भजन: म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश (Mhane Jambhoji Diyo Upadesh)


म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश,
भाग म्हारो जागियो ॥

मरूधर देश समराथल भूमि,
गुरूजी दियो उपदेश ।
पीपासर में प्रकट भया,
आय सुधारयो बागड देश ॥ १ ॥

म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश,
भाग म्हारो जागियो ॥

बीदे ने विराट दिखायो पुल्हे जी ने पाताल ।
उन्नतीस नियम सुणाय गुरूजी पायो म्हाने अमृत पाहल ॥ २ ॥

सांगा राणा और नरेषां,
परच्यो महमद खान ।
लोदी सिकन्दर ऐसो परच्यो,
पढणी छोड दी कुरान ॥ ३ ॥

म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश,
भाग म्हारो जागियो ॥

चिम्पी चोलो उणरे तन रो पडियो जांगलु मांय ।
चिम्पी चोले रा दरसण करस्यां न्हावाला बरसिंगाली जाय ॥ ४ ॥

म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश,
भाग म्हारो जागियो ॥

मोखराम बंगांली वालो,
हरिचरणा लवलीन ।
दास जाण म्हापे किरपा कीज्यो,
भक्ति में होऊ प्रवीण ॥ ५ ॥

म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश,
भाग म्हारो जागियो ॥

Mhane Jambhoji Diyo Upadesh in English

Mhane Jambhoji Diyo Updesh, Bhag Mharo Jagiyo | Marudhar Desh Samarathal Bhumi, Guruji Diyo Updesh
यह भी जानें

BhajanBishnoi BhajanBishnoi Sthapana Divash BhajanGuru BhajanGurudev BhajanGuru Purnima Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: शीश गंग अर्धंग पार्वती

शीश गंग अर्धंग पार्वती सदा विराजत कैलासी। नंदी भृंगी नृत्य करत हैं, धरत ध्यान सुर सुखरासी॥

शिव भजन: पार्वती तेरा भोला, जगत में..

पार्वती तेरा भोला, जगत में सबसे निराला है । जो मै होती गंगा जैसी..

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला!

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला, तेरे नाम की मैं जपूं रोज माला। अब तो मनो कामना है यह मेरी...

शिव पूजा में मन लीन रहे मेरा...

शिव पूजा में मन लीन रहे मेरा मस्तक हो और द्वार तेरा, मिट जाए जन्मों की तृष्णा मिले भोले शंकर प्यार तेरा।

भजन: चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो, हर हर हर महादेव की जय हो।

भजन: शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ

शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ। अंत काल को भवसागर में उसका बेडा पार हुआ॥

🔝