विवाह पंचमी | आज का भजन!

श्री राधा रानी मंदिर, बरसाना - Shri Radha Rani Mandir, Barsana


Sep 07, 2019 13:43 PM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📜 इतिहास | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ▶ वीडियो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


श्री राधा रानी मंदिर, भानुगढ़ पहाड़ियों की चोटी पर स्थित बरसाने की प्रथम पूज्य `प्रेम की देवी` श्री राधा रानी का पहला मंदिर है। बरसाना राधा रानी की जन्म स्थली है, और वहाँ के लोग उन्हें प्रेम से लाड़लीजी और श्रीजी पुकारते हैं। अतः यह मंदिर श्रीजी मंदिर तथा लाडली सरकार महल के नाम से भी जाना जाता है।

होली और राधाष्टमी लाडली लाल मंदिर के विश्व प्रसिद्ध उत्सव हैं. इन त्यौहारों पर लाखों की संख्या में लाडलीजी भक्त यहाँ दर्शन के लिए पधारते हैं।

प्रचलित नाम: श्रीजी मंदिर, लाडली लाल मंदिर, लाडली सरकार महल

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • विश्व प्रसिद्ध लट्ठमार होली उत्सव।
  • दिव्य प्रेम का प्रमुख केंद्र।
  • 250+ सीढ़ियाँ की चढ़ाई का मंदिर पथ।

समय सारिणी - Timings

दर्शन समय
Summer : 5:00 AM - 1:30 PM, 4:30 PM – 9:00 PMWinter : 6:00 AM - 1:00 PM, 4:30 PM – 8:00 PM
5:00 AM: मंगला आरती
6:00 AM: शरद ऋतु: मंगला आरती
7:30 AM: शृंगार आरती
8:30 AM: शरद ऋतु: शृंगार आरती
1:30 PM: शरद ऋतु: राजभोग
1:30 PM: राजभोग
4:30 PM: Uthapan
6:00 PM: शरद ऋतु: संध्या आरती
7:30 PM: संध्या आरती
8:00 PM: शरद ऋतु: शयन आरती
9:00 PM: शयन आरती

About Temple

अतः इसे वृषभानुपुर ग्राम भी बुलाते हैं। बरसाना राधा के पिता वृषभानु का निवास स्थान था। बरसाने में होली का उत्सव 45 दिनों तक मनाया जाता है. यहां स्थित जिन चार पहाड़ों पर राधा रानी का भानुगढ़, दान गढ़, विलासगढ़ व मानगढ़ हैं, वे ब्रह्मा के चार मुख माने गए हैं। इसी तरह यहां के चारों ओर सुनहरा की जो पहाड़ियां हैं उनके आगे पर्वत शिखर राधा रानी की अष्टसखी रंग देवी, सुदेवी, ललिता, विशाखा, चंपकलता, चित्रा, तुंग विद्या व इंदुलेखा के निवास स्थान हैं। यहां स्थित मोर कुटी, गहवखन व सांकरी खोर आदि भी अत्यंत प्रसिद्ध हैं। सांकरी खोर दो पहाड़ियों के बीच एक संकरा मार्ग है।

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Famous and testy lassi(लस्सी) in kulhad(लस्सी कुल्हड़) available in all seasons. Testy pure milk tea also available at the bottom of the temple.

Famous and testy lassi(लस्सी) in kulhad(लस्सी कुल्हड़) available in all seasons. Testy pure milk tea also available at the bottom of the temple.

Shri Radha Rani Mandir, Barsana in English

Shri Radha Rani Mandir is the first temple of Shrimati Radha Rani on the top of Bhanugarh hills. Barsana is her birth place, people call her Ladliji and Shriji therefore also known as Shriji Temple or Laadli Sarkar Mahal.

जानकारियां - Information

मंत्र
श्री राधे राधे
धाम
Lord Brahma
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Power Backup, Shoe Store, Washrooms, Parking, CCTV Security, Sitting Benches, Music System, Prasad Shop
धर्मार्थ सेवाएं
गौशाला
देख-रेख संस्था
मंदिर प्रबंधक समिति बरसाना
समर्पित
श्री राधा रानी ॥
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध - Timeline

Before 3000 AD

प्रारंभ में राजा वज्रनाभ द्वारा निर्मित।

Samvat 1626

भगवान चैतन्य महाप्रभु के अनुयायी, नारायण भट्ट गोस्वामी ने आषाढ़ शुक्ल द्वितीया को मंदिर का निर्माण किया।

वीडियो प्रदर्शनी - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Laadli Sarkar Mahal Barsana Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Kosi Nandagan Gowardhan Shokha Marg
रेलवे 🚉
Kosi Kalan, Mathura
हवा मार्ग ✈
Pandit Deen Dayal Upadhyay Airport, Agra
नदी ⛵
Yamuna
facebook
Barsana.Temple
निर्देशांक 🌐
27.650123°N, 77.373284°E
श्री राधा रानी मंदिर, बरसाना गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/radha-rani-mandir

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: रघुवर श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै श्री रघुवर जी की, सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥

आरती: श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै रामचन्द्र जी की। हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

top