Hanuman Chalisa

कनाडा में जन्माष्टमी समारोह (Janmashtami celebrations in Canada)

कनाडा में जन्माष्टमी समारोह

कनाडा में हिंदू समुदाय भगवान श्री कृष्ण (जन्माष्टमी) के जन्म को बड़ी श्रद्धा और उत्साह के साथ मनाते हैं। यह अवसर पारंपरिक रूप से टोरंटो के हरे कृष्ण मंदिर में सबसे बड़ा और भव्य उत्सव है। भक्तों को मूर्तियों के पास जाने और पूजा में भाग लेने की अनुमति है। जन्माष्टमी कनाडा भर में हिंदू समुदाय द्वारा बड़े उत्साह के साथ मनाई जाती है । वे विभिन्न तरीकों से कृष्ण के जन्म का जश्न मनाते हैं और उस दिन भगवान कृष्ण के प्रति अपना प्यार दिखाते हैं। इस साल जन्माष्टमी कनाडा में 19th अगस्त 2022 को मनाई जाएगी।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी पारंपरिक रूप से कनाडा के विभिन्न शहरों के हरे कृष्ण मंदिर में सबसे बड़ा उत्सव है। ऐसे में सभी मंदिरों में विशेष दर्शन कार्यक्रम होते हैं। इसके अतिरिक्त, कनाडा के सभी मंदिरों में शाम 6:00 बजे से मध्यरात्रि तक उत्सव कार्यक्रम होगा! सभी भक्तों के बीच बेहद लोकप्रिय, भक्त किसी भी समय हरे कृष्ण मंदिर में भाग ले सकते हैं। भगवान श्री कृष्ण के पारंपरिक जन्मोत्सव (जन्म समारोह), संगीत, भजन और नृत्य की संगत में श्री कृष्ण की एक बाल मूर्ति को झूले पर सजा कर पारंपरिक जन्मउत्सव की निति पालन किया जाता है।

जन्माष्टमी 2022 तिथि और शुभ मुहूर्त
जन्माष्टमी तिथि: 18 अगस्त 2022, गुरुवार
अष्टमी तिथि का आरंभ: 18 अगस्त, गुरुवार रात्रि 09: 21 मिनट से
अष्टमी तिथि का समाप्त:19 अगस्त, शुक्रवार रात्रि 10:59 मिनट तक

जन्माष्टमी 2022 विशेष मुहूर्त
अभिजीत मुहूर्त 12: 05 मिनट से 12:56 मिनट तक

जन्माष्टमी मनाने के लिए कनाडा के विभिन्न मंदिर:
https://torontokrishna.com/
The Hare Krishna Temple is located at 243 Avenue Road, in Toronto, Ontario, Canada.
https://vancouver.iskcon.ca/
https://en.iskconmontreal.ca/
https://sriradhakrishnatemple.ca/

जन्माष्टमी भजन:
श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी
बाल लीला: राधिका गोरी से बिरज की छोरी से
मेरे बांके बिहारी लाल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार
अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं
छोटी छोटी गैया, छोटे छोटे ग्वाल
सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया
श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम
राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
अरे द्वारपालों कन्हैया से कह दो
कभी राम बनके, कभी श्याम बनके
बड़ी देर भई नंदलाला
कृष्ण भजन

कृष्ण मंत्र:
अच्युतस्याष्टकम्
कमल नेत्र स्तोत्रम्
श्री राधा कृपा कटाक्ष स्त्रोत्र

श्री कृष्ण नामावली:
मधुराष्टकम्: धरं मधुरं वदनं मधुरं
श्री कृष्णाष्टकम्
श्री कृष्णाष्टकम् - आदि शंकराचार्य

श्री कृष्ण कथा:
गोपेश्वर महादेव की लीला
श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा
भागवत कथा प्रसंग: कुंती ने श्रीकृष्ण से दुख क्यों माँगा?

भोग प्रसाद:
पंचामृत बनाने की विधि
मथुरा के पेड़े बनाने की विधि
मखाने की खीर बनाने की विधि
बालभोग बनाने की सरल विधि

Janmashtami celebrations in Canada in English

Janmashtami is celebrated across Canada with great enthusiasm by the Hindu community.
यह भी जानें

Blogs Shri Krishna BlogsJanamsthami In Canada BlogsKrishnabirth Celebration In Toronto 2022 BlogsBrij BlogsBaal Krishna BlogsJanmashtami BlogsLaddu Gopal BlogsBaal Krishna BlogsIskcon Canada BlogsShri Shyam BlogsKhatu Shyam BlogsCanada Janmasthami Utsav Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

अष्ट सिद्धि और नौ निधियों के दाता का क्या अर्थ है?

भगवान श्री राम के प्रिय भक्त प्रभु हनुमान जी को अष्ट सिद्धि और नौ निधि के दाता के रूप में जाना जाता है। हनुमान चालीसा की एक चौपाई भी है “अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता अस बर दीन जानकी माता”। अर्थात हनुमान जी की भक्ति से व्यक्ति के जीवन में आठ प्रकार की सिद्धियाँ और नौ प्रकार की निधियाँ प्राप्त होती हैं।

विजयदशमी स्पेशल

शारदीय नवरात्रि वर्ष 2022 में 26 सितम्बर से प्रारंभ हो रही है। आइए जानें! ऊर्जा से भरे इस उत्सव के जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ, भजन, मंत्र एवं रोचक कथाएँ त्वरित(quick) लिंक्स के द्वारा...

राम नवमी का महत्व क्या है?

राम नवमी को भगवान राम के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

मैसूर दशहरा

मैसूर दशहरा 10 दिनों तक चलने वाला त्योहार है जो बहुत ही धूमधाम के साथ मैसूर में मनाया जाता है | मैसूर दशहरा कैसे मनाया जाता है? | मैसूर दशहरा महोत्सव 2022 कब शुरू होगा

आयुध पूजा

आयुध पूजा बुराई पर अच्छाई की जीत और देवी दुर्गा द्वारा राक्षस महिषासुर के विनाश के उत्सव का प्रतीक है। इसे नवरात्रि उत्सव के हिस्से के रूप में मनाया जाता है। आयुध पूजा के लिए, देवी सरस्वती, पार्वती माता और लक्ष्मी देवी को पूजा जाता है। दक्षिण भारत में विश्वकर्मा पूजा के समान लोग अपने उपकरणों और शस्त्रों की पूजा करते हैं।

कोलकाता का दुर्गा पूजा समारोह

कोलकाता में दुर्गा पूजा उत्सव का माहौल कुछ अलग ही होता है। यहाँ की दुर्गा पूजा विश्व प्रसिद्ध है और इसे 2021 में मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की यूनेस्को की प्रतिनिधि सूची में भी शामिल किया गया था। हर साल, कोलकाता दुर्गा पूजा पंडालों में एक नई थीम लाता है, जो अपने तरीके से अद्वितीय और अभिनव हैं।

नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि

नवरात्रि में विधि-विधान से मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इसके साथ ही अष्टमी और नवमी तिथि को बहुत ही खास माना जाता है, क्योंकि इन दिनों कन्या पूजन का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में कन्या की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है। इससे मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

Durga Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App