Hanuman Chalisa

उत्तराखंड में चार धाम (Char Dham in Uttarakhand)


उत्तराखंड में चार धाम

हिंदू धर्म के अनुसार, मुक्ति या मोक्ष प्राप्त करने के लिए एक हिंदू को चार धाम का तीर्थ करना आबश्यक है। धामों या पवित्र तीर्थ स्थलों का दौरा प्राचीन काल से ऋषियों, संतों और संतों द्वारा किया जाता रहा है और अभी भी श्रद्धा और भक्ति के साथ भक्त द्वारा दौरा किया जाता है।

उत्तराखंड में चार निवास हैं जो की छोटा चारधाम यात्रा और उत्तराखंड चार धाम के रूप में लोकप्रिय है जिसमें हिंदुओं के चार पवित्र मंदिर शामिल हैं: बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री। ये सभी मंदिर उत्तराखंड राज्य के गढ़वाल क्षेत्र में स्थित हैं।

उत्तराखंड के चार धाम:
❀ केदारनाथ भगवान शिव को समर्पित है
❀ बद्रीनाथ भगवान विष्णु को समर्पित है।
❀ यमुनोत्री और गंगोत्री क्रमशः देवी गंगा और यमुना नदियों को समर्पित हैं।

आमतौर पर तीर्थयात्री पहले हरिद्वार से बद्रीनाथ जाते हैं और फिर दूसरे धामों के दर्शन करते हैं।

उत्तराखंड के चार धाम का विकास किसने किया?
आदि शंकराचार्य ने 8 वीं शताब्दी के दौरान इन तीर्थ स्थलों को एक साथ जोड़ा। पीढ़ी दर पीढ़ी, उत्तराखंड के इन चार धार्मिक स्थलों पर दुनिया भर से हजारों श्रद्धालु नियमित रूप से आते हैं। देवभूमि उत्तराखंड में हर साल बड़ी संख्या में श्रद्धालु उत्तराखंड की तीर्थयात्रा करते हैं। हरिद्वार और ऋषिकेश की यात्रा के बाद, तीर्थयात्री चार धाम यात्रा में यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ के दर्शन करते हैं। सर्दी के मौसम में सभी चारधाम मंदिर भारी बर्फबारी के कारण छह महीने के लिए बंद कर दिए जाते हैं।

इन पवित्र स्थानों से निकलने वाली आध्यात्मिक ऊर्जा मनुष्य के हृदय, आत्मा और मन को शुद्ध करने के लिए पर्याप्त है। हाल ही में उत्तराखंड पर्यटन विभाग द्वारा तीर्थयात्रियों को हेलीकॉप्टर से चार धाम तक ले जाने वाली एक नई सेवा भी शुरू की गई है।

बद्रीनाथ धाम @Badrinath Uttarakhand

बद्रीनाथ धाम मंदिर चार धामों में से एक है और भारत के प्रमुख तीर्थ स्थलों में शामिल है। यहां पर भगवान विष्णु के एक रूप बद्रीनारायण की पूजा होती है।


गंगोत्री @Gangotri Uttarakhand

गंगोत्री, उत्तराखंड राज्य के उत्तरकाशी जिले में हिमालय पर्वत श्रृंखला में स्थित है। गंगोत्री प्रसिद्ध पवित्र नदी गंगा का उद्गम स्थल है और इसका देवी गंगा से गहरा संबंध है।


केदारनाथ @Kedarnath Uttarakhand

केदारनाथ मंदिर, भारत के उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में गढ़वाल हिमालय श्रृंखला पर स्थित है। केदारनाथ भारत के सबसे प्रतिष्ठित और पवित्र हिंदू मंदिरों में से एक है।


यमुनोत्री @Yamunotri Uttarakhand

यमुनोत्री मंदिर एक प्रसिद्ध हिंदू मंदिर है जो देवी यमुना को समर्पित है। इस मंदिर को माता यमुनोत्री का मंदिर के नाम से जाना जाता है।


Char Dham in Uttarakhand in English

There are four Vaishnava pilgrims defined by Guru Shankaracharya and every Hindu must visit there once in life which will help them to attain peace for the soul.
यह भी जानें

List Char Dham Uttarakhand TemplesSanatan Dharm TemplesHindu Dharm TemplesChota Char Dham Yatra Temples

अगर आपको यह ग्रूप ऑफ टेंपल्स पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ग्रूप ऑफ टेंपल्स को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

नोएडा के प्रसिद्ध मंदिर

नोएडा भारत की धार्मिक आस्था के काफी नजदीक जान पड़ता है, आइए जानते हैं यहाँ के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में...

दिल्ली के हनुमान मंदिर

हनुमान जी श्री राम के बहुत बड़े भक्त हैं और भगवान शिव के अवतार हैं। हनुमान जी के माता-पिता का नाम अंजना और केसरी है इसलिए उन्हें अंजनी-पुत्रा और केसरी-नंदन कहा जाता है।

बृजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर

बृजभूमि अथवा ब्रिजभूमि भगवान कृष्ण की बचपन से संबंधित गतिविधियों से जुड़ा क्षेत्र है।

सप्त मोक्ष पुरी

अयोध्या-मथुरामायाकाशीकांचीत्वन्तिका, पुरी द्वारावतीचैव सप्तैते मोक्षदायिकाः

पुणे शहर के प्रसिद्ध मंदिर

मराठा पेशवा विस्तार के दौरान, पुणे में मंदिरों का निर्माण नहीं हुआ। पूणे शहर में मां लक्ष्मी, श्री गणेश और दत्तात्रेय भगवान के मंदिर अत्यधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

दिल्ली के प्रसिद्ध शिव मंदिर

नई दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के प्रमुख भगवान शिव मंदिर:

उत्तराखंड में चार धाम

आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा परिभाषित चार वैष्णव तीर्थ हैं। बद्रीनाथ धाम, रामेश्वरम धाम, जगन्नाथ धाम, द्वारका धाम...

Hanuman Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App
not APP