Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel
Hanuman Chalisa - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Hanuman Chalisa - Om Jai Jagdish Hare Aarti -

गिलहराज हनुमान मंदिर - Gilahraj Hanuman Mandir

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

◉ हनुमान जी को गिलहरी के रूप में पूजा जाता है।
◉ इस मंदिर को ग्रहराज मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।
◉ बजरंगबली को पूरे दिन रोजाना 50-60 चोले चढ़ाए जाते हैं।

गिलहराज जी हनुमान मंदिर, अचल रोड, द्वारिकापुरी, अचल ताल, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश में स्थित है। भारत में श्री राम भक्त हनुमान के कई मंदिर हैं, जिनकी अपनी-अपनी मान्यता और आस्था है। इन मंदिरों में हनुमान जी की अलग-अलग रूपों में पूजा की जाती है। लेकिन अलीगढ़ का यह अकेला ऐसा मंदिर है जो दुनिया में मशहूर है, यहां हनुमान जी की पूजा गिलहरी के रूप में की जाती है। इस मंदिर को ग्रहराज मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।

गिलहराज हनुमान मंदिर का इतिहास और वास्तुकला
गिलहराज हनुमान मंदिर के आसपास 50 से ज्यादा मंदिर हैं, लेकिन गिलहराज जी मंदिर की मान्यता सबसे ज्यादा है। कहा जाता है कि श्री गिलहराज जी महाराज के इस चिन्ह की खोज सबसे पहले पवित्र धनुर्धर 'श्री महेंद्रनाथ योगी जी महाराज' ने की थी जो एक संत थे। माना जाता है कि हनुमान जी को सपने में मिले थे, जब उस महंत ने अपने शिष्य को वहां खोजने के लिए भेजा तो उसे वहां मिट्टी के ढेर पर बहुत सारी गिलहरियां मिलीं, जिन्हें हटाने के बाद जब उन्होंने उस जगह को खोदा तो वहां से मूर्ति निकली। यह मूर्ति गिलहरी के रूप में हनुमान जी की थी। इस मंदिर का निर्माण नाथ संप्रदाय के एक महंत ने करवाया था।

कहा जाता है कि भगवान श्री कृष्ण के भाई दाऊजी महाराज ने सबसे पहले गिलहरी के रूप में हनुमान की पूजा की थी। अचल ताल के मंदिर में पूरे विश्व में खोजा जाने वाला यह एकमात्र प्रतीक है जहां भगवान हनुमान जी की आंख दिखाई देती है। यह मंदिर काफी प्राचीन बताया जाता है।

गिलहराज हनुमान मंदिर दर्शन का समय
गिलहराज हनुमान मंदिर में दर्शन रविवार से सोमवार तक 06:30 - 12:30,16:30 - 22:00 बजे तक दर्शन कर सकते हैं।

❀ कहा जाता है कि इस मंदिर में 41 दिनों तक पूजा करने से कष्ट दूर हो जाते हैं।
❀ यहां के दर्शन करने से ग्रहों के कोप, खासकर शनि के कोप से मुक्ति मिलती है।
❀ मान्यता के अनुसार तो हनुमानजी को एक दिन में एक चोला से ज्यादा नहीं चढ़ाया जाता है, लेकिन यहां बजरंगबली को रोजाना 50-60 चोले पूरे दिन चढ़ाए जाते हैं।

हनुमान जयंती पर यहां दूर-दूर से मंदिर में दर्शन के लिए आने वाले लोगों की भीड़ लगी रहती है। यहां मांगी लड्डू का भोग लगाने से मनोवांछित मनोकामना पूरी होती है। हर मंगलवार और शनिवार को बड़ी संख्या में भक्त मंदिर में पूजा-अर्चना करने आते हैं।

कैसे पहुंचे गिलहराज हनुमान मंदिर
अलीगढ़ शहर सड़क मार्ग द्वारा अन्य शहरों से बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम रेलवे स्टेशन अलीगढ़ रेलवे स्टेशन है और लोग अपने वाहन से भी इस स्थान पर पहुँचते हैं।

प्रचलित नाम: Gilharaj Ji Hanuman Mandir, Graharaj Temple, Hanuman Mandir

समय - Timings

दर्शन समय
06:30 - 12:30,16:30 - 22:00
त्योहार
Hanuman Jayanti | यह भी जानें: एकादशी

Gilahraj Hanuman Mandir in English

Gilharaj Ji Hanuman Mandir is located at Achal Road, Dwarikapuri, Achal Tal, Aligarh, Uttar Pradesh. There are many temples of Shri Ram devotee Hanuman in India, which have their own belief and faith. Hanuman ji is worshiped in different forms in these temples. But this is the only temple of Aligarh which is famous in the world, here Hanuman ji is worshiped in the form of a squirrel.

जानकारियां - Information

बुनियादी सेवाएं
पेयजल, प्रसाद, सीसीटीवी सुरक्षा, जूता स्टोर, पार्किंग स्थल
समर्पित
भगवान हनुमान
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

क्रमवद्ध - Timeline

06:30 - 12:30,16:30 - 22:00

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Achal Road, Dwarikapuri, Achal Tal Aligarh Uttar Pradesh
सोशल मीडिया
निर्देशांक 🌐
27.8784707°N, 78.0728844°E
गिलहराज हनुमान मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/gilahraj-hanuman-mandir

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री बृहस्पति देव की आरती

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा । छिन छिन भोग लगा‌ऊँ..

श्री राम स्तुति

Ram Stuti Lyrics in Hindi and English - श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन हरण भवभय दारुणं। नव कंज लोचन कंज मुख...

ॐ जय जगदीश हरे आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

×
Bhakti Bharat APP