Hanuman Chalisa

श्री दादा देव मंदिर - Shri Dada Dev Mandir

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • दिल्ली द्वारका के बारह गाँवों के ग्राम देवता।
  • नब्बे के दशक की शुरुआत में मंदिर का नवीनीकरण हुआ।

दिल्ली के द्वारका उप-शहर मे बसे प्राचीन बारह गाँवों श्री दादा देव जी महाराज को अपने ग्राम देवता के रूप में पूजा करते हैं, अतः इन 12 गाँवों के भक्तों ने सम्लित होकर श्री दादा देव मंदिर का निर्माण किया। इन बारह गाँवों के नाम क्रमशः पालम, शाहबाद, बागडोला, नासिरपुर, बिंदापुर, डाबड़ी, असालतपुर, उंटाला, मटियाला, बापरोला, पूठकला और नांगलराई

मंदिर की प्रबंधन समिति द्वारा एक चिकित्सा औषधालय, दिव्यंग बच्चों के लिए एक स्कूल, धर्मशाला एवं चार बड़े सत्संग हॉल का संचालन किया जाता है।

श्री दादा देव मंदिर में पूजा-अर्चना करने के लिए रविवार, मासिक पूर्णिमा एवं अमावस्या अत्यधिक महत्वपूर्ण दिन हैं। मंदिर का पूरा परिसर आठ एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। जिसके अंतर्गत मंदिर परिसर, तालाब एवं मेला क्षेत्र सम्लित है. स्थानीय समुदाय के अनुसार मंदिर के तालाब की मिट्टी त्वचा रोगों को ठीक करने मे सहायक है। शादी के बाद नव विवाहित जोड़ा दादा देव महाराज का आशीर्वाद लेने आता हैं, एवं अपने मंगल जीवन की कामना करते है।

दोहा ध्यान लगाकर हृदय से,
सुमिर श्री दादा देव महाराज ।
मन वांच्छित फल देवन हारे,
सँवारे बिगड़े काज ।
जय-जय दादा देव विधाता,
दीनन के तुम हो सुखदाता ।
टाँक-टोडा से हुआ निकासा,
पालम गाँव में किया निवासा ।
राजस्थान में रामदेव कहे,
पालम में दादा देव काहाए ।
श्वेत अश्व की करे सवारी,
महिमा बहुत अपार तुम्हारी ।

समय - Timings

दर्शन समय
5:30 AM - 1:00 PM, 4:00 PM - 9:00 PM

स्थापना इतिहास

श्री दादा देव महाराज जी एवं पालम की स्थापना का इतिहास:
राजस्थान के टोंक जिले की टोड़ा नामक रियासत के शाही खानदान में राव राजा राय सिंह सोलंकी अपनी पत्नी रानी फूलवती के साथ राज करते थे (विo सo 654 यानी 597 ईo) में विजय दशमी / दशहरे के दिन उनके घर में एक बच्चे का जन्म हुआ जिसका नाम जयदेव रखा गया। ज्योतिषियों के अनुसार बच्चा धार्मिक प्रवरती का होगा उनका ध्यान राजपाट में नहीं लगेगा।

कुछ समय बाद राजा राय सिंह के घर एक और पुत्र का जन्म हुआ जिसका नाम धर्मदेव रखा गया। धर्मदेव राज काज में भाग लेते और जयदेव जी दूर जंगल में एक शिला पे बैठ कर ईश्वर का ध्यान व उपासना करते व ब्रह्मचारी का जीवन व्यतीत करते। समय बीता छोटे भाई की शादी हुई व एक पुत्र हुआ जिसका नाम कर्मचंद हुआ। जयदेव जी अपने घोड़े पर बैठकर जंगल में जाते और शिला पर बैठकर घंटो तपस्या मे लिन रहते। तब लोग उन्हें दादा देव महाराज पुकारने लगे, कहते हैं दादा देव महाराज 120 वर्ष की आयु में ब्रह्मलीन हो गए। समय बदला राजा कर्मचंद पर दूसरे राजाओं ने हमला किया और हार के बाद उन्हें समाज के साथ पलायन करना प़डा।

लेकिन चलने से पहले उन्होंने अपने पूर्वज दादा देव महाराज जिस शिला पर बैठकर ध्यान लगाते थे उस सिला को गाड़ी में साथ रख लिया और 36 बिरादरी के लोगों के साथ वहां से चल पड़े। काफी दिनों के चलने के बाद एक दिन राजा कर्मचंद सो रहे थे कि उन्हें स्वप्न आया और जय दादा देव जी ने उन्हें बताया की मंजिल आने वाली है। जहां पर भी मेरी शिला गाड़ी से अपने आप नीचे आ जाएगी वहीं पर आप लोग बसेरा करेंगे और वह स्थान 5 जून 781 ईo जेष्ठ मास की (शुक्ल पक्ष में) दसवीं विo संवत 838 था। शिला नीचे आई और पालम गांव की स्थापना के साथ-साथ श्री दादा देव मंदिर की स्थापना हुई। तब से आसपास के 12 गांव के लोगों की कमेटी इस मंदिर का संचालन करती है और सभी की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

Shri Dada Dev Mandir in English

Shri Dada Dev Ji Maharaj worshipped in twelve villages (Palam, Shahbad, Bagdola, Nasirpur, Bindapur, Dabri, Asalatpur, Untkala, Matiala, Baprola, Poothkala and Nangalrai) as Gram Devta, therefore devotees built temple called श्री दादा देव मंदिर (Shri Dada Dev Mandir).

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Devotees offer gud ki bheli(गुड़ की भेली) and chaddar as manokamana poorn prashad, around 1500 to 2000 bheli offerd daily in this temple.

Devotees offer gud ki bheli(गुड़ की भेली) and chaddar as manokamana poorn prashad, around 1500 to 2000 bheli offerd daily in this temple.

All gud(गुड़) are donated to Gaushala from Najafgarh, Bawana or Narela. Mustered oil offered to Shri Shani Dev Ji also donated to Gaushala.

All gud(गुड़) are donated to Gaushala from Najafgarh, Bawana or Narela. Mustered oil offered to Shri Shani Dev Ji also donated to Gaushala.

Shiv Mandir decorated with His closest Gan, Naags. Whenever you think about Lord Shiv Naag will be there, therefore with this concept temple`s viman is decorates.

Shiv Mandir decorated with His closest Gan, Naags. Whenever you think about Lord Shiv Naag will be there, therefore with this concept temple`s viman is decorates.

Pratham Shri Ganesha is established at the very first main entry of the temple. HE is the lord of shubh and happiness.

Pratham Shri Ganesha is established at the very first main entry of the temple. HE is the lord of shubh and happiness.

In the vicinity there is a beautiful pond and well maintained garden and a mela ground.

In the vicinity there is a beautiful pond and well maintained garden and a mela ground.

A big main queue hall after inner main gate. This hall direct attached with main prayer hall of Dada Dev Pratima, and beautify with two white elephant.

A big main queue hall after inner main gate. This hall direct attached with main prayer hall of Dada Dev Pratima, and beautify with two white elephant.

The series of four consecutive white colored temples with beautiful side view from main prayer hall side.

The series of four consecutive white colored temples with beautiful side view from main prayer hall side.

A four sided open well maintain Yagya Shala with red colored wall. All rituals related to Agni are initiated from this place.

A four sided open well maintain Yagya Shala with red colored wall. All rituals related to Agni are initiated from this place.

Temple Prabandhak Sabha preserved a Holy Rama Setu(राम सेतु) stone from Rameswaram island to public darshan and devotees pray this stone.

Temple Prabandhak Sabha preserved a Holy Rama Setu(राम सेतु) stone from Rameswaram island to public darshan and devotees pray this stone.

Shikhar of main prayer hall, where Dada Dev is present on Dada Dev shila. This Shikhar is highest one in all supporting temples in premises.

Shikhar of main prayer hall, where Dada Dev is present on Dada Dev shila. This Shikhar is highest one in all supporting temples in premises.

Main entry point of temple via shoe store. Parking, bhandara hall, washrooms Dispensary and Childrens park was visited before entry this gate. Lord Shri Krishna with His cow are present at the top of this gate.

Main entry point of temple via shoe store. Parking, bhandara hall, washrooms Dispensary and Childrens park was visited before entry this gate. Lord Shri Krishna with His cow are present at the top of this gate.

Outer main entry gate of entire temple campus, all prasad and pooja samagri related shop are aligned with this gate. Also well connected with busy market side road.

Outer main entry gate of entire temple campus, all prasad and pooja samagri related shop are aligned with this gate. Also well connected with busy market side road.

Angoor Dane(अंगूर दाने) or Badi Bundi(बड़ी बूंदी) prasad mainly offered to Lord Hanuman ji, Bundi Recipe is gram flour deep fried in desi ghee and dipped in mithi chasni.

Angoor Dane(अंगूर दाने) or Badi Bundi(बड़ी बूंदी) prasad mainly offered to Lord Hanuman ji, Bundi Recipe is gram flour deep fried in desi ghee and dipped in mithi chasni.

Motichoor Ladoo (मोतीचूर के लड्डू) are similar varient of bundi and loved by Lord Ganesh.

Motichoor Ladoo (मोतीचूर के लड्डू) are similar varient of bundi and loved by Lord Ganesh.

Besan ke laddu - बेसन के लड्‍डू made by using gram powder, sugar and bake in Desi ghee. Offered by bhakt to their isht-dev(ईष्ट देव)

Besan ke laddu - बेसन के लड्‍डू made by using gram powder, sugar and bake in Desi ghee. Offered by bhakt to their isht-dev(ईष्ट देव)

जानकारियां - Information

मंत्र
पूजा करो इस देव की, पूर्ण होगी आश। जो आया इस देव पर, गया नहीं निराश।
धाम
Shiv Mandir: Shri Ram FamilyShivling with GanShri Radha KrishnaShri Shani Maharaj
Maa Ka Darbar: Shri VishwakarmaMaa SantoshiShri Jaharveer Ji
Braksh Dev: Peepal TreeBanana TreeMaa Tulasi
बुनियादी सेवाएं
Drinking Water, CCTV Security, Prasad, Puja Samagri, Children Park, 4 Satsang Hall, Solar Light, Shoe Store, Wash Rooms
धर्मार्थ सेवाएं
Medical Dispensary, School for Disabled Children, Mela Ground
संस्थापक
राजा कर्मचंद
स्थापना
781 - 838 AD, 1902(Renovated)
देख-रेख संस्था
श्री दादा देव मंदिर प्रबंधक सभा
समर्पित
श्री दादा देव जी महाराज
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Raj Nagar-II, Palam Colony Dwarka Sector New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Vivekanand Marg >> Dada Dev Mandir Road
रेलवे 🚉
Palam, New Delhi
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Yamuna
सोशल मीडिया
निर्देशांक 🌐
28.581523°N, 77.079337°E
श्री दादा देव मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/dada-dev-mandir

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी - आरती

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

सन्तोषी माता आरती

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता..

श्री बृहस्पति देव की आरती

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा । छिन छिन भोग लगा‌ऊँ..

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App