भगवान परशुराम मंदिर - Bhagwan Parshuram Mandir

सूचना: 🦠COVID-19 के प्रसार की रोकथाम हेतु देशव्यापी लाक-डाउन किया गया है। अतः सभी मंदिर भक्तों के दर्शन के लिए बंद किए गये हैं, परंतु मंदिर की सभी पूजाएँ, मंदिर के पुजारियों द्वारा विधिवत चलाई जराहीं हैं। भारत सरकार के अगले आदेश आने तक, मंदिर की सभी पूजाएँ और अन्य कार्यक्रम भक्तों के लिए निर्देशित नहीं हैं। घर मे रहें, और सुरक्षित रहें। 🧴🤲

त्रंबकेश्वर के परशुराम मंदिर में भगवान के बाल स्वरूप की पूजा की जाती है। मंदिर में चतुर्भुजी बाल परशुराम का विग्रह, सफेद आभा के साथ सुशोभित हो रहा है। त्र्यंबक, महाराष्ट्र का यह परशुराम मंदिर भक्ति भारत का प्रथम भगवान परशुराम को समर्पित मंदिर है।

विश्व में अक्षय तृतीया त्यौहार परशुराम जन्मोत्सव के रूप मनाया जाता है। इस दिन मंदिर में कीर्तन का आयोजन किया जाता है। मंदिर का यह वार्षिक उत्सव बैशाख प्रतिपदा से प्रारंभ होकर अष्टमी तक हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है। विद्वानों द्वारा अक्षय तृतीया को त्रेता युग का आरंभ भी माना जाता है।

मंदिर का वर्तमान स्वरूप लगभग सन् 1850 के आस-पास निर्मित हुआ माना जाता है। कालांतर में परशुराम जी ने पास ही में स्थित नील पर्वत पर तपस्या की थी, जहाँ आज अन्नपूर्णा माता का मंदिर स्थित है।

जनवरी माह के दौरान मंदिर में ऋग्वेद का पाठ किया जाता है, तथा 10 हजार मंत्रों के साथ हवन द्वारा इसका समापन किया जाता है।

भगवान परशुराम के बारे में:
भगवान परशुराम का जन्म त्रेता युग में हुआ, उनके माता-पिता देवी रेणुका एवं भृगुश्रेष्ठ महर्षि जमदग्नि है, इन्हें भगवान विष्णु का छठा अवतार भी माना जाता है। कल्कि पुराण के अनुसार परशुराम, भगवान विष्णु के दसवें अवतार कल्कि के गुरु होंगे और उन्हें युद्ध की शिक्षा देंगे।

भगवान परशुराम को नियोग भूमिहार ब्राह्मण, चितपावन ब्राह्मण, त्यागी, मोहयाल, अनाविल और नंबूदिरी ब्राह्मण समुदाय मूल पुरुष या स्थापक के रूप में पूजते हैं।

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • चतुर्भुजी भगवान परशुराम का बाल स्वरूप विग्रह।
  • अक्षय तृतीया या परशुराम जन्मोत्सव मंदिर का प्रमुख त्यौहार।

समय - Timings

दर्शन समय
7:00 AM - 9:00 PM

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Bal Swarup Bhagwan Parshuram in Garbh Grah

Bal Swarup Bhagwan Parshuram in Garbh Grah

Temple Main Prayer Hall With Bal Parshuram View.

Temple Main Prayer Hall With Bal Parshuram View.

Close-up Primary Murti of Baal Parshuram

Close-up Primary Murti of Baal Parshuram

Main Outer View of Entrance till Top

Main Outer View of Entrance till Top

Bhagwan Parshuram Mandir in English

Bhagwan Parashuram Temple in Trimbakeshwar is been worshipped in the form of a child. The vigilance of Chaturbhuji Bal Parashuram is beautifying the white aura in the temple.

जानकारियां - Information

धाम
Bhagwan VishnuYagyashalaMaa Tulsi
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Shose Store, Sitting Benches
समर्पित
भगवान परशुराम
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

सड़क/मार्ग 🚗
Nasik - Trambakeshwar Road / NH 848 > Trimbak
रेलवे 🚉
Nasik
हवा मार्ग ✈
Chhatrapati Shivaji International Airport
नदी ⛵
Godavari
निर्देशांक 🌐
19.930430°N, 73.528760°E
भगवान परशुराम मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/parushram-mandir-trimbak

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री गंगा मैया जी

ॐ जय गंगे माता श्री जय गंगे माता। जो नर तुमको ध्याता मनवांछित फल पाता॥ हर हर गंगे, जय माँ गंगे...

माता श्री गायत्री जी की आरती

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता॥

आरती: ॐ जय जगदीश हरे!

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

🔝