पौष बड़ा उत्सव | आज का भजन!

बिश्नोई स्थापना दिवस - Bishnoi Sthapana Divash


Updated: Oct 21, 2019 00:26 AM बारें में | संबंधित जानकारियाँ | यह भी जानें


आने वाले त्यौहार: 8 November 2020
बिश्नोई स्थापना दिवस सन् 1485 से कार्तिक कृष्णा अष्टमी को बिश्नोई संप्रदाय के द्वारा मनाया जाता है। इस संप्रदाय की स्थापना गुरु जम्भेश्वर जी ने की थी।

बिश्नोई स्थापना दिवस सन् 1485 से कार्तिक कृष्णा अष्टमी को बिश्नोई संप्रदाय के द्वारा मनाया जाता है। इस संप्रदाय की स्थापना गुरु जम्भेश्वर जी ने की थी।

बिश्नोई शब्द को विष्णु से लिया गया, जिसका अर्थ है विष्णु के अनुयायी। विभिन्न विचारों के अनुसार बिश्नोई संप्रदाय में 2 9 सिद्धांतों का पालन किया जाता है। बिश का अर्थ है 20(बीस) और नोई का मतलब 9 (नौ)। इस प्रकार, बिश्नोई बीस-नियम के रूप में भी अनुवादित किया जाता है।

बिश्नोई समाजी लोग प्रकृति एवं जंगली जानवरों के अत्यधिक प्रेमी होते हैं। प्रारंभ में, बिश्नोई सम्प्रदाय को अपनाने वाले अधिकतर लोग जाट समुदाय से थे। अतः बिश्नोई सम्प्रदाय को कुछ जगह बिश्नोई जाट भी बोला जाता है।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने चैंपियन ऑफ अर्थ अवार्ड 2018 का श्रेय विश्नोई समाज को दिया ।
तथा बिश्नोईयो के पर्यावरण के लिए बलिदान की परंपरा को विश्व इतिहास की अनोखी घटना भी बताया।

संबंधित अन्य नाम
बिश्नोई समाज स्थापना दिवस

Bishnoi Sthapana Divash in English

Bishnoi Sthapana Divash is celebrated as the established day of Bishnoi sect in Kartik Krishna Ashtami 1485. The sect was founded by Guru Jambheshwar.

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
29 October 2021
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
कार्तिक कृष्णा अष्टमी
समाप्ति तिथि
कार्तिक कृष्णा अष्टमी
महीना
अक्टूबर / नवंबर
कारण
बिश्नोई संप्रदाय स्थापना दिवस
उत्सव विधि
व्रत, भजन-कीर्तन, मंदिर में प्रार्थना
महत्वपूर्ण जगह
मुक्ति धाम, बीकानेर राजस्थान
पिछले त्यौहार
21 October 2019, 1 November 2018, 12 October 2017

अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!
* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें
top