close this ads

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।


जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी,
तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी।

मांग सिंदूर विराजत, टीको मृगमद को,
उज्ज्वल से दोउ नैना, चंद्रवदन नीको॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै,
रक्तपुष्प गल माला, कंठन पर साजै॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

केहरि वाहन राजत, खड्ग खप्पर धारी,
सुर-नर-मुनिजन सेवत, तिनके दुखहारी॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती,
कोटिक चंद्र दिवाकर, सम राजत ज्योती॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

शुंभ-निशुंभ बिदारे, महिषासुर घाती,
धूम्र विलोचन नैना, निशदिन मदमाती॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

चण्ड-मुण्ड संहारे, शोणित बीज हरे,
मधु-कैटभ दोउ मारे, सुर भयहीन करे॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

ब्रह्माणी, रूद्राणी, तुम कमला रानी,
आगम निगम बखानी, तुम शिव पटरानी॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

चौंसठ योगिनी मंगल गावत, नृत्य करत भैरों,
बाजत ताल मृदंगा, अरू बाजत डमरू॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

तुम ही जग की माता, तुम ही हो भरता,
भक्तन की दुख हरता, सुख संपति करता॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

भुजा चार अति शोभित, खडग खप्पर धारी,
मनवांछित फल पावत, सेवत नर नारी॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

कंचन थाल विराजत, अगर कपूर बाती,
श्रीमालकेतु में राजत, कोटि रतन ज्योती॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

श्री अंबेजी की आरति, जो कोइ नर गावे,
कहत शिवानंद स्वामी, सुख-संपति पावे॥
॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी,
तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी।

Read Also:
» नवरात्रि - Navratri | दुर्गा पूजा - Durga Puja | श्री लक्ष्मी चालीसा |
» दिल्ली के आस-पास माता के प्रसिद्ध मंदिर! | जानें दिल्ली के कालीबाड़ी मंदिरों के बारे मे!
» अम्बे तू है जगदम्बे काली | आरती: श्री पार्वती माँ | आरती: माँ सरस्वती जी

Hindi Version in English

Jai Ambe Gauri Maiya, Jaa Shyama Gauri
Nishdin Tumko Dhyaavat, Hari Brahma Shivji॥

Mang Sinduur Biraajat, Tiko Mrigmadko,
Ujjvalse Dou Naina, Chandravadan Niko॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Kanak Saman Kalevar, Raktambar Raje,
Raktapushp Galmala, Kanthhar Saje॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Kehari Vahan Rajat, Khadg Khappar Dhari
Sur Nar Munijan Sevat, Tinke Dukhahari॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Kanan Kundal Shobhit, Nasagre Moti
Kotik Chandra Divakar, Samrajat Jyoti॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Shumbh- Nishumbh Vidare, Mahishasur Ghatia
Dhumra-Vilochan Naina, Nishdin Madmati॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Chanda-Munda Sanhera, Shonit Beed Hare,
Madhu-Katitabha Mare, Sur Bhayahin Kare॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Brahmani, Rudrani Tum Kamala Rani,
Agam-Nigam Bakhani. Turn Shiv Patrani॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Chaunsath Yogini Gavat, Nritya Karat Bhairon,
Bajat Tab Mridanga, Aur Bajat Damru॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Tum Ho Jag Ki Mata, Tum Hi Ho Bharta,
Bhaktan Ki Dukh Harta, Sukh Sampati Karta॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Bhuja Char Ati Shobhit, Var Mudra Dhari,
Manvanchhit Phal Pavat, Sevat Nar Nari॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Kanchan Thal Virajat, Agaru Kapur Bati
Malketu Men Rajat, Kotiratan Jyoti॥
॥Jai Ambe Gauri...॥

Jai Ambe Gauri Maiya, Jaa Shyama Gauri
Nishdin Tumko Dhyaavat, Hari Brahma Shivji॥

AartiMaa Durga AartiMata AartiMaa Ambe Aarti


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

आरती: श्री गणेश - शेंदुर लाल चढ़ायो!

शेंदुर लाल चढ़ायो अच्छा गजमुखको। दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरिहरको।...

आरती: श्री गणेश जी

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥...

भोग आरती: आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन…

आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन, भिलनी के बैर सुदामा के तंडुल, रूचि रूचि भोग लगाओ प्यारे मोहन…

आरती: श्री बाल कृष्ण जी

आरती बाल कृष्ण की कीजै, अपना जन्म सफल कर लीजै। श्री यशोदा का परम दुलारा...

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

आरती युगलकिशोर की कीजै!

आरती युगलकिशोर की कीजै। तन मन धन न्योछावर कीजै॥ गौरश्याम मुख निरखन लीजै।...

आरती: श्री पार्वती माँ

जय पार्वती माता, जय पार्वती माता, ब्रह्मा सनातन देवी, शुभ फल की दाता...

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती: श्री बृहस्पति देव

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा। छिन छिन भोग लगा‌ऊँ...

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

Latest Mandir

^
top