Hanuman Chalisa

पंचवटी - Panchwati

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • 14 वर्षों के वनवास काल खंड में माता सीता की तपो स्थली।
  • सीता गुफा तथा आसपास चिह्नित पांच प्राचीन बरगद वृक्ष से हैं।

रामायण में, भगवान राम के 14 वर्षों के वनवास काल खंड के प्रसंग में पंचवटी का नाम अत्यधिक प्रचलित है। मान्यताओं के अनुसार माता सीता, भगवान राम एवं लक्ष्मण के साथ इस स्थान पर बहुत समय तक रुकीं थीं। गोदावरी नदी के किनारे स्थित, सम्पूर्ण पंचवटी लगभग 5 किमी क्षेत्र में फैला हुआ है। पंचवटी का शाब्दिक अर्थ है, पाँच बरगद के पेड़ (वट वृक्ष) से घिरा क्षेत्र।

वर्तमान काल खंड के अनुसार यहाँ पंचवटी का अभिप्राय सीता गुफा तथा आसपास संख्याओं के साथ चिह्नित पांच प्राचीन बरगद वृक्ष से हैं। सीता गुफा मंदिर ज्यादा बड़ा तो नहीं, परंतु यह माता सीता की तपो स्थली होने के कारण आध्यात्मिक ऊर्जा से परिपूर्ण स्थान है।

गुफा के अंदर जाने के लिए नीचे झुक कर जाना होता है। इसलिए ज्यादातर लोग कदम पर बैठते हुए गुफा में प्रवेश करते हैं। आगे चलकर गुफा और भी छोटी होती जाती है। गुफा के अंदर भगवान राम, लक्ष्मण और माँ सीता की मूर्तियां हैं। फोटोग्राफी को परिसर के अंदर प्रतिबंधित रखा गया है। सीता गुफा के ही सामने गौशाला का भी निर्माण किया गया है।

प्रचलित नाम: सीता गुफा

समय - Timings

दर्शन समय
सीता गुफा- 6:15 AM - 8:30 PM

Panchwati in English

In the Ramayana, Panchwati is very popular in the context of Lord Ram`s 14 years of exile period. According to beliefs, Mata Sita had stayed here for a long time with Lord Ram and Lakshman.

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
पंचवटी

पंचवटी

पंचवटी

पंचवटी

पंचवटी

पंचवटी

पंचवटी

पंचवटी

पंचवटी

पंचवटी

जानकारियां - Information

संस्थापक
माता सीता
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Panchavati Road, Panchavati Nashik Maharashtra
सड़क/मार्ग 🚗
Sita Gufaa Road
रेलवे 🚉
Nashik
हवा मार्ग ✈
Chhatrapati Shivaji International Airport, Mumbai
नदी ⛵
Godavari
सोशल मीडिया
निर्देशांक 🌐
20.007882°N, 73.796096°E
पंचवटी गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/panchwati

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

भगवद्‍ गीता आरती

जय भगवद् गीते, जय भगवद् गीते। हरि-हिय-कमल-विहारिणि सुन्दर सुपुनीते॥

ॐ जय जगदीश हरे आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

आरती कुंजबिहारी की

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App