close this ads

श्री पंचमुखी हनुमान मंदिर


updated: Sep 12, 2018 07:00 AM About | Timing | Highlights | History | Photo Gallery | How to Reach | Comments


श्री पंचमुखी हनुमान मंदिर (Shri Panchmukhi Hanuman Mandir) - Laxman Dungri Jaipur, Rajasthan - 302003

श्री पंचमुखी हनुमान मंदिर (Shri Panchmukhi Hanuman Mandir) having all time jagrat Shri Hanuman bhumi at the foot of the Laxman Dungri. Every year during the Bhadrapad month, on the day of Vaman Jayanti, the grand Saints Conference and Bhandara are organized, around 20-25 thousand pilgrims are included in Pangat Parasadi which is also known as Nani Bais Mayra. Hanuman Maharaati is done with 11 thousand lamps on Shri Hanuman Janmotsava. To keep Hanuman Shakti awake all the time, since 1997 continuous recitation of Shri Ram Nam Akhand Sankirtana is done in the temple premises.

On every Tuesday at 7:00 PM, devotees are recited by Shri Hanuman Chalisa, and Sundar Kand Path is organized once a month. There is a staying facility for saints, under which one can meet 20-25 sadhus in the temple for all the time. A small gaushala is also operated by the Temple Management Committee. In the holy month of Shravan, devotees pray Lord Shiva with 1.25 lakhs of Belpatra. On Guru Purnima 5-7 thousand disciples are visited in the temple to meet their Guru Shri Shri 1008 Shri Sitaram Das Ji Maharaj. Know About Temple in Hindi

समय सारिणी

दर्शन समय
5:30 AM - 10:30 PM, 11:00 PM (Tuesday, Saturday)

हिन्दी मे जानें

श्री पंचमुखी हनुमान मंदिर लक्ष्मण डुंगरी की तली पर स्थित जाग्रत श्री हनुमान धाम है। प्रत्येक वर्ष भाद्रपद माह में वामन जयंती के दिन भव्य सन्त सम्मेलन व भंडारे का आयोजित किया जाता है, जिसमें 20 से 25 हजार श्रद्धालु पंगत परसादी में शामिल होते हैं, जिसे नानी बाई का मायरा के नाम से भी जाना जाता है। श्री हनुमान जन्मोत्सव को 11 हजार दीपकों के साथ हनुमान जी की महाआरती की जाती है। हनुमान शक्ति को हर समय जाग्रत रखने हेतु, सन् 1997 से मंदिर परिसर में श्री राम नाम अखंड संकीर्तन का निरंतर पाठ किया जाता है।

हर मंगलवार को सायंकाल 7:00 बजे सामुहिक श्री हनुमान चालिसा का पाठ किया जाता है, और महीने में एक बार सुन्दरकांड का पाठ आयोजित किया जाता है। मंदिर परिसर में साधू - संतों के रुकने की व्यवस्था रखी गई है, जिसके अंतर्गत मंदिर में 20-25 साधुओं का हमेशा सनिद्ध्य प्राप्त किया जा सकता है। मंदिर प्रबन्धन समिति द्वारा एक छोटी गौशाला का भी संचालन किया जाता है। शिव का पवित्र महिना सावन, जिसमें सवा-लाख बेलपत्र की झाँकी सजाई जाती है। मंदिर में गुरु पूणिमा को गुरु पूजन किया जाता है जिसमे 5-7 हजार शिष्यगण गुरु पूजन करने आते हैं।

श्री श्री 1008 श्री सीताराम दास जी

महान संत श्री श्री 1008 श्री सीताराम दास जी महाराज ने 17 सितम्बर 2014 को 46 साल के बाद अन्नग्रहण किया था। पंचमुखी हनुमान मंदिर परिसर के आज की इस विकासमयी यात्रा का श्रेय भी महाराज जी के सनिद्ध्य को ही जाता है। इससे पूर्व महाराज जी बंगाली बाबा श्री गणेश मंदिर परिसर में अपनी सेवाएँ दिया करते थे।

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
Shri Panchmukhi Hanuman Mandir

Shri Panchmukhi Hanuman Mandir

Shri Panchmukhi Hanuman Mandir

Shri Panchmukhi Hanuman Mandir

जानकारियां

धाम
Shri Panchmukhi Hanuman2-Shivling with GanYagyashalaMaa TulsiPeepal TreeVat Vriksh
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Shose Store, Solar Panel, Sitting Benches
धर्मार्थ सेवाएं
Gaushala
स्थापना
1961
देख-रेख संस्था
Shri Panchmukhi Hanuman Seva Samiti
समर्पित
Shri Panchmukhi Hanuman
फोटोग्राफी
Yes (It's not ethical to capture photograph inside the temple when someone engaged in worship! Please also follow temple`s Rules and Tips.)

क्रमवद्ध

1961

Initiation of the temple.

1981

Renovation of the temple by Shri Shri 1008 Shri Sitaram Das Ji Maharaj.

1997

24x7 Shri Ram Naam Sankirtan since 1997.

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: Alwar-Jaipur Road
रेलवे: Jaipur
पता
Laxman Dungri Jaipur, Rajasthan - 302003
संपर्क करें
0141-2632762, 8769255394 - Shri Kamlesh Kumar Jangid
निर्देशांक
26.942057°N, 75.849939°E
श्री पंचमुखी हनुमान मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/panchmukhi-hanuman-mandir-laxman-dungri

अगला मंदिर दर्शन

अन्य पुराने उत्सव

» संत सम्मेलन एवं वार्षिक भंडारा 2018

संत सम्मेलन, वार्षिक भंडारा, भागवत कथा एवं कलश यात्रा के लिए श्री पंचमुखी हनुमान मंदिर आपको सादर आमंत्रित करता है।

13 September 4:00 PM
23rd Kalash Yatra.
14 September 2:00 - 6:00 PM
Daily: Shrimad Bhagwat Katha by Shri Krishn Bhaiyaji.
21 September 8:00 AM
Hawan.
22 September 4:00 - 10:00 PM
Sant Sammelan followed by bhandara.
» Guru Purnima Mahotsav 2018

27 जुलाई 2018 को चंद्रग्रहण होने के कारण गुरु पूजन का समय दोपहर 3 बजे से पहिले रखा गया है। अतः सभी भक्तगण समय पर ही पधरें।

7:30 AM
Shri Hanuman Shringar and Aarti.
7:30 AM - 2:30 PM
Guru Pujan.

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री सूर्य देव - जय जय रविदेव।

जय जय जय रविदेव जय जय जय रविदेव। रजनीपति मदहारी शतलद जीवन दाता॥

श्री सूर्य देव - ऊँ जय कश्यप नन्दन।

ऊँ जय कश्यप नन्दन, प्रभु जय अदिति नन्दन। त्रिभुवन तिमिर निकंदन, भक्त हृदय चन्दन॥

श्री सूर्य देव - ऊँ जय सूर्य भगवान।

ऊँ जय सूर्य भगवान, जय हो दिनकर भगवान। जगत् के नेत्र स्वरूपा, तुम हो त्रिगुण स्वरूपा।

^
top