श्री अय्यप्पा मंदिर - Shree Ayyappa Temple

श्री अय्यप्पा मंदिर, भगवान गणेश, भगवान अय्यप्पा और माता दुर्गा का पवित्र स्थल है। मंदिर वास्तुकला श्री एदवलम नारायणन नांबुथिरी के मार्गदर्शन के अनुरूप ही हुई है। ध्यान मुद्रा में भगवान अय्यप्पा की पाँचधातु की मूर्ति मशहूर मूर्तिकार चेंगन्नोरे सदाशिवन आचरी ने बनाई है और मूर्ति के मुख्य सलाहकार सबरीमाला मंदिर के महंत थे, जो कि श्री अय्यप्पा मंदिर, रोहिणी के महंत भी थे।

माता दुर्गा की स्थापना भक्तों को मलिकपुराथम्मा के रूप में आशीर्वाद और आदि पराशक्ति के रूप में तांत्रिक विद्या की सहायक हेतु माना जाता है। मंदिर मे नवग्रह धाम की स्थापना, हमारे कर्म, इच्छाओं या दोषों को नियंत्रित करने के लिए, और जन्म से उपस्थित सभी दोषों को समाप्त करने हेतु की गई है।

राहु-केतु ग्रह के कारण, काल-सर्प दोष द्वारा पीड़ित लोगों के लिए अपनी-अपनी कुंडली में बताए गए दुष्प्रभाव को दूर करने के लिए, मंदिर में हर महिने अमावस्या के दिन काल-सर्प दोष निवारण पूजा को प्रभावी समाधान के साथ किया जाता है। इस पूजा की विस्तृत जानकारी के लिए टेंपल ऑफिस को संपर्क करें।

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • हर 1 से 7 अप्रैल को, 7 दिन तक चलाने वाला वार्षिक उत्सवम।
  • हर अमावस्या पर मासिक काल सर्प पूजा।
  • सभी मूर्ति चेंगन्नोर सदाशिवन अचारी द्वारा तैयार की गई हैं।

समय - Timings

दर्शन समय
5:30 - 10:00 AM, 5:30 - 8:30 PM
6:00 AM: Malar Nivedyam | Nirmalyam | Ganapathi Homam
7:30 AM: Usha Pooja
9:00 AM: Usha Pooja [Week days]
10:30 AM: Usha Pooja [Sat | Sun | Holidays]
6:45 PM: Deeparadhana
8:30 PM: Athazha Puja | Harivarsanam [Week days]
9:00 PM: Athazha Puja | Harivarsanam [Sat | Sun | Holidays]
त्यौहार
Mandalam-Makaravilakku, Bhagavatha Sapthaham, Annual Ulsavam, VishuPaikuni Utram, Idol Installation Day, Ramayana Month, Navratri , Special Kaal Sarpa Puja, Nag Panchami, Monthly Sarpa Puja | यह भी जानें: शारदीय नवरात्रि

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Shree Ayyappa Temple in English

Shree Ayyappa Temple is the blessing destination of Lord Ganesha, Lord Ayyappa and Maa Durga. Temple architecture is astro-proof with the guidance for Shri Edavalam Narayanan Nampoothiri.

जानकारियां - Information

मंत्र
! तत्वमसि ! - ! തത്വമാസി !
धाम
Lord GaneshaLord AyyppaMa DurgaNavgrah DhamNagarajaMaa TulsiBanana Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Water Cooler, Office, Shose Store, CCTV Security, Sitting Benches, Prasad Shop, Washrooms
धर्मार्थ सेवाएं
Auditorium
संस्थापक
16 अप्रैल 1999
स्थापना
सरी धर्मा शॅस्टा सेवा समाज, रोहिणी
देख-रेख संस्था
सरी धर्मा शॅस्टा सेवा समाज, रोहिणी
द्वारा उद्घाटन
Brahmashree Thazhamon Madam Kantaru Rajeevaru
समर्पित
भगवान अय्यप्पा
वास्तुकला
चेरा
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध - Timeline

1989

The first mandalam-makaravilakku festival celebrated by informal committee.

9 March 1997

The foundation stone by Brahmashree Thazhamon Madam Kantaru Rajeevaru Thanthri

16 April 1999

Prana prathishtha was performed on star Aswati day in the Malayalam month Medam.

19 April 1999

The temple was fully setup and opened for devotees.

April 2000

The Navagraha installation during the first annual festival between 1-7 April.

11 November 2001

First Laksharchana conducted and prana prathishta of auditorium.

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
F-26, Sector-7 Rohini New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Bhagawan Mahavir Marg / Maharaja Agrasen Marg >> HL Parwana Marg
रेलवे 🚉
New Delhi
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
वेबसाइट 📡
निर्देशांक 🌐
28.706629°N, 77.112868°E
श्री अय्यप्पा मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/ayyappa-temple-rohini

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय सन्तोषी माता!

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता..

श्री विश्वकर्मा आरती- जय श्री विश्वकर्मा प्रभु

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु, जय श्री विश्वकर्मा। सकल सृष्टि के करता, रक्षक स्तुति धर्मा॥

🔝