अधूरा पुण्य (Adhura Punya)

अधूरा पुण्य

✔ दिनभर पूजा की भोग, फूल, चुनरी, आदि सामिग्री चढ़ाई - पुण्य
✖ पूजा के बाद, गन्दिगी के लिए समान पेड़/नदी के पास फेंक दिया - अधूरा पुण्य
क्या प्रभु आपसे खुश हुए होंगे?

✔ मंदिर गये विधिवत पूजा-अर्चना की - पुण्य
✖ ज़ूते-चप्पल अ-व्यवस्थित जहग उतारे - अधूरा पुण्य

✔ लाखों का निमंत्रण किया, हज़ारों को भोज कराया - पुण्य
✖ और खाना निम्न क्वालिटी का खिलाया, या सफाई का ध्यान नहीं दिया - अधूरा पुण्य

✔ जागरण / भगवत-कथा की, लोगों को भोज कराया - पुण्य
✖ रोड पे टेंट लगा कर लोगों को असुविधा की... टेंट लगाने के लिए रोड पे होल / खुआई की - अधूरा पुण्य

✔ त्योहार मनाए, गिफ्ट और मिठाइयाँ बांटी, लोगों का अभिवादन किया - पुण्य
✖ पटाखे से प्रदूषण किया, गंदगी फैलाई, ट्रॅफिक अव्यवस्था फैलाई - अधूरा पुण्य

✔ आपने भंडारा किया हज़ारों को खाना खिलाया - पुण्य
✖ पर प्लेट्स गंदगी के लिए छोड़ दिए - अधूरा पुण्य

✔ मंदिर गये फूल चढ़ाए, पकवान चढ़ाए - पुण्य
✖ पॉली-बेग, बेकार खाली डब्बे वहीं छोड़ दिए - अधूरा पुण्य
क्या प्रभु आपसे खुश हुए होंगे?

✔ नारियल फोड़े, लोगों मे बाँटे, पूजा की - पुण्य
✖ पर नारियल का कूड़ा वही छोड़ दिया - अधूरा पुण्य

✔ कार छोड़ कर मेट्रो का सफ़र चुना - पुण्य
✖ मेट्रो मे ही खाना पीना शुरू किया - अधूरा पुण्य

✔ जानवरों पे उपकार किया, उनको पाला, सेवा की - पुण्य
✖ पर उनसे सड़क / गली मे गंदगी करा दी - अधूरा पुण्य

अपने पुण्य को अधूरा ना छोडे, पुण्य पूरा ही करें...
स्वच्छ भारत अभियान - (एक नहीं) दो कदम स्वच्छता की ओर !!

Adhura Punya in English

All Day Worship With Bhog, Flowers, Chunri, Etc. - Punya After Worship, Throwing All the Ingredients Under the Tree or River to Create Filthiness - Incomplete Punya

Blogs Punya BlogsSwachh Bharat Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

चुनाव में मंदिर, मठ एवं आश्रमों का महत्व

माना जाता है कि सनातन प्रेमी हर चुनाव में जीत का एक निर्णायक पहलू होते हैं। और इन सनातन प्रेमियों(सनातन प्रेमी वोटर) का केंद्र होते हैं ये मंदिर, मठ एवं आश्रम। राजनीतिक उम्मीदवारों की जीत संख्याबल पर निर्धारित होती है। अतः चुनाव आते ही राजनैतिक उम्मीदवार हिंदू मंदिरों, मठों एवं आश्रमों की तरफ स्वतः ही खिचे चले आते हैं।

महा शिवरात्रि विशेष 2022

1 मार्च 2022 को संपूर्ण भारत मे महा शिवरात्रि का उत्सव बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाएगा। महा शिवरात्रि क्यों, कब, कहाँ और कैसे? | आरती: | चालीसा | मंत्र |नामावली | कथा | मंदिर | भजन

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2022

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | Friday, 28 January 2022 षटतिला एकादशी व्रत कथा - Sat-tila Ekadasi Vrat Kath

ISKCON

ISKCON संप्रदाय के भक्त भगवान श्री कृष्ण को अपना आराध्य मानते हैं। इनके द्वारा गाये जाने वाले भजन, मंत्र एवं गीतों का कुछ संग्रह यहाँ सूचीबद्ध किया गया है, सभी सनातनी परम्परा के भक्त इसका आनंद लें।

ब्रज के भावनात्मक 12 ज्योतिर्लिंग

ब्रजेश्र्वर महादेव: (बरसाना)श्री राधा रानी के पिता भृषभानु जी भानोखर सरोवर मे स्नान करके नित्य ब्रजेश्वर महादेव की पूजा करते थे।

महाशिवरात्रि को महासिद्धिदात्री क्यों कहा जाता है?

महाशिवरात्रि व्रत अत्यंत शुभ और दिव्य है। इससे अनित्य भोग और मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस शिवरात्रि व्रत को व्रतराज के नाम से जाना जाता है। 11 March 2021

क्या है यह मासिक शिवरात्रि?

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, मासिक शिवरात्रि व्रत हर महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है।

मंदिर

Download BhaktiBharat App