Download Bhakti Bharat APP

गणेशोत्सव 2022 (Ganeshotsav 2022)

गणेशोत्सव 2022

गणेश-उत्सव महाराष्ट्र, गुजरात एवं मध्य प्रदेश के कुछ जगहों का सबसे उत्साहित करने वाला प्रसिद्ध त्यौहार है। अब नये भारत मे गणेशोत्सव धीरे-धीरे उत्तर के राज्यों मे भी मनाया जाने लगा है। आइए जानें! श्री गणेशोत्सव, श्री गणेश चतुर्थी, अनंत चतुर्दशी एवं गणपति विसर्जन से जुड़ी कुछ जानकारियाँ, प्रसिद्ध भजन एवं सम्वन्धित अन्य प्रेरक तथ्य..

गणेशोत्सव क्यों कब, कहाँ और कैसे?
श्री गणेश चतुर्थी
अनंत चतुर्दशी / गणपति विसर्जन

गणेशोत्सव आरती:
जय गणेश जय गणेश
शेंदुर लाल चढ़ायो
श्री सिद्धिविनायक मंदिर, मुंबई: जय देव जय देव

श्री गणेश चालीसा:
गणेश चालीसा

गणेशोत्सव मेसेज:
गणेशोत्सव शुभकामना मेसेज

गणेश मंत्र:
वक्रतुण्ड महाकाय! श्री गणेश मंत्र
गणेश शुभ लाभ मंत्र
गणेश अंग पूजा मंत्र
गजाननं भूत गणादि सेवितं
गणनायकाय गणदेवताय गणाध्यक्षाय धीमहि।
श्री गणेशपञ्चरत्नम् - मुदाकरात्तमोदकं
नामावली: श्री गणेश अष्टोत्तर नामावलि
ऋणहर्ता गणेश स्तोत्र
हरिद्रा गणेश कवचम्
संकटनाशन गणेश स्तोत्र - प्रणम्यं शिरसा देव गौरीपुत्रं विनायकम

गणेशोत्सव भजन:
घर में पधारो गजानन जी
गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में
मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे
गाइये गणपति जगवंदन
गौरी के नंदा गजानन, गौरी के नन्दा

श्री गणेश कथा:
अनंत चतुर्दशी की पौराणिक कथा

प्रेरक कहानी:
दद्दा की डेढ़ टिकट
गणेश विनायक जी की कथा
तुलसीदास जी द्वारा श्री रामचरितमानस की रचना

श्री गणेश मंदिर:
पुणे शहर के प्रसिद्ध मंदिर
दिल्ली के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर
श्री सिद्धिविनायक गणपति मंदिर, मुंबई
श्री कसबा गणपति मंदिर, पुणे
दगडूशेठ गणपति मंदिर, पुणे
सारसबाग गणपती मंदिर, पुणे
बंगाली बाबा श्री गणेश मंदिर, जयपुर
श्री सिद्धी गणेश मंदिर, गुरुग्राम
गणेश टेकरी, नाथद्वारा

भोग प्रसाद:
पारंपरिक मोदक बनाने की विधि
बेसन के लड्‍डू बनाने की विधि
मावा के मोदक बनाने की विधि
केसर मोदक बनाने की विधि

ब्लॉग:
संकष्टी चतुर्थी और विनायक चतुर्थी में क्या अंतर है?
बटगणेश मंदिर, पुरी जगन्नाथ मंदिर में गणेश चतुर्थी

Ganeshotsav 2022 in English

Lets know some related information, famous hymns and other inspiring facts related to Ganeshotsav..

Blogs Shri Ganesh BlogsShri Vinayak BlogsGanpati BlogsGanpati Bappa BlogsGaneshotsav BlogsGajanan BlogsGanesh Chaturthi Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

शारदीय नवरात्रि 2022

शारदीय नवरात्रि वर्ष 2022 में 26 सितम्बर से प्रारंभ हो रही है। आइए जानें! ऊर्जा से भरे इस उत्सव के जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ, भजन, मंत्र एवं रोचक कथाएँ त्वरित(quick) लिंक्स के द्वारा...

नवरात्रि स्पेशल: भारत में सात शीर्ष माँ दुर्गा मंदिर

ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा अपने भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए स्वर्ग से आती हैं। नवरात्रि के दौरान, भारत के विभिन्न कोनों में फैले माँ के प्रसिद्ध मंदिरों में कई भक्त एकत्रित होते हैं। आपको बता दें कि वैष्णो देवी के अलावा, माँ दुर्गा के सात मंदिर भी बहुत प्रसिद्ध हैं।

दुर्गा पूजा धुनुची नृत्य

धुनुची नृत्य नाच दुर्गा पूजा के दौरान किया जाने वाला एक भक्ति नृत्य है और यह बंगाल की पारंपरिक नृत्य है। मां दुर्गा को धन्यवाद प्रस्ताव के रूप में पेश किया जाने वाला नृत्य शाम की दुर्गा आरती में ढाक बाजा, उलू ध्वनि की ताल पर किया जाता है।

नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि

नवरात्रि में विधि-विधान से मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इसके साथ ही अष्टमी और नवमी तिथि को बहुत ही खास माना जाता है, क्योंकि इन दिनों कन्या पूजन का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में कन्या की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है। इससे मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

घटस्थापना महोत्सव 2022

घटस्थापना 26 सितंबर 2022 को मनाई जाएगी। यह 9-दिवसीय नवरात्रि उत्सव और दशईं उत्सव के दौरान पालन की जाने वाली एक रस्म है। दशईं त्योहार भारत के पूर्वोत्तर राज्यों और पड़ोसी देश नेपाल में मनाया जाता है। घटस्थापना अनुष्ठान दोनों त्योहारों की शुरुआत का प्रतीक है।

कैसे करें आध्यात्मिक वैष्णो देवी यात्रा?

जय माता दी! की गूंज और पूरी घाटी के खूबसूरत नज़ारों के बीच पवित्र गुफा की चढ़ाई चढ़ते हुए, माता वैष्णो देवी के मंदिर की यात्रा किसी अन्य की तरह एक आध्यात्मिक यात्रा है।

पितृ पक्ष में किन भोजनों से परहेज किया जाता है?

हिंदुओं का मानना ​​है कि पितृ पक्ष मैं श्राद्ध करने से पूर्बजों को मुक्ति मिलती है और प्रसन्न होते हैं। श्राद्ध की रस्में हिंदू परंपराओं के अनुसार बहुत सारे प्रतिबंधों के तहत की जाती हैं। इस दौरान कुछ भोजनों से परहेज किया जाता है।

Durga Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App