जम्भेश्वर आरती: ओ३म् शब्द सोऽहं ध्यावे (Jambheshwar Aarti Om Shabd Sohan Dhyave)


ॐ शब्द सोऽहं ध्यावे,
स्वामी शब्द सोऽहं ध्यावे ।
धूप दीप ले आरती,
निज हरि गुण गावे ।

मंदिर मुकुट त्रिशुल ध्वजा,
धर्मों की फ हरावे ।
झालर शंख टिकोरा,
नौपत घुररावे ।

तीर्थ तालवे गुरु की समाधि,
परसे सुरग जावे ।
अड़सठ तीरथ को फ ल,
समराथल पावे ।

मंझ फ ागण शिवरात,
जातरी रलमिल सब आवे ।
झिगमिग जोत समराथल,
शिम्भू के मन भावे ।

धर्मी करे आनंद भवन पर,
पापी थररावे ।
राजव शरण गुरु की,
क्यूं मन भटकावे ।

Jambheshwar Aarti Om Shabd Sohan Dhyave in English

Om Shabd Soham Dhyave, Swami Shabd Sohan Dhyave । Dhup Deep Le Aarti, Nij Hari Gun Gave | Mandir Mukut Trishul Dhwaja, Dharmon Ki Ph Harave
यह भी जानें

BhajanBishnoi BhajanBishnoi Sthapana Divash BhajanJambheshwar BhajanJambheshwar Aarti Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: शीश गंग अर्धंग पार्वती

शीश गंग अर्धंग पार्वती सदा विराजत कैलासी। नंदी भृंगी नृत्य करत हैं, धरत ध्यान सुर सुखरासी॥

शिव भजन: पार्वती तेरा भोला, जगत में..

पार्वती तेरा भोला, जगत में सबसे निराला है । जो मै होती गंगा जैसी..

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला!

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला, तेरे नाम की मैं जपूं रोज माला। अब तो मनो कामना है यह मेरी...

शिव पूजा में मन लीन रहे मेरा...

शिव पूजा में मन लीन रहे मेरा मस्तक हो और द्वार तेरा, मिट जाए जन्मों की तृष्णा मिले भोले शंकर प्यार तेरा।

भजन: चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो, हर हर हर महादेव की जय हो।

भजन: शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ

शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ। अंत काल को भवसागर में उसका बेडा पार हुआ॥

🔝