भजन: द्वार पे गुरुदेव के हम आगए (Dwar Pe Gurudev Ke Ham Aagaye)


भजन: द्वार पे गुरुदेव के हम आगए

द्वार पे गुरुदेव के हम आ गए ।
ज्योति में दर्शन गुरु का पा गए ॥

देखलो हमको भला दर्शन हुआ ।
प्रेम हिरदे में मगन प्रसन्न हुआ ॥

हर तरफ आनन्द ही आनन्द छा गए ।
ज्योति में दर्शन गुरु का पा गए ॥

भाव श्रद्धा के सुमन अर्पण करें ।
रात दिन हरि हरि सुमरण करें ॥

मंत्र सतगुरुजी हमें बतला गए ।
ज्योति में दर्शन गुरु का पा गए ॥

Dwar Pe Gurudev Ke Ham Aagaye in English

Dwar Pe Gurudev Ke Ham Aa Gaye । Jyoti Mein Darshan Guru Ka Pa Gaye | Dekhlo Hamko Bhala Darshan Hua । Prem Hirade Mein Magan Prasann Hua
यह भी जानें

BhajanBishnoi BhajanBishnoi Sthapana Divash BhajanGuru BhajanGurudev BhajanGuru Purnima Bhajan


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

देख लिया संसार हमने देख लिया

देख लिया संसार हमने देख लिया, सब मतलब के यार हमने देख लिया ।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। ज्योत जगा के, सर को झुका के...

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल: भजन

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल, तुम बिन रह्यो न जाय हो ॥ बृजराज लडेतोलाडिले ॥

गोबिंद चले चरावन गैया: भजन

गोबिंद चले चरावन गैया । दिनो है रिषि आजु भलौ दिन, कह्यौ है जसोदा मैया ॥

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी: भजन

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी, अँखियाँ प्यासी रे । मन मंदिर की जोत जगा दो..

तुम करुणा के सागर हो प्रभु: भजन

तुम करुणा के सागर हो प्रभु, मेरी गागर भर दो थके पाँव है...

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी: होली भजन

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी, कहाँ से आयो कुंवर कन्हैया, कहाँ से आई राधा गोरी..

🔝