भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग


updated: Aug 07, 2018 06:38 AM About | Timing | Highlights | Photo Gallery | How to Reach | Comments


श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग (Shri Nageshwar Jyotirlinga) - Daarukavanam Gujarat - 361345 Dwarka Gujarat

श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग (Shri Nageshwar Jyotirlinga) the Gods of Nagas, one of the twelve Jyotirlingas of Lord Shiva in India. It is said in the Rudra Sanhita that this form of Shiv have been referred as Darulawane Nagesh. In the scriptures it is said to be the great glory to hear the story of their origin. The Shiva devotee, who hears devotional stories, receives liberation from sins, travels to divine Shiv Lokam.

Nageshwar word means, God of snakes. Snake who always move around the neck of Lord Shiv. Therefore, the temple is famous to resolve diseases related to toxins and poisons. Nageshwar lingam looks like tri-mukhi Rudraksha, established as black rounded Dwarka. One can also worship Goddess Parvati with Shiva. Temples are considered mythological importance that worshiped Lord Shiva by Lord Krishna Rudrabhishek. Adi Guru Shankaracharya established western Kalika Peeth.

Jyotirling is located on the 17 km outskirts of Dwarka Dham in Gujarat. This place is located in the pathway of Gomati Dwarka to Beyt Dwarka. Few local buse amenities are available at 7:30 AM for spiritual trip of Rukmini temple, Gopi pond and Beyt Dwarka including Nageshwar temple from Gomati Dwarka. Spiritual Scholars opinion is considered different for Nageshwar Jyotirlinga, few consider Jageshwar Mandir Almora or some believe in Purna Temple Andhra Pradesh as Jyotirlinga. Read in Hindi

वैद्यनाथं चिताभूमौ नागेशं दारुकावने।

समय सारिणी

दर्शन समय
6:00 AM - 12:30 PM, 5:00 - 9:30 PM
त्यौहार
Shivaratri, Shravan, Golokdham Utsav, Kartik Purnima Fair, Somnath Sthapana Divas | Read Also: महा शिवरात्रि 2019

About Temple in Hindi

नागेश्वर नागों के ईश्वर रूप में भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह गुजरात के द्वारका धाम से 17 किलोमीटर बाहरी क्षेत्र की ओर स्थित है। यह रुद्र संहिता में इन भगवान को दारुकावने नागेशं कहा गया है। शास्त्रों में इनकी उत्पत्ति की कथा सुनने की बड़ी महिमा बताई गई है। जो शिव भक्त श्रद्धापूर्वक कथा सुनता है वह पापों से मुक्ति पाकर, दिव्य शिवलोक को गमन करता है।

नागेश्वर शब्द का अर्थ है, नागों के भगवान। नाग जो कि हमेशा भगवान शिव की गर्दन के चारों ओर कुंडली मारे पाए जाते है। इसलिए यह मंदिर विष और विष से संबंधित रोगों से मुक्ति के लिए प्रसिद्ध है। नागेश्वर शिवलिंग गोल काले पत्थर वाले द्वारका शिला से त्रि-मुखी रूद्राक्ष रूप में स्थापित है, शिवलिंग के साथ देवी पार्वती की भी उपासना की जा सकती है। मंदिर का पौराणिक महत्व माना जाता है कि भगवान कृष्ण रुद्राभिषेक के द्वारा भगवान शिव की आराधना करते थे। और बाद में आदि गुरु शंकराचार्य ने कलिका पीठ पर अपने पश्चिमी मठ की स्थापना की।

यह स्थान गोमती द्वारका से बेट द्वारका जाते रास्ते में ही स्थित है। द्वारका से सुवह 7:30 रुक्मिणी मंदिर, गोपी तालाब और बेट द्वारका के द्वारकाधीश मंदिर को गुमाने वाली लोकल टूरिस्ट बस नागेश्वर मंदिर से भी होकर जातीं हैं। विद्वानों की राय इस ज्योतिर्लिंग के लिए भिन्न-भिन्न है, अतः भारत में आंध्र प्रदेश के पूर्णा के निकट और उत्तराखण्ड में अल्मोड़ा के निकट जागेश्वर शिवलिंग को नागेश्वर ज्योतिर्लिंग माना जाता रहा है।

श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग उत्पत्ति पौराणिक कथा

दारूका नाम की एक प्रसिद्ध राक्षसी थी, जो पार्वती जी से वरदान प्राप्त कर अहंकार में चूर रहती थी। उसका पति दरुका महान् बलशाली राक्षस था। उसने बहुत से राक्षसों को अपने साथ लेकर समाज में आतंक फैलाया हुआ था। वह यज्ञ आदि शुभ कर्मों को नष्ट करता हुआ सन्त-महात्माओं का संहार करता था। वह प्रसिद्ध धर्मनाशक राक्षस था। पश्चिम समुद्र के किनारे सभी प्रकार की सम्पदाओं से भरपूर सोलह योजन विस्तार पर उसका एक वन था, जिसमें वह निवास करता था। कथा को विस्तार मे पढ़ने के लिए क्लिक करें

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
Shri Nageshwar Jyotirlinga

85 m high murti

85 m high murti

Shri Nageshwar Jyotirlinga

Shri Nageshwar Jyotirlinga

जानकारियां

मंत्र
जय नागेश्वर॥
धाम
Shivling with GanShri Tripur Sundari MaaShri GaneshShri Kashtabhanjan Hanuman
YagyashalaMaa TulsiPeepal Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Wheel Chairs, Lift, Shoe Store, Cloak Room, Guest Houses, Bhojanalay, Sitting Benches
धर्मार्थ सेवाएं
Sagar Darshan Atithigruh, Lilavati Atithigruh, Maheshwari Samaj Atithi Gruh, Tanna Atithigruh, Dharmashala, Sanskritik Bhavan, Swastik Plaza
संस्थापक
Supriy
स्थापना
Satyug
समर्पित
Shri Shiv
वास्तुकला
Chalukya style
फोटोग्राफी
नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: Nageshwar Road
पता
Daarukavanam Gujarat - 361345 Dwarka Gujarat
निर्देशांक
22.335921°N, 69.086888°E
श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/nageshwar-jyotirlinga

अगला मंदिर दर्शन

अन्य पुराने उत्सव

» Sawan Shivaratri 2018
Day-Night
Shri Nageshwar Jyotirlinga is celebrating Shivaratri festival with all joy and happyness.

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली

ओइम् जय वीणे वाली, मैया जय वीणे वाली, ऋद्धि-सिद्धि की रहती, हाथ तेरे ताली।...

आरती: माँ सरस्वती जी

जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सदगुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥

close this ads
^
top