जय जय शनि देव महाराज!


जय जय शनि देव महाराज,
जन के संकट हरने वाले।

तुम सूर्य पुत्र बलिधारी,
भय मानत दुनिया सारी।
साधत हो दुर्लभ काज॥1॥

तुम धर्मराज के भाई,
जब क्रूरता पाई।
घन गर्जन करते आवाज॥2॥
॥जय जय शनि देव महाराज...॥

तुम नील देव विकराली,
है साँप पर करत सवारी।
कर लोह गदा रह साज॥3॥
॥जय जय शनि देव महाराज...॥

तुम भूपति रंक बनाओ,
निर्धन स्रछंद्र घर आयो।
सब रत हो करन ममताज॥4॥
॥जय जय शनि देव महाराज...॥

राजा को राज मितयो,
निज भक्त फेर दिवायो।
जगत में हो गयी जय जयकार॥5॥
॥जय जय शनि देव महाराज...॥

तुम हो स्वामी हम चरणं,
सिर करत नमामी जी।
पूर्ण हो जन जन की आस॥6॥
॥जय जय शनि देव महाराज...॥

जहाँ पूजा देव तिहारी,
करें दीन भाव ते पारी।
अंगीकृत करो कृपाल॥7॥
॥जय जय शनि देव महाराज...॥

कब सुधि दृष्टि निहरो,
छमीये अपराध हमारो।
है हाथ तिहारे लाज॥8॥
॥जय जय शनि देव महाराज...॥

हम बहुत विपत्ति घबराए,
शरणागत तुम्हरी आये।
प्रभु सिद्ध करो सब काज॥9॥
॥जय जय शनि देव महाराज...॥

यहाँ विनय करे कर जोर के,
भक्त सुनावे जी।
तुम देवन के सिरताज॥10॥
॥जय जय शनि देव महाराज...॥

जय जय शनि देव महाराज,
जन के संकट हरने वाले।

Read Also:
» शनि जयंती - Shani Jayanti | श्री हनुमान चालीसा
» आरती: श्री शनिदेव जी | आरती: श्री शनि - जय शनि देवा
» चालीसा: श्री शनिदेव जी
» श्री शनि अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली | श्री शनैश्चर सहस्रनाम वली | दशरथकृत शनि स्तोत्र
» दिल्ली के प्रसिद्ध श्री शनिदेव मंदिर
» श्री शनि जयंती के लिए दिल्ली के प्रसिद्ध मंदिर!
» रोहिणी शकट भेदन, दशरथ रचित शनि स्तोत्र कथा!

Hindi Version in English

Jai Jai Shani Dev Maharaj,
Jan ke Sankat Harane Wale।

Tum Surya Putra Balidhari,
Bhaya Maanat Duniya Saari।
Sadhat Ho Durlabh Kaaj॥1॥
॥Jai Jai Shani Dev Maharaj...॥

Tum Dharmraj Keb Bhai,
Jab Kroorta Pai।
Ghan Garjan Karte Aawaz॥2॥
॥Jai Jai Shani Dev Maharaj...॥

Tum Neel Deva Vikrali,
Hai Saanp Par Karat Sawari।
Kar Louh Gada Rahe Saaj॥3॥
॥Jai Jai Shani Dev Maharaj...॥

Tum Bhupati Rank Banao,
Nirdhan Swachhand Ghar Aayo।
Sab Rat Ho Karan Mumtaj॥4॥
॥Jai Jai Shani Dev Maharaj...॥

Raja Ko Raj Mitayo,
Nij Bhakt Pher Divayo।
Jagat Mein Ho Gayi Jai Jaikar॥5॥
॥Jai Jai Shani Dev Maharaj...॥

Tum Ho Swami Hum Charanan,
Sir Karat Namami Ji।
Purna Ho Jana Jana Ki Aas॥6॥
॥Jai Jai Shani Dev Maharaj...॥

Jahan Pooja Dev Tihari,
Karein Din Bhaav Te Pari।
Angikrit Karo Kripal॥7॥
॥Jai Jai Shani Dev Maharaj...॥

Kab Sudhi Drishti Niharo,
Chhamiya Aparadh Hamaro।
Hai Haath Tihare Laj॥8॥
॥Jai Jai Shani Dev Maharaj...॥

Hum Bahut Vipatti Ghabraye,
Sharanagat Tumhari Aaye।
Prabhu Sidhhi Karo Sab Kaaj॥9॥
॥Jai Jai Shani Dev Maharaj...॥

Yahan Vinay Kare Kar Jor Ke,
Bhakta Sunave Ji।
Tum Devo Ke Sirtaj॥10॥
॥Jai Jai Shani Dev Maharaj...॥

Jai Jai Shani Dev Maharaj,
Jan ke Sankat Harane Wale।

Shri Shani Bhajan


If you love this article please like, share or comment!

भजन: वो काला एक बांसुरी वाला..

वो काला एक बांसुरी वाला, सुध बिसरा गया मोरी रे। माखन चोर वो नंदकिशोर जो...

भजन: श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम!

श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम, लोग करें मीरा को यूँ ही बदनाम साँवरे की बंसी को बजने से काम...

भजन: भोले के कांवड़िया मस्त बड़े मत वाले हैं

चली कांवड़ियों की टोली, सब भोले के हमजोली, गौमुख से गंगाजल वो लाने वाले हैं।

भजन: बजरंगबली मेरी नाव चली, करुना कर पार लगा देना।

बजरंगबली मेरी नाव चली, करुना कर पार लगा देना। हे महावीरा हर लो पीरा...

भजन: श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी...

श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी, तेरी लीला सबसे न्यारी न्यारी हरी हरी...

भजन: मेरो लाला झूले पालना, नित होले झोटा दीजो !

मेरो लाला झूले पालना, नित होले झोटा दीजो, नित होले झोटा दीजो, नित होले झोटा दीजो

भजन: शंकर जी का डमरू बाजे

शंकर जी का डमरू बाजे, पार्वती का नंदन नाचे॥ बर्फीले कैलाशिखर पर जय गणेश की धूम

भजन: गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में।

गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में। मोदक भोग लगाओ, श्री रामजी की धुन में॥

भजन: ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम

ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम। जिस दिन जुबा पे मेरी, आए ना शिव का नाम॥

बधाई भजन: बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे

नवजात शिशु के जन्म बधाई की खुशी मे यह गीत या भजन भारत के जैन समाज मे बहुत लोकप्रिय है!
बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे, महावीर जी
जागे भाग हैं त्रिशला माँ के, के त्रिभवन के नाथ जन्मे...

Latest Mandir

^
top