Hanuman Chalisa

वैष्णो देवी - Vaishno Devi

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

◉ भारत के प्रसिद्ध 10 मंदिरों में से एक।
◉ मुख्य पड़ाव बाण गंगा, अर्धकुमारी, माँ की गुफा, भैरव गुफा।

वैष्णो देवी मंदिर भारत के सबसे लोकप्रिय और माने जाने वाले धार्मिक मंदिर है। जम्मू के त्रिकूट पर्वत पर वैष्णो देवी की भव्य गुफा है और गुफा में प्राकृतिक रूप से तीन पिण्डी बनी हुई है। जिसे वैष्णो माता के रूप में जाना जाता है, जिन्हें देवी महाकाली, महालक्ष्मी और महासरस्वती का अवतार माना जाता है। भारत के बाकी पवित्र स्थलों के साथ वैष्णो देवी का स्थल भी काफी पवित्र माना जाता है, ऐसी मान्यता है कि माता सती का मस्तिष्क इसी स्थान पर गिरा था।

कैसे करे वैष्णो देवी की यात्रा:
मंदिर 5200 फीट की ऊंचाई पर स्थित है और यहां पहुंचने के लिए आपको कटरा से लगभग 13 किमी दूर ट्रेकिंग करनी पड़ती है।
कैसे करें आध्यात्मिक वैष्णो देवी यात्रा? | कैसे रजिस्टर करें वैष्णो देवी दर्शन?

कटरा से पैदल ही वैष्णो देवी मंदिर की चढ़ाई शुरू होती है। जबकि रास्ते में त्रिकुटा पर्वत के पास बाणगंगा नदी है। ऐसा कहा जाता है कि वैष्णो देवी ने जमीन पर बाण चलाकर हनुमान की प्यास बुझाने के लिए गंगा नदी को बहा दिया। हनुमान के गायब होने के बाद, वैष्णो देवी ने पानी में अपने बाल धोए। बाणगंगा नदी को बालगंगा नदी के रूप में भी जाना जाता है। तीर्थयात्रियों को अपनी पवित्रता के लिए बाणगंगा नदी में स्नान करना चाहिए। बाणगंगा के बाद चरण पादुका मंदिर है।

चरण पादुका के दर्शन करने के बाद, तीर्थयात्री अर्धकुंवारी मंदिर में आते हैं। वैष्णो देवी ने इस गुफा में 9 महीने तक तपस्या की, जैसे भैरव नाथ से बचने के लिए एक बच्चा 9 महीने तक अपनी मां के गर्भ में कैसे रहता है। अर्धकुंवारी के दर्शन करने के बाद, तीर्थयात्री भैरव नाथ मंदिर जाते हैं।

ऐसा कहा जाता है कि वैष्णो देवी ने भैरव नाथ को मारने के बाद, भैरव नाथ को अपनी गलती का एहसास हुआ और उन्होंने क्षमा मांगी। वैष्णो देवी ने उन्हें यह कहकर आशीर्वाद दिया कि यदि तीर्थयात्रियों भैरवनाथ के दर्शन नहीं करेंगे तो उनकी तीर्थयात्रा फलदायी नहीं होगी। वैष्णो देवी के मंदिर भवन के साथ तीर्थयात्री भैरवनाथ के सिर के दर्शन करते हैं। तीर्थयात्री 3 पिंडिका (चट्टानों) के दर्शन करने के लिए मंदिर के अंदर जाते हैं जो वैष्णो देवी का प्रतिनिधित्व करते हैं।
वैष्णो देवी के दर्शन करने के लिए हर साल लाखों भक्त आते हैं।

प्रचलित नाम: माता वैष्णो देवी कटरा, वैष्णो देवी गुफा

समय - Timings

दर्शन समय
सही टाइम-टेबल के लिए मंदिर की वेबसाइट पे संपर्क करें।
त्योहार
Navratri | यह भी जानें: मानबसा गुरुवार

वैष्णो माता की पौराणिक कथा

माता वैष्णो देवी का मंदिर काफी प्राचीन है। माना जाता है कि माता वैष्णो देवी ने त्रेता युग में माता पार्वती, सरस्वती और लक्ष्मी के रूप में मानव जाति के कल्याण के लिए एक सुंदर राजकुमारी के रूप में अवतार लिया था। और त्रिकुट पर्वत पर गुफा में तपस्या की। जब समय आया, उनका शरीर तीन दिव्य ऊर्जाओं के सूक्ष्म रूप में विलीन हो गया- महाकाली, महालक्ष्मी और महासरस्वती।

ऐसी मान्यता है कि माता ने इस गुफा में नौ महीने बिताए थे, ठीक वैसे ही जैसे कोई शिशु अपनी मां के गर्भ में रहता है। यहां मां वैष्णो देवी 9 महीने तक भैरो नाथ से छिपी रही थी। इसी वजह से इसे गर्भजून गुफा कहा जाता है और वर्षों से यह माना जाता रहा है कि जो महिलाएं इस गुफा में प्रवेश करती हैं उन्हें प्रसव के दौरान कभी कोई समस्या नहीं होती है।
जय माता दी !

भक्त श्रीधर कथा

ऐसा कहा जाता है कि वैष्णों देवी मंदिर का निर्माण लगभग 700 साल पहले एक ब्राह्मण पुजारी पंडित श्रीधर द्वारा कराया गया था। माता के भक्त जो लगभग सात शताब्दी पहले रहते थे। श्रीधर और उनकी पत्नी देवी मां को पूरी तरह से समर्पित थे। एक बार श्रीधर को सपने में भंडारे करने का आदेश मिला। लेकिन श्रीधर खराब आर्थिक स्थिती के चलते इस बात से चिंतत थे कि वो ये आयोजन कैसे करेंगे। जिसकी चिंता में वे पूरी रात जगे रहें। और फिर सब किस्मत पर छोड़ दिया। सुबह होने पर लोग वहां प्रसाद ग्रहण करने के लिए आने शुरू कर दिए. जिसके बाद उन्होंने देखा कि वैष्णो देवी के रूप में एक छोटी से कन्या उनके कुटिया में पधारी हैं। उनके साथ भंडारा तैयार किया।

और गांव वालों को परोसा, इस प्रसाद को ग्रहण करने के बाद लोगों को संतुष्टि मिली लेकिन वहां मौजूद भैरवनाथ जानवर खाने की मांग की। लेकिन वहां वैष्णो देवी के रूप में एक छोटी कन्या ने श्रीधर की ओर से इसके लिए इंकार कर दिया। जिसके बाद भैरवनाथ ये अपमान सह नहीं पाया। और भैरों ने दिव्य लड़की को पकड़ने की कोशिश की, लेकिन ऐसा करने में विफल रहा। और लड़की गायब हो गई, इस घटना के बाद श्रीधर दुखी हो गए।

उन्होंने अपनी मां के दर्शन करने की लालसा थी। जिसके बाद एक रात, वैष्णो माता ने श्रीधर के सपने में दर्शन दिए और उन्हें त्रिकुटा पर्वत पर एक गुफा का रास्ता दिखाया, जिसमें उनका प्राचीन मंदिर हैं। श्रीधर ने बताए गई बातों के अनुसार, पवित्र तीर्थ की खोज की और अपना जीवन उनकी सेवा में समर्पित कर दिया। जिसके बाद से ही ये मंदिर दुनियाभर में माता वैष्णो देवी के नाम से जाने जाना लगा।
जय माता दी !

Vaishno Devi in English

Vaishno Devi Temple is the most popular and considered religious temple of India. There is a grand cave of Vaishno Devi on the Trikoot parvat of Jammu and there are three pindi naturally made in the cave.

जानकारियां - Information

स्थापना
सतयुग
देख-रेख संस्था
श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड
समर्पित
श्री वैष्णो माँ
वास्तुकला
प्राकृतिक गुफा
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Bhavan Katra Jammu and Kashmir
हवा मार्ग ✈
Sanjhichatt Helipad
नदी ⛵
Ban Ganga
वेबसाइट 📡
सोशल मीडिया
निर्देशांक 🌐
33.029720°N, 74.948131°E
वैष्णो देवी गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/vaishno-devi

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री राम स्तुति

Ram Stuti Lyrics in Hindi and English - श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन हरण भवभय दारुणं। नव कंज लोचन कंज मुख...

खाटू श्याम आरती

ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे॥

हनुमान आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥..

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App