श्रीमद्‍भगवद्‍गीता: अनुक्रमणिका (Shrimad Bhagwat Geeta: Index)


अध्याय १: अर्जुनविषादयोगः - कुरुक्षेत्र के युद्धस्थल में सैन्यनिरीक्षण
अध्याय २: साङ्ख्ययोगः - गीता का सार
अध्याय ३: कर्मयोगः - कर्मयोग
अध्याय ४: ज्ञानकर्मसंन्यासयोगः - दिव्य ज्ञान
अध्याय ५: कर्मसंन्यासयोगः - कर्मयोग-कृष्णभावनाभावित कर्म
अध्याय ६: आत्मसंयमयोगः - ध्यानयोग
अध्याय ७: ज्ञानविज्ञानयोगः - भगवद्ज्ञान
अध्याय ८: अक्षरब्रह्मयोगः - भगवत्प्राप्ति
अध्याय ९: राजविद्याराजगुह्ययोगः - परम गुह्य ज्ञान
अध्याय १०: विभूतियोगः - श्री भगवान् का ऐश्वर्य
अध्याय ११: विश्वरूपदर्शनयोगः - विराट रूप
अध्याय १२: भक्तियोगः - भक्तियोग
अध्याय १३: क्षेत्रक्षेत्रज्ञविभागयोगः - प्रकृति, पुरुष तथा चेतना
अध्याय १४: गुणत्रयविभागयोगः - प्रकृति के तीन गुण
अध्याय १५: पुरुषोत्तमयोगः - पुरुषोत्तम योग
अध्याय १६: दैवासुरसम्पद्विभागयोगः - दैवी तथा आसुरी स्वभाव
अध्याय १७: श्रद्धात्रयविभागयोगः - श्रद्धा के विभाग
अध्याय १८: मोक्षसंन्यासयोगः - उपसंहार-संन्यास की सिद्धि

यह भी जानें

अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

🔝