होलिका दहन | चैत्र नवरात्रि | आज का भजन! | भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

तुलसीबाग गणपति मंदिर


updated: Mar 07, 2019 06:39 AM About | Timing | Highlights | Photo Gallery


तुलसीबाग गणपति मंदिर () - Tulsibaug, Budhwar Peth, Tulshibaug, Budhwar Peth Pune Maharashtra

पुणे शहर की भीड़-भाड़ भरे तुलसी बाग मार्केट में स्थित श्री गणपति मंदिर चारों ओर दुकानों से घिरा हुआ है। मंदिर में श्री गणेश जी का 14 फीट ऊँचा विशाल विग्रह है। मंदिर में श्री विनायक के चरण सबसे सुंदर प्रतीत होते हैं, और साथ में चरण वंदना करते हुए मूसकराज विग्रह की शोभा को और भी अधिक सुशोभित कर रहे हैं।

मंदिर में श्री गणेश का विग्रह इतना मनमोहक है, कि आस-पास से निकलने वाला कोई भी व्यक्ति इनकी ओर आकर्षित हुए बिना नहीं रह सकता। मंदिर प्रातः 8 बजे खुलता है, और सारे दिन खुले रहने के पश्चात रात 9 बजे तक ही दर्शन के बंद होता है।

समय सारिणी

दर्शन समय
8:00 AM - 9:00 PM
8:30 AM: सुवह आरती
12:00 PM: दोपहर आरती
8:30 PM: संध्या आरती

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Available in English - Tulsibaug Ganpati Mandir
Shri Ganapati Temple is located in the crowded Tulsi Bag Market of Pune city. Shri Ganesh vigrah is a huge 14 feet high. The feet of Shri Vinayak appears beautiful in the temple with chanting Musak Raj.

जानकारियां

संस्थापक
तुलसी बाग गणपति उत्सव मंडल ट्रस्ट
देख-रेख संस्था
तुलसी बाग गणपति उत्सव मंडल ट्रस्ट
समर्पित
श्री गणेश
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: Chhatrapati Shivaji Maharaj Road >> Tulshibaug Internal Road
रेलवे: Pune Junction
हवा मार्ग: Pune International Airport
पता
Tulsibaug, Budhwar Peth, Tulshibaug, Budhwar Peth Pune Maharashtra
निर्देशांक
18.514286°N, 73.855299°E
तुलसीबाग गणपति मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/tulsibaug-ganpati-mandir

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती युगलकिशोर की कीजै!

आरती युगलकिशोर की कीजै। तन मन धन न्योछावर कीजै॥ गौरश्याम मुख निरखन लीजै।...

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

माता श्री गायत्री जी की आरती

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता॥

close this ads
^
top