Download Bhakti Bharat APP

How To Register Vaishno Devi Darshan? (कैसे दर्ज करें वैष्णो देवी दर्शन?)

Devotees from all over the world have a different faith in the Mata Vaishno Devi temple. The journey up to the temple is considered one of the most sacred and difficult pilgrimages in the country.

From August 16, the holy journey of mata Vaishno Devi has started once again. Some special rules have also been made to visit the Mata Vaishno Devi to be safe from the corona virus. Only after following these rules will you be allowed to visit Vaishno Devi. Let us know what rules have to be followed while traveling to Vaishno Devi.

Mandatory Online registration

Before traveling to Maa Vaishno Devi, you have to register online. Only those pilgrims can join the journey of Ma Vaishno Devi, who has got registered online.

Only 5000 pilgrims per day

This time only 5000 pilgrims will be allowed to visit in a day. With this, you will also have to come back after seeing in a fixed time. This is being done to protect against the corona virus. This time, devotees will not be allowed to stay in Maa Vaishno's building.

500 outside states pilgrims per day

Only 500 pilgrims from outer states will be able to have darshan of Maa Vaishno Devi in ​​a day. A total of 5000 pilgrims will be allowed to visit in a day, with 4500 pilgrims from Jammu and Kashmir and 500 from outside states.

Below 10 years children not allowed

Children below the age of 10 years will not be allowed to travel in the journey of mata Vaishno Devi. If you are thinking of visiting Maa Vaishno Devi with children then this time you will not get admission. Also, people over 60 years of age and pregnant women will also not be allowed to travel.

Wear mask

In the journey of mata Vaishno Devi, all people will have to wear masks. Corona virus infection can be avoided by wearing a mask. Those who do not wear masks will not be allowed to travel.

Night Darshan Closed

Usually the holy shrine of Maa Vaishno is open at all times, but this time devotees will not be allowed to visit at night. Apart from this, devotees will also not be able to attend the morning aarti of Maa Vaishno Devi.

Covid-19 antigen test for Outsiders

People coming from outside states will have to undergo covid 19 antigen test. Only those whose negative report will be negative will be allowed to visit Maa Vaishno Devi. People coming from covid Red Zone in Jammu and Kashmir will also have to undergo the covid 19 Antigen test.

Only 600 people inside at a time

Only 600 people will be allowed inside the building at a time, including security persons, priests and other service providers. Along with this, social distancing will be fully followed during the journey.

Journey by Horse/Pithu Banned

Generally, those who are unable to walk in the journey of Maa Vaishno used to travel in horse-mules, but this time traveling in horse-mules will not be allowed.

Cleanliness will be taken care of to be safe from the corona. Before entering the temple of Maa Vaishno, hands and feet have to be washed with soap and idols will not be allowed to be touched even during darshan. Along with this, Prasad will also not be given this time.

Bhaktibharat Wishes you Happy Journey, Jai Mata Di.

कैसे दर्ज करें वैष्णो देवी दर्शन? in English

माता वैष्णो की पवित्र यात्रा एक बार फिर से शुरू हो गई है। कोरोना वायरस से सुरक्षित रहने के लिए माता वैष्णो देवी के दर्शन करने के लिए कुछ विशेष नियम भी बनाए गए हैं।
यह भी जानें

Blogs Mata Vaishno Devi BlogsVaishno Devi Yatra BlogsCovid Rules In Vaishno Devi Yatra Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

नर्मदा परिक्रमा यात्रा

हिंदू पुराणों में नर्मदा परिक्रमा यात्रा का बहुत महत्व है। मा नर्मदा, जिसे रीवा नदी के नाम से भी जाना जाता है, पश्चिम की ओर बहने वाली सबसे लंबी नदी है। यह अमरकंटक से निकलती है, फिर ओंकारेश्वर से गुजरती हुई गुजरात में प्रवेश करती है और खंभात की खाड़ी में मिल जाती है।

माघ मास 2023

हिन्दू पंचांग के अनुसार माघ का महीना ग्यारहवां महीना होता है। माघ मास की पूर्णिमा चन्द्रमा और अश्लेषा नक्षत्र में होती है, इसलिए इस मास को माघ मास कहा जाता है। माघ मास में सुख-शांति और समृद्धि के लिए पूजा किया जाता है।

नर्मदा यात्रा में डिजिटल बाबा

प्रसिद्ध डिजिटल बाबा एक युवा संन्यासी हैं जिनका वास्तविक नाम स्वामी राम शंकर है। जो सोशल मीडिया के माध्यम से युवाओं को आध्यात्मिक भारतीय संस्कृति से अवगत कराते रहते हैं। वह युवाओं को जीवन में अध्यात्म का महत्व समझाते रहते हैं। डिजिटल बाबा स्वामी राम शंकर क्षेत्र में सबसे प्रसिद्ध नर्मदा परिक्रमा कर रहे हैं। नर्मदा परिक्रमा के दौरान इस कार्य से जुड़े लोगों के बीच जाकर डिजिटल बाबा सोशल मीडिया के जरिए अपनी पहचान बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

जंगम जोगी

जंगम जोगी, जंगम शब्द का अर्थ एक यात्रा करने वाला जोगी है जो एक स्थान से दूसरे स्थान तक यात्रा करता है और दान द्वारा अपना जीवन यापन करता है। शैव संप्रदाय के ये जोगी भगवान शिव की भक्ति के लिए जाने जाते हैं। जो भगवान शिव की कहानी सुनाती है, जिसमें शिव के विवाह से लेकर उनके अमरनाथ जाने तक की पूरी कहानी को गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करते हैं।

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम मे मंदिरों का योगदान - ब्लॉग

सनातन परंपरा के मुख्य केंद्र मंदिर, इस अभूतपूर्व घटना का साक्षी बनाने से अपने को कैसे रोक पता? आइए जानते हैं किस-किस मंदिर का भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में योगदान रहा।

माता मेलडी

मेलडी माता एक हिंदू देवी है, वह मुख्य रूप से सौराष्ट्र क्षेत्र यानी गुजरात राज्य में प्रसिद्ध है। मां मेलडी दुर्गा का ही स्वरुप हैं। माता गुजरात राज्य में कुछ लोगों के लिए चुनवा दिया कोली के रूप में पूजनीय हैं और कुछ लोगों के लिए गृहदेवता हैं जो खेत की रक्षा करती हैं। कहते हैं मां मेलडी की पूजा से भक्तों को भगवान विष्णु का आशीर्वाद मिलता है, किंवदंती कहती है कि मेलडी माता भक्तों की कोई भी इच्छा पूरी करती हैं।

भारत के टॉप टेन प्रसिद्ध भजन गायक

भजन एक प्रकार का गीत है जिसे भगवान के प्रति सम्मान और भक्ति दिखाने के लिए बजाया जाता है। भजन किसी भी भाषा में हो सकते हैं। कुछ मंत्रों का उच्चारण संगीत के रूप में किया जाता है। भारत में कई प्रसिद्ध हिंदी भजन गायक हैं, जैसे की:

Hanuman Chalisa - Aditya Hridaya Stotra -
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App