श्री रामचरितमानस: अयोध्या काण्ड: पद 103 (Shri Ramcharitmanas: Ayodhya Kand: Pad 103)


Add To Favorites

चौपाई:
तब मज्जनु करि रघुकुलनाथा ।
पूजि पारथिव नायउ माथा ॥
सियँ सुरसरिहि कहेउ कर जोरी ।
मातु मनोरथ पुरउबि मोरी ॥1॥

पति देवर संग कुसल बहोरी ।
आइ करौं जेहिं पूजा तोरी ॥
सुनि सिय बिनय प्रेम रस सानी ।
भइ तब बिमल बारि बर बानी ॥2॥

सुनु रघुबीर प्रिया बैदेही ।
तव प्रभाउ जग बिदित न केही ॥
लोकप होहिं बिलोकत तोरें ।
तोहि सेवहिं सब सिधि कर जोरें ॥3॥

तुम्ह जो हमहि बड़ि बिनय सुनाई ।
कृपा कीन्हि मोहि दीन्हि बड़ाई ॥
तदपि देबि मैं देबि असीसा ।
सफल होपन हित निज बागीसा ॥4॥

दोहा/सोरठा:
प्राननाथ देवर सहित
कुसल कोसला आइ ।
पूजहि सब मनकामना
सुजसु रहिहि जग छाइ ॥103 ॥

यह भी जानें
अर्थात

फिर रघुकुल के स्वामी श्री रामचन्द्रजी ने स्नान करके पार्थिव पूजा की और शिवजी को सिर नवाया। सीताजी ने हाथ जोड़कर गंगाजी से कहा- हे माता! मेरा मनोरथ पूरा कीजिएगा॥1॥

जिससे मैं पति और देवर के साथ कुशलतापूर्वक लौट आकर तुम्हारी पूजा करूँ। सीताजी की प्रेम रस में सनी हुई विनती सुनकर तब गंगाजी के निर्मल जल में से श्रेष्ठ वाणी हुई-॥2॥

हे रघुवीर की प्रियतमा जानकी! सुनो, तुम्हारा प्रभाव जगत में किसे नहीं मालूम है? तुम्हारे (कृपा दृष्टि से) देखते ही लोग लोकपाल हो जाते हैं। सब सिद्धियाँ हाथ जोड़े तुम्हारी सेवा करती हैं॥3॥

तुमने जो मुझको बड़ी विनती सुनाई, यह तो मुझ पर कृपा की और मुझे बड़ाई दी है। तो भी हे देवी! मैं अपनी वाणी सफल होने के लिए तुम्हें आशीर्वाद दूँगी॥4॥

तुम अपने प्राणनाथ और देवर सहित कुशलपूर्वक अयोध्या लौटोगी। तुम्हारी सारी मनःकामनाएँ पूरी होंगी और तुम्हारा सुंदर यश जगतभर में छा जाएगा॥103॥

Granth Ramcharitmanas GranthAyodhya Kand GranthTulsidas Ji Rachit Granth

अगर आपको यह ग्रंथ पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ग्रंथ को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

विनय पत्रिका

गोस्वामी तुलसीदास कृत विनयपत्रिका ब्रज भाषा में रचित है। विनय पत्रिका में विनय के पद है। विनयपत्रिका का एक नाम राम विनयावली भी है।

श्री रामचरितमानस: सुन्दर काण्ड: पद 41

बुध पुरान श्रुति संमत बानी । कही बिभीषन नीति बखानी ॥ सुनत दसानन उठा रिसाई ।..

श्री रामचरितमानस: सुन्दर काण्ड: पद 44

कोटि बिप्र बध लागहिं जाहू । आएँ सरन तजउँ नहिं ताहू ॥ सनमुख होइ जीव मोहि जबहीं ।..

🔝