📜गीता जयंती - Gita Jayanti

Gita Jayanti Date: 14 December 2021
गीता जयंती श्रीमद् भगवद् गीता का प्रतीकात्मक जन्म है। यह हिंदू पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष शुक्ल एकादशी पर मनाया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव 2020 कुरुक्षेत्र में 17 से 25 दिसंबर तक आयोजन किया जा रहा है। Live Streaming

गीता जयंती श्रीमद् भगवद् गीता का प्रतीकात्मक जन्म है। यह हिंदू पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष शुक्ल एकादशी पर मनाया जाता है। कुरुक्षेत्र में महाभारत के युद्धक्षेत्र के दौरान भगवान कृष्ण ने अर्जुन को भगवत गीता का ज्ञान दिया था।

गीता पर भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के विचार:
मेरे पास दुनियाँ को देने के लिए इससे अच्छी कोई गिफ्ट नही है,
और न दुनियाँ के पास इससे अच्छी कोई गिफ्ट लेने के लिए है।

संबंधित अन्य नाम
गीता उत्सव, मोक्षदा एकादशी, मत्स्या द्वादशी

Gita Jayanti in English

Gita Jayanti is the symbolic birth of Srimad Bhagvad Gita. It is celebrated on the Margashirsha Shukla Ekadashi as per Hindu panchang. International Gita Mahotsav 2020 held in Kurukshetra from 17th to 25th December. Live Streaming

अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव 2020

17 December 2020
प्रतिदिन केवल ऑनलाइन: कला, शिल्प, व्यंजन, संस्कृति, इतिहास, धरोहर और आध्यात्मिकता के अनोखे संगम के अवसर पर धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्र में 17 से 25 दिसंबर तक आयोजन किया जा रहा है। कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड आपका अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव 2019 में स्वागत करता है।

अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड, हरियाणा पर्यटन, जिला प्रशासन, उत्तरीय सांस्कृतिक केंद्र पटियाला और सूचना और जनसंपर्क विभाग हरियाणा द्वारा आयोजित किया जाता है। गीता महोत्सव में लाखों लोग शिल्प मेला, यज्ञ, गीता पाठ, भजन, आरती, नृत्य, नाटक आदि में सक्रिय रूप से भाग लेते हैं।

श्रीमद् भगवद् गीता

श्रीमद्भागवत गीता में 18 अध्याय और 700 श्लोक हैं, गीता का दूसरा नाम गीतोपनिषद है। भगवत गीता के सभी 18 अध्याय के नाम..

अध्याय १: अर्जुनविषादयोगः - कुरुक्षेत्र के युद्धस्थल में सैन्यनिरीक्षण
अध्याय २: साङ्ख्ययोगः - गीता का सार
अध्याय ३: कर्मयोगः - कर्मयोग
अध्याय ४: ज्ञानकर्मसंन्यासयोगः - दिव्य ज्ञान
अध्याय ५: कर्मसंन्यासयोगः - कर्मयोग-कृष्णभावनाभावित कर्म
अध्याय ६: आत्मसंयमयोगः - ध्यानयोग
अध्याय ७: ज्ञानविज्ञानयोगः - भगवद्ज्ञान
अध्याय ८: अक्षरब्रह्मयोगः - भगवत्प्राप्ति
अध्याय ९: राजविद्याराजगुह्ययोगः - परम गुह्य ज्ञान
अध्याय १०: विभूतियोगः - श्री भगवान् का ऐश्वर्य
अध्याय ११: विश्वरूपदर्शनयोगः - विराट रूप
अध्याय १२: भक्तियोगः - भक्तियोग
अध्याय १३: क्षेत्रक्षेत्रज्ञविभागयोगः - प्रकृति, पुरुष तथा चेतना
अध्याय १४: गुणत्रयविभागयोगः - प्रकृति के तीन गुण
अध्याय १५: पुरुषोत्तमयोगः - पुरुषोत्तम योग
अध्याय १६: दैवासुरसम्पद्विभागयोगः - दैवी तथा आसुरी स्वभाव
अध्याय १७: श्रद्धात्रयविभागयोगः - श्रद्धा के विभाग
अध्याय १८: मोक्षसंन्यासयोगः - उपसंहार-संन्यास की सिद्धि

भगवत गीता का प्रथम श्लोक:
धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे् समवेता युयुत्सवः ।
मामकाः पाण्डवाश्चैव किमकुर्वत संजय ॥१॥

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
3 December 202222 December 202311 December 20241 December 2025
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
मार्गशीर्ष शुक्ल एकादशी
समाप्ति तिथि
मार्गशीर्ष शुक्ल एकादशी
महीना
नवंबर / दिसंबर
कारण
श्रीमद भगवद गीता का प्रतीकात्मक जन्म।
उत्सव विधि
गीता पाठ, गीता की पुस्तक दान, गीता पुस्तक मेला।
महत्वपूर्ण जगह
कुरुक्षेत्र, श्री कृष्ण मंदिर, इस्कॉन मंदिर।
पिछले त्यौहार
25 December 2020, 8 December 2019
अगर आपको यह त्यौहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्यौहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

मंदिर

🔝