🐦कोकिला व्रत - Kokila Vrat

Kokila Vrat Date: 13 July 2022

कोकिला व्रत आषाढ़ पूर्णिमा के दिन किया जाता है पर इसका आरंभ एक दिन पहले से ही आरंभ कर दिया जाता है। कोकिला व्रत का विशेष महत्व दांपत्यु सुख एवं अविवाहितों के लिए जल्द विवाह करने मे वरदान है।

आषाढ़ के अधिक मास होने पर यह व्रत प्रथम आषाढ़ की पूर्णिमा से दूसरे आषाढ़ की पूर्णिमा तक किया जाता है। व्रत के दौरान गंगा, यमुना या अन्य पवित्र नदियों में किया स्नान अधिक पुण्यदाय होता है।

कोकिला व्रत में भोजन एक बार ही ग्रहण करें, धरती पर शयन करें, ब्रम्हचर्य का पालन करें तथा पराई निंदा से बचें। कुछ मान्यताओं के अनुसार, व्रत के दिन महिलाएँ जड़ी-बूटियों से स्नान करतीं हैं, अतः व्रत एवं औषधि के प्रभाव से महिलाएँ को सौन्दर्य और रुप की प्राप्ति होती है।

मुख्यतया पर गुरु पूर्णिमा एवं कोकिला व्रत एक ही दिन होती है, परन्तु कभी-कभी चतुर्दशी तिथि के प्रारंभ होने के आधार पर कोकिला व्रत, गुरु पूर्णिमा से एक दिन पूर्व भी हो सकता है।

कुछ मान्यताओं के अनुसार, इस व्रत को करने से सौन्दर्य और रुप की प्राप्ति होती है। इस दिन जड़ी-बूटियों से स्नान करना उत्तम होता है। कुछ स्थानों पर कोयल का चित्र अथवा मूर्ति स्वरुप को मंदिर अथवा ब्राह्मण को भेंट भी किया जाता है।

Kokila Vrat in English

Kokila Vrat is observed on the day of Ashadha Purnima, but it is started a day before. The special significance of Kokila Vrat is a boon for married happiness and early marriage for unmarried.

कोकिला व्रत पौराणिक कथा

कोकिला व्रत से जुड़ी कथा का संबंध भगवान शिव एवं माता सती से जुड़ा है। माता सती ने भगवान शिव को प्राप्त करने के लिए लम्बे समय तक कठोर तपस्या को करके उन्हें पाया था। पूरी कथा पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करें: कोकिला व्रत कथा

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
2 July 202320 July 202410 July 202528 July 202617 July 2027
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा
समाप्ति तिथि
आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा
महीना
जून / जुलाई
उत्सव विधि
व्रत, पूजा, भजन कीर्तन।
पिछले त्यौहार
23 July 2021, 4 July 2020
अगर आपको यह त्यौहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्यौहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

मंदिर

🔝