करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

नगर देवी माँ भद्रकाली मंदिर - Nagar Devi Maa Bhadrakali Mandir


updated: Apr 11, 2019 07:28 AM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📜 इतिहास | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ▶ वीडियो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


जब अहमदाबाद का नाम कार्णावती हुआ करता था, तब से नगर देवी माँ भद्रकाली मंदिर अहमदाबाद के लोगों का संरक्षक बना हुआ है। तब ये मंदिर माणिक चौक पर हुआ करता था। आततायियों की विध्वंशकारी गतिविधियों के कारण मंदिर को काफी हानि हुई। 14वीं शताब्दी मे अहमद शाह ने अहमदाबाद को बसाया, तब उन्होंने अपने किले के बाहर अपने राज पुरोहित की इच्छानुसार मंदिर की स्थापना कुछ एसे करवाई, कि माता की दृष्टि संपूर्ण नगर पर हो। आज भी यह मंदिर उन राज पुरोहित के वंशजों की ही देख-रेख मे है।

अहमदाबाद मे रहिने और आने वाले हर व्यक्ति को माँ की पूजा अथवा ध्यान जरूर करना चाहिए, माँ भद्रकाली नगर देवी होने के कारण यहाँ की रक्षक देवी भी हैं। मंदिर का मुख्य आकर्षण, माँ काली की प्रतिदिन बदलने वाली सवारियाँ, जैसे शेर, हाथी, नंदी, कमल की सवारियाँ है। नगर का व्यापारी वर्ग, माँ के चरणो मे कमल पुष्पअर्पित कर अपने नये कार्य की सुरुआत करते हैं।

हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी जी हर साल नववर्ष के मौके पर मंदिर दर्शन आया करते हैं। मंदिर साल मे दो वार अन्नकुट का आयोजन करता है। शारदीय और चैत्र दोनों नवरात्रि के बाद यहाँ भंडारे का आयोजन होता है। जनवरी के अंतिम सप्ताह मे देवी भागवत का आयोजन होता है। हर रविवार को माई के भोग प्रसाद का वितरण किया जाता है।

मुख्य आकर्षण

  • अहमदाबाद का सबसे पुराना मंदिर।
  • ज्येष्ठ शुक्ल पूर्णिमा और कार्तिक शुक्ल पूर्णिमा पर अन्नकूट का आयोजन।
  • दोनों नवरात्रि के बाद भंडारा।
  • जनवरी के अंतिम सप्ताह में वार्षिक देवी भागवत।
  • हर रविवार को माई का प्रसाद।

समय सारिणी

दर्शन समय
6:00 AM - 11:00 PM
8:30 AM: प्रभात आरती
9:00 PM: संध्या आरती
त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
Bhadrakali temple, one of the most busiest point of Ahmedabad. Busy with mata bhakti and business activities.

Bhadrakali temple, one of the most busiest point of Ahmedabad. Busy with mata bhakti and business activities.

Female police security also available in the temple to handle any undesirable activity. Nearby Mata temple well known in local community. There are few pooja shops available with different variety of utilities.

Female police security also available in the temple to handle any undesirable activity. Nearby Mata temple well known in local community. There are few pooja shops available with different variety of utilities.

Nagar Devi Maa Bhadrakali Mandir - Available in English

Nagar Devi Maa Bhadrakali Mandir is oldest temple, when the name of Ahmedabad used to be Karnavati. At that time, temple was situated on current Manek Chowk.

जानकारियां

धाम
Maa SarswatiMaa AmbeMata LaxmiJogani MaaBaba Shri Bhairav NathMaa KaaliShri HanumanYagyashalaMaa TulsiPeepal TreeBanana Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Shoe Store, Prasad Shop, Cloak Room, Sitting Benches, CCTV Security, Limited Car parking
देख-रेख संस्था
श्री रामबली प्रग तिवारी ट्रस्ट
समर्पित
माँ काली
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध

12th century

पहला मंदिर जब अहमदाबाद का नाम कर्णावती रखा गया था। उस समय मंदिर वर्तमान माणिक चौक पर स्थापित किया गया था।

14th century

मुगल सम्राटों द्वारा कई हमलों के बाद, मंदिर को भद्र किले में अहमद शाह द्वारा पुनर्निर्माण किया गया था।

1920

वर्तमान संरचना रमणानी जी महाराज द्वारा स्थापित की गई थी।

वीडियो प्रदर्शनी

कैसे पहुचें

पता 📧
Bhadra Fort, Bhadra Chowck Ahmedabad Gujarat
सड़क/मार्ग 🚗
Gandhi Road / Bhadra Road
रेलवे 🚉
Ahmedabad Junction
हवा मार्ग ✈
Sardar Vallabhbhai Patel International Airport
नदी ⛵
Sabarmati
वेबसाइट 📡
http://www.bhadrakalimaa.com/
निर्देशांक 🌐
23.024436°N, 72.581681°E
नगर देवी माँ भद्रकाली मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/bhadrakali-mandir-ahmedabad

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय जय तुलसी माता

जय जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब जग की सुख दाता, सबकी वर माता॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

top