिर बहुत पुराना नहीं है क्योंकि मध्य युग में बंगाल पर इस्लामी कब्जे के बाद इसका पुनर्निर्माण किया गया था। पुराने बांग्ला साहित्य में मंदिर का उल्लेख कई बार हुआ है। यह मंदिर बंगाली हिंदू और बौद्ध संस्कृति का मिश्रण है। इसी शक्ति परंपरा के कारण मिदनापुर जिले के कई स्वतंत्रता सेनानियों ने यहां शपथ ली कि वे धर्म के मार्ग पर चलेंगे और सशस्त्र क्रांति की मदद से अपनी मातृभूमि को स्वतंत्र कराएंगे। प्रसिद्ध क्रांतिकारी खुदीराम बोस यहां पूजा करने आते थे।

बरगाभीमा मंदिर दर्शन का समय:
बरगाभीमा मंदिर पूरे सप्ताह खुला रहता है और दर्शन का समय सुबह 7 बजे से दोपहर 1:30 बजे और दोपहर 3:30 बजे से शाम 7:30 बजे तक है।

बरगाभीमा मंदिर में प्रमुख त्यौहार
दुर्गा पूजा, बंगाली नव वर्ष और काली पूजा, दिवाली इस मंदिर के प्रमुख त्योहार हैं। इस मंदिर में देवी बरगभिमा के लिए हर रोज प्रसाद तैयार किया जाता है और अधिकांश शक्ति मंदिरों की तरह, देवी का प्रसाद शाकाहारी नहीं होता है। यहां देवी का प्रसाद मांसाहारी है और उनके लिए एक प्रकार की मछली की भोग चढ़ाता है जो कि अनिवार्य है। बलि प्रथा अब समाप्त हो गई है, लेकिन अब यह साल में एक बार होती है।

बरगाभीमा मंदिर तक कैसे पहुँचें?
बरगाभीमा मंदिर, तमलुक स्थान पूर्व मेदिनीपुर जिले में है, जो कोलकाता से लगभग 87.2 किमी, खड़गपुर से 85 किमी दूर है, और NH-6 और दक्षिण पूर्वी रेलवे ट्रैक से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

प्रचलित नाम: Bargabhima Mandir, Kapalini Shaktipeeth, Bhimarupa

समय - Timings

दर्शन समय
7 AM - 7:30 PM
त्योहार
Navratri, Dussehra, Kali Puja, Diwali | यह भी जानें: एकादशी

Bargabhima Mandir in English

Maa Bargabhima Temple also known as Kapalini (Bhimarupa) Shaktipeeth. The temple dedicated to Devi Kali is considered to be the 51st Shaktipeeth of Maa Durga.

जानकारियां - Information

बुनियादी सेवाएं
पेयजल, प्रसाद, सीसीटीवी सुरक्षा, जूता स्टोर, पार्किंग स्थल
समर्पित
माँ काली

क्रमवद्ध - Timeline

7 AM - 7:30 PM

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Kapalini (Bhimarupa) Shaktipeeth Maa Bargabhima Temple Tamluk West Bengal
सोशल मीडिया
Download App
निर्देशांक 🌐
22.2900212°N, 87.9260412°E
बरगाभीमा मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/bargabhima-mandir

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री सत्यनारायण जी आरती

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा। सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा॥

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी - आरती

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

सन्तोषी माता आरती

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता..

×
Bhakti Bharat APP