भगवान विश्वकर्मा मंदिर - Bhagwan Vishwakarma Mandir

भगवान विश्वकर्मा मंदिर, महाभारत काल के सबसे प्रसिद्ध नवनिर्मित शहर इंद्रप्रस्थ का निर्माण स्थल था। पांडवों ने विश्वकर्मा जी के शिल्प एवं वास्तु ज्ञान की मदद से खांडव वन पर इंद्रप्रस्थ शहर की स्थापना की थी, जो देवलोक के वास्तुकार थे। यह शहर पांडवों की राजधानी था और अब यह शहर भारत की राजधानी नई दिल्ली के नाम से जाना जाता है।

समय - Timings

दर्शन समय
6:00 AM - 12:00 PM, 4:00 - 9:00 PM
त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Bhagwan Vishwakarma Mandir in English

Bhagwan Vishwakarma Mandir is the initiation point of Indraprastha, the most famous newly constructed city of Mahabharat.

जानकारियां - Information

मंत्र
॥ ॐ विश्वकर्मणे नमः ॥
धाम
Garbh Grah: Shri HanumanBhagwan Vishwakarma JiMaa Durga
Prayer Hall: Shri GaneshMaa KaliShri Khatushyam JiShivming with Gan
Outer Area: Maa TulsiPeepal Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Water Cooler, Shose Store, Sitting Benches, Washrooms, CCTV Security
धर्मार्थ सेवाएं
यात्री विश्राम ग्रह
संस्थापक
पांडव
देख-रेख संस्था
भगवान विश्वकर्मा मंदिर समुदाय
समर्पित
भगवान विश्वकर्मा
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Ratan Lal Market, Kaseru Walan Paharganj New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Chelmsford Road / Desh Bandhu Gupta Road >> Qutab Road
रेलवे 🚉
New Delhi
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport
नदी ⛵
Yamuna
निर्देशांक 🌐
28.642921°N, 77.218577°E
भगवान विश्वकर्मा मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/vishwakarma-temple

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय सन्तोषी माता!

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता..

श्री विश्वकर्मा आरती- जय श्री विश्वकर्मा प्रभु

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु, जय श्री विश्वकर्मा। सकल सृष्टि के करता, रक्षक स्तुति धर्मा॥

🔝