📿ऋषि पंचमी - Rishi Panchami

आने वाले त्यौहार: 12 September 2021
ऋषि पंचमी व्रत का महत्व हिन्दू धर्म में दोषों से मुक्त होने के लिए किया जाता हैं। यह एक त्यौहार नहीं अपितु एक व्रत हैं, इस व्रत में सप्त-ऋषियों की पूजा-अर्चना की जाती हैं।

ऋषि पंचमी व्रत का महत्व हिन्दू धर्म में दोषों से मुक्त होने के लिए किया जाता हैं। यह एक त्यौहार नहीं अपितु एक व्रत हैं, इस व्रत में सप्त-ऋषियों की पूजा-अर्चना की जाती हैं। हिन्दू धर्म में माहवारी के समय, स्त्रियों द्वारा बहुत से नियम नियमों का पालन किया जाता हैं। अगर गलती वश इस समय में कोई चूक हो जाती हैं, तो महिलाओं को दोष मुक्त करने के लिए ऋषि पंचमी का व्रत किया जाता है।

सप्त ऋषि ऋषियों के नाम क्रमश इस प्रकार हैं:
कश्यप, अत्रि, भारद्वाज, विश्वामित्र, गौतम, जमदग्नि, वशिष्ठ

ऋषि पंचमी व्रत भाद्रपद माह की शुक्ल पंचमी के दिन किया जाता है। सामान्यतः यह व्रत अगस्त अथवा सितम्बर माह में आता है। यह व्रत गणेश चतुर्थी के अगले ही दिन अगस्त अथवा सितम्बर माह में होता है।

कश्यपोऽत्रिर्भरद्वाजो विश्वामित्रोऽथ गौतमः ।
जमदग्निर्वसिष्ठश्च सप्तैते ऋषयः स्मृताः ॥
दहन्तु पापं मे सर्वं गृह्नणन्त्वर्घ्यं नमो नमः ॥

Rishi Panchami in English

In Hindu religion, the importance of Rishi Panchami fast is to be free from all the sins. Its actually a fast rather than a festival and in this fasting, people worship saptrishis.

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
2 September 202221 September 2023
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
भाद्रपद शुक्ला पञ्चमी
समाप्ति तिथि
भाद्रपद शुक्ला पञ्चमी
महीना
अगस्त / सितंबर
कारण
दोष मुक्त करने के लिए
उत्सव विधि
व्रत, पूजा, व्रत कथा, सप्त ऋषि की पूजा, भजन-कीर्तन
महत्वपूर्ण जगह
मुख्य रूप से दक्षिण भारत में
पिछले त्यौहार
23 August 2020, 3 September 2019, 15 September 2018

अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!
* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें
🔝