रुक्मणी मंदिर, द्वारका - Rukmani Mandir

श्री रुक्मणी देवी मंदिर भगवान कृष्ण की प्रमुख पत्नी रुक्मिणी को समर्पित है, जिन्हें माता लक्ष्मी का अवतार माना जाता है। मंदिर के गर्भगृह में माता रुक्मणी का चतुर्भुजी सुंदर विग्रह है, माता इस विग्रह रूप में शंख, चक्र, गदा एवं पद्म धारण किए हुए हैं।

मंदिर के शिखर पर लहराता विशाल ध्वज मंदिर की शोभा को दूर से ही सुशोभित करता है। शिखर पर यह ध्वजा प्रत्येक दिन तिथि एवं त्यौहारों के अनुरूप बदले जाने हैं। द्वारका के अधिकतर मंदिरों की ही तरह माता रुक्मिणी का यह मंदिर भी बलुआ पत्थर से निर्मित है।

द्वारका धाम की यात्रा करने वाले भक्तों के लिए कहा जाता है कि इस मंदिर के दर्शन के बिना यह यात्रा पूर्ण नहीं मानी जाती है। मंदिर के गर्भग्रह में दर्शन से पहिले मंदिर के महंतों के द्वारा मंदिर से जुड़ी पौराणिक कथाओं एवं मान्यताओं का विस्तार से वर्णन किया जाता है। इसके साथ-साथ दान से जुड़ी अवधारणाओं के बारे में भी बताया जाता है।

मंदिर का सबसे लोकप्रिय एवं धूम-धाम से मनाया जाने वाला त्यौहार निर्जला एकादशी है इसे रुक्मिणी हरण एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। रुक्मणी देवी मंदिर में पीने के पानी का दान सबसे बड़ा महत्वपूर्ण दान माना जाता है। अतः मंदिर में भक्त 1001, 1100 लीटर अथवा अपनी श्रद्धा एवं सामर्थ्य के अनुसार पानी का दान करते हैं। मंदिर के चारों ओर पेय जल की भारी कमी, हमें जल की महत्ता को समझाने क लिए प्रेरित करती है।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग तथा बेट द्वारका जाते समय देवी रुक्मिणी का यह मंदिर द्वारका से निकलते ही रास्ते में ही पड़ता है। मंदिर द्वारका से बाहरी ओर लगभग 2 किलो मीटर की दूरी पर स्थित है। मंदिर की दीवारों पर हाथी, घोड़े, देव और मानव मूर्तियाँ की नक्काशी की गई है। वर्तमान मंदिर का अस्तित्व 12 वीं शताब्दी की संरचना माना जाता है।

प्रचलित नाम: श्री रुक्मणी देवी मंदिर

समय - Timings

दर्शन समय
5:00 AM - 12:00 PM, 4:00 - 9:00 PM

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Main Shikhar

Main Shikhar

Sadhu at Temple

Sadhu at Temple

Temple in Full View

Temple in Full View

Top of The Shikhar

Top of The Shikhar

Rukmani Mandir in English

Shri Rukmani Devi Mandir is dedicated to Lord Krishna`s chief wife Devi Rukmani, She is considered to be the incarnation of Godess Lakshmi.

जानकारियां - Information

धाम
YagyashalaMaa Tulasi
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Prasad Shop, Sitting Benches, CCTV Security, Solor Panel
धर्मार्थ सेवाएं
Bhojnalay
देख-रेख संस्था
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण
समर्पित
श्री रुक्मणी देवी
वास्तुकला
चालुक्य शैली
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Dwarka Dwarka Gujarat
सड़क/मार्ग 🚗
Gujarat State Highway 6A
रेलवे 🚉
Dwarka Railway Station
हवा मार्ग ✈
Sardar Vallabhbhai Patel International Airport
नदी ⛵
Gomti
निर्देशांक 🌐
22.257312°N, 68.964277°E
रुक्मणी मंदिर, द्वारका गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/rukmani-mandir

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

ॐ जय जगदीश हरे आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

एकादशी माता की आरती

ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता। विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता॥

Download BhaktiBharat App Go To Top