करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

परशुराम जन्मोत्सव - Parshuram Janmotsav


Updated: May 06, 2019 21:58 PM बारें में | संबंधित जानकारियाँ | यह भी जानें


आने वाले त्यौहार: 25 April 2020
भगवान परशुराम का जन्म अक्षय तृतीया के दिन हुआ था अतः उनकी शस्त्रशक्ति भी अक्षय है।

भगवान परशुराम का जन्म अक्षय तृतीया के दिन हुआ था अतः उनकी शस्त्रशक्ति भी अक्षय है। भगवान शिव के दिव्य धनुष की प्रत्यंचा पर केवल परशुराम ही बाण चढ़ा सकते थे, यह उनकी अक्षय शक्ति का ही परिचय है। इन्हें विष्णु का छठा अवतार भी कहा जाता है।

भगवान परशुराम को नियोग भूमिहार ब्राह्मण, चितपावन ब्राह्मण, त्यागी, मोहयाल, अनाविल और नंबूदिरी ब्राह्मण समुदाय मूल पुरुष या स्थापक के रूप में पूजते हैं।

भगवान परशुरामके प्रसिद्ध मंदिर:
* भगवान परशुराम मंदिर, त्र्यम्बकेश्वर, ‎नासिक, महाराष्ट्र
* परशुराम मंदिर, अट्टिराला, जिला कुड्डापह ,आंध्रा प्रदेश
* परशुराम मंदिर, सोहनाग, सलेमपुर, उत्तर प्रदेश
* अखनूर, जम्मू और कश्मीर
* कुंभलगढ़, राजस्थान
* महुगढ़, महाराष्ट्र
* परशुराम मंदिर, पीतमबरा, कुल्लू, हिमाचल प्रदेश.
* जनपव हिल, इंदौर मध्य प्रदेश
* परशुराम कुंड लोहित जिला, अरुणाचल प्रदेश - एसी मान्यता है, कि इस कुंड में अपनी माता का वध करने के बाद परशुराम ने यहाँ स्नान कर अपने पाप का प्रायश्चित किया था.

संबंधित अन्य नाम
परशुराम जयंती, अक्षय तृतीया, आखा तीज, अख तीज

Parshuram Janmotsav - Available in English

Lord Parasurama was born on Akshaya Tritiya, therefore his weapon is also Akshay.

भगवान परशुराम के बारे में

7 May 2019
परशुराम जी की माता रेणुका तथा पिता का नाम मुनि जमदग्नि है। भगवान परशुराम को रामभद्र, भार्गव, भृगुपति, भृगुवंशी तथा जमदग्न्य नाम से भी जाना जाता है।

परशुराम दो शब्दों से मिलकर बना है, परशु अर्थात कुल्हाड़ी तथा राम। इन दो शब्दों को मिलाकर अर्थ निकलता है कुल्हाड़ी के साथ राम

भगवान परशुराम शस्त्र विद्या के श्रेष्ठ जानकार थे। परशुरामजी का उल्लेख रामायण, महाभारत, भागवत पुराण और कल्कि पुराण इत्यादि अनेक ग्रन्थों में किया गया है। कल्कि पुराण के अनुसार परशुराम, भगवान विष्णु के दसवें अवतार कल्कि के गुरु होंगे और उन्हें युद्ध की शिक्षा देंगे। भीष्म, गुरु द्रोण एवं कर्ण उनके जाने-माने शिष्य थे।

भगवान परशुराम शिवजी के उपासक हैं। उन्होनें सबसे कठिन युद्धकला कलारिपायट्टू की शिक्षा शिवजी से ही प्राप्त की थी।

हिन्दू धर्म में परशुराम के बारे में यह मान्यता है, कि वे त्रेता युग एवं द्वापर युग से कलयुग के अंत तक अमर हैं।

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
14 May 20213 May 202222 April 202310 May 2024
आवृत्ति
Yearly / Annual
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
Vaishakha Shukla Tritiya
समाप्ति तिथि
Vaishakha Shukla Tritiya
महीना
April / May
उत्सव विधि
Vishnu Sahasranama Path, Bhajan Kirtan
महत्वपूर्ण जगह
Parashurama Mandir, Shri Vishnu Mandir
पिछले त्यौहार
7 May 2019, 18 April 2018

अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!
* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें
top