करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

श्री शिव मंदिर - Shri Shiv Mandir


updated: Oct 08, 2019 11:46 AM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


आज से लगभग तीन सौ वर्ष पहिले, ग्राम बिरौंडी चक्रसैनपुर के एक अग्रवाल परिवार द्वारा स्थापित यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। मंदिर को साधारण बोल-चाल की भाषा में प्रायः श्री महादेव मंदिर अथवा बिरौंडी मंदिर के नाम से जाना जाता है।

मंदिर एक दो-तीन फुट ऊँचे चबूतरे पर स्थित है, तथा मंदिर के निकट गाँव का पारंपरिक तालाब भी स्थित है। मंदिर के गर्भग्रह में भगवान शिव अपने प्रिय गणों के साथ लिंग रूप में स्थापित हैं।

ग्रेटर नोएडा के विकास के साथ ही भगवान शिव की शक्ति रूपी प्रेरणा एक माँ काली मंदिर के रूप में समाहित होरही हैं। जिसे ग्रेटर नोएडा कालीबाड़ी नाम से जाना जा सकता है, और इस शक्ति रूप मंदिर की स्थापना का कार्य अभी निर्माणाधीन है।

प्रचलित नाम: बिरौंडी शिव मंदिर

समय सारिणी

दर्शन समय
5:30 AM - 9:00 PM

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Shri Shiv Mandir - Available in English

Nearly three hundred years ago, this Shiv Mandir was established by an Agrawal family of village Biraundi Chakrasainpur which is dedicated to Lord Shiva.

जानकारियां

बुनियादी सेवाएं
Prasad, Parking, Sitting Benches
स्थापना
1700 के लगभग
देख-रेख संस्था
बिरौंडी चक्रसैनपुर ग्राम निवासी
समर्पित
भगवान शिव
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें

पता 📧
Village Birondi Greater Noida Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Greater Noida West Link Road >> Fashion Station Road
रेलवे 🚉
Boraki, Dadri
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Hindon, Yamuna
निर्देशांक 🌐
28.479611°N, 77.540788°E
श्री शिव मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/shiv-mandir-birondi

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय जय तुलसी माता

जय जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब जग की सुख दाता, सबकी वर माता॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

top