Hanuman Chalisa

दही हांडी महोत्सव (Dahi Handi Festival)

दही हांडी महोत्सव

दही हांडी महोत्सव क्या है?
⦿ भगवान श्री कृष्ण का जन्म भाद्र मास की अष्टमी की आधी रात को हुआ था, इस दिन को पूरे देश में धूमधाम से मनाया जाता है।

⦿ देश के विभिन्न राज्यों में इस विशेष अवसर पर दही-हांडी की परंपरा भी निभाई जाती है।

⦿ दही और मक्खन से भरे हांडी को देश भर में अलग-अलग जगहों पर चौराहे पर लटका दिया जाता है।

⦿ इसके बाद गोविंदा एक दूसरे के ऊपर चढ़कर मानव पिरामिड से तोड़ते हैं।

त्योहार कैसे मनाया जाता है?
त्योहार गोकुलाष्टमी, जिसे कृष्ण जन्माष्टमी के नाम से जाना जाता है, कृष्ण के जन्म और दही हांडी उत्सव का जश्न मनाते है। यह दिन गुजरात और महाराष्ट्र में अधिक लोकप्रिय रूप से मनाया जाता है। इस साल 31 अगस्त 2021 को जन्माष्टमी और दही हांडी मनाई जाएगी।

भगवान श्री कृष्ण का जन्म भाद्र मास की अष्टमी को आधी रात को हुआ था, इस दिन को पूरे देश में धूमधाम से मनाया जाता है। देश के विभिन्न राज्यों में इस विशेष अवसर पर दही-हांडी की परंपरा भी निभाई जाती है। देश भर में अलग-अलग जगहों पर दही से भरे दही और मक्खन को चौराहे पर लटका दिया जाता है। इसके बाद गोविंदा एक दूसरे के ऊपर चढ़कर मानव पिरामिड से तोड़ते हैं।

कृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र में माता देवकी के गर्भ से हुआ था। कंस ने माता देवकी और उनके पति वासुदेव को कारागार में रखा। हालाँकि, जेल में डालने से पहले, यह पहले ही कहा जा चुका था कि देवकी और वासुदेव की आठवीं संतान कंस की मृत्यु का कारण बनेगी।

इस आकाशवाणी के बाद से कंस ने एक-एक करके देवकी के सभी बच्चों को मार डाला। जब भगवान कृष्ण आठवें बच्चे के रूप में पैदा हुए, तो वासुदेव किसी तरह उन्हें वहां से सुरक्षित रूप से यशोदा और नंदा को गोकुल ले गए। यहीं से कृष्ण की बाल लीलाएं शुरू हुईं।

भगवान कृष्ण बचपन से ही माखन से प्यार करते हैं। वह अक्सर गोपियों से माखन चुराते थे। इसकी शिकायत गोपियां मां यशोदा से करती थीं। जिसके बाद माता यशोदा अपने कान्हा को समझाती थीं, लेकिन इसका उन पर कोई असर नहीं हुआ।

गोपियों ने अपने माखन मटके को कृष्ण से बचाने के लिए उन्हें ऊंचाई पर लटकाना शुरू कर दिया था, लेकिन कृष्ण अपने दोस्तों के साथ उन मटके तक पहुंच जाते थे। कई बार कृष्ण गोपियों के मटके भी तोड़ देते थे। दही-हांडी त्योहार उनके शरारती बचपन को याद करके मनाया जाता है और कैसे कृष्ण ने एक बच्चे के रूप में मक्खन और अन्य दूध उत्पादों को चुराया (उन्हें माखन चोर भी कहा जाता है)।
गोविंदा!!!

दही हांड़ी भजन:
यगोविंदा आला रे आला
बड़ा नटखट है रे, कृष्ण कन्हैया

आरती कुंजबिहारी की | आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन | श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं | आरती श्री बाल कृष्ण जी की | ॐ जय जगदीश हरे | मधुराष्टकम्: धरं मधुरं वदनं मधुरं | कृष्ण भजन | अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं | श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी

Dahi Handi Festival in English

The festival Gokulashtami, known as Krishna Janmashtami, celebrates Krishna's birth and Dahi Handi celebration.
यह भी जानें

Blogs Dahi Handi Festival BlogsJanmasthami BlogsShri Krishna Janmotsav BlogsGovinda Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

नर्मदा परिक्रमा यात्रा

हिंदू पुराणों में नर्मदा परिक्रमा यात्रा का बहुत महत्व है। मा नर्मदा, जिसे रीवा नदी के नाम से भी जाना जाता है, पश्चिम की ओर बहने वाली सबसे लंबी नदी है। यह अमरकंटक से निकलती है, फिर ओंकारेश्वर से गुजरती हुई गुजरात में प्रवेश करती है और खंभात की खाड़ी में मिल जाती है।

माघ मास 2023

हिन्दू पंचांग के अनुसार माघ का महीना ग्यारहवां महीना होता है। माघ मास की पूर्णिमा चन्द्रमा और अश्लेषा नक्षत्र में होती है, इसलिए इस मास को माघ मास कहा जाता है। माघ मास में सुख-शांति और समृद्धि के लिए पूजा किया जाता है।

नर्मदा यात्रा में डिजिटल बाबा

प्रसिद्ध डिजिटल बाबा एक युवा संन्यासी हैं जिनका वास्तविक नाम स्वामी राम शंकर है। जो सोशल मीडिया के माध्यम से युवाओं को आध्यात्मिक भारतीय संस्कृति से अवगत कराते रहते हैं। वह युवाओं को जीवन में अध्यात्म का महत्व समझाते रहते हैं। डिजिटल बाबा स्वामी राम शंकर क्षेत्र में सबसे प्रसिद्ध नर्मदा परिक्रमा कर रहे हैं। नर्मदा परिक्रमा के दौरान इस कार्य से जुड़े लोगों के बीच जाकर डिजिटल बाबा सोशल मीडिया के जरिए अपनी पहचान बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

जंगम जोगी

जंगम जोगी, जंगम शब्द का अर्थ एक यात्रा करने वाला जोगी है जो एक स्थान से दूसरे स्थान तक यात्रा करता है और दान द्वारा अपना जीवन यापन करता है। शैव संप्रदाय के ये जोगी भगवान शिव की भक्ति के लिए जाने जाते हैं। जो भगवान शिव की कहानी सुनाती है, जिसमें शिव के विवाह से लेकर उनके अमरनाथ जाने तक की पूरी कहानी को गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करते हैं।

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम मे मंदिरों का योगदान - ब्लॉग

सनातन परंपरा के मुख्य केंद्र मंदिर, इस अभूतपूर्व घटना का साक्षी बनाने से अपने को कैसे रोक पता? आइए जानते हैं किस-किस मंदिर का भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में योगदान रहा।

माता मेलडी

मेलडी माता एक हिंदू देवी है, वह मुख्य रूप से सौराष्ट्र क्षेत्र यानी गुजरात राज्य में प्रसिद्ध है। मां मेलडी दुर्गा का ही स्वरुप हैं। माता गुजरात राज्य में कुछ लोगों के लिए चुनवा दिया कोली के रूप में पूजनीय हैं और कुछ लोगों के लिए गृहदेवता हैं जो खेत की रक्षा करती हैं। कहते हैं मां मेलडी की पूजा से भक्तों को भगवान विष्णु का आशीर्वाद मिलता है, किंवदंती कहती है कि मेलडी माता भक्तों की कोई भी इच्छा पूरी करती हैं।

भारत के टॉप टेन प्रसिद्ध भजन गायक

भजन एक प्रकार का गीत है जिसे भगवान के प्रति सम्मान और भक्ति दिखाने के लिए बजाया जाता है। भजन किसी भी भाषा में हो सकते हैं। कुछ मंत्रों का उच्चारण संगीत के रूप में किया जाता है। भारत में कई प्रसिद्ध हिंदी भजन गायक हैं, जैसे की:

Hanuman Chalisa - Shiv Chalisa -
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App