श्री कृष्ण जन्माष्टमी विशेषांक 2022 (Shri Krishna Janmashtami Specials)

श्री कृष्ण जन्माष्टमी विशेषांक 2022

अर्ध रात्रि को मनाए जाने वाला, ब्रजभूमि अर्थात मथुरा-वृंदावन एवं भगवान श्री कृष्ण की बाल लीलाओं से जुड़े पवित्र क्षेत्र का सबसे धूम-धाम वाले महोत्सव श्री कृष्ण जन्माष्टमी का उत्साह ब्रज क्षेत्र के अलावा सारे देश मे भी देखते ही बनता है। आइए जानें! श्री कृष्ण जन्माष्टमी से जुड़ी कुछ जानकारियाँ, प्रसिद्ध भजन एवं सम्वन्धित अन्य प्रेरक तथ्य..

श्री कृष्ण जन्माष्टमी क्यों, कब, कहाँ और कैसे?
श्री कृष्ण जन्माष्टमी - Shri Krishna Janmashtami
दही हांड़ी - Dahi Handi

श्री कृष्ण आरती:
आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की
भोग आरती: आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन
श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं आरती
आरती श्री बाल कृष्ण जी की
आरती युगलकिशोर की कीजै
ॐ जय जगदीश हरे आरती

जन्माष्टमी भजन:
श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी
बाल लीला: राधिका गोरी से बिरज की छोरी से
मेरे बांके बिहारी लाल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार
अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं
छोटी छोटी गैया, छोटे छोटे ग्वाल
सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया
श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम
राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
अरे द्वारपालों कन्हैया से कह दो
कभी राम बनके, कभी श्याम बनके
बड़ी देर भई नंदलाला

दही हांड़ी भजन:
जन्माष्टमी भजन: यगोविंदा आला रे आला

जन्माष्टमी बधाई:
बधाई भजन: भए प्रगट कृपाला दीनदयाला
जन्माष्टमी भजन: नन्द के आनंद भयो
बधाई भजन: लल्ला की सुन के मै आयी यशोदा मैया देदो
जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया
कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन मनावणा

श्री कृष्ण मंत्र:
अच्युतस्याष्टकम्
कमल नेत्र स्तोत्रम्
श्री राधा कृपा कटाक्ष स्त्रोत्र

श्री कृष्ण नामावली:
मधुराष्टकम्: धरं मधुरं वदनं मधुरं
श्री कृष्णाष्टकम्
श्री कृष्णाष्टकम् - आदि शंकराचार्य

श्री कृष्ण कथा:
गोपेश्वर महादेव की लीला
श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा
भागवत कथा प्रसंग: कुंती ने श्रीकृष्ण से दुख क्यों माँगा?

श्री कृष्ण मंदिर:
भारत के चार धाम
ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर
सप्त मोक्ष पुरी
दिल्ली के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर
द्वारका, गुजरात के विश्व विख्यात मंदिर
दिल्ली के प्रमुख श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर
दिल्ली के प्रसिद्ध ISKCON मंदिर

भोग प्रसाद:
पंचामृत बनाने की विधि
मथुरा के पेड़े बनाने की विधि
मखाने की खीर बनाने की विधि
बालभोग बनाने की सरल विधि

Shri Krishna Janmashtami Specials in English

Let's find out! Some information related to Shri Krishna Janmashtami, famous hymns and other inspiring facts..
यह भी जानें

Blogs Shri Krishna BlogsBrij BlogsBaal Krishna BlogsJanmashtami BlogsLaddu Gopal BlogsBaal Krishna BlogsIskcon BlogsShri Shyam BlogsKhatu Shyam Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

ऑस्ट्रेलिया में प्रसिद्ध हिंदू मंदिर कौन से हैं?

ऑस्ट्रेलिया में हिंदुओं के लिए बड़ी संख्या में मंदिर परिसर और समुदाय हैं, जो ऑस्ट्रेलिया में आने वाले प्रत्येक भारतीय का स्वागत करते हैं। इसलिए, यदि आप घर से बाहर महसूस कर रहे हैं या पूजा करने के लिए जगह की तलाश कर रहे हैं तो ये मंदिर ऑस्ट्रेलिया में घूमने के लिए सही जगह हैं।

दुर्गा पूजा धुनुची नृत्य

धुनुची नृत्य नाच दुर्गा पूजा के दौरान किया जाने वाला एक भक्ति नृत्य है और यह बंगाल की पारंपरिक नृत्य है। मां दुर्गा को धन्यवाद प्रस्ताव के रूप में पेश किया जाने वाला नृत्य शाम की दुर्गा आरती में ढाक बाजा, उलू ध्वनि की ताल पर किया जाता है।

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2022

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | Friday, 24 June 2022 योगिनी एकादशी व्रत कथा - Yogini Ekadasi Vrat Katha

प्रसिद्ध स्कूल प्रार्थना

भारतीय स्कूलों में विद्यार्थी सुवह-सुवह पहुँचकर सबसे पहिले प्रभु से प्रार्थना करते है, उसके पश्चात ही पढ़ाई से जुड़ा कोई कार्य प्रारंभ करते हैं। इसे साधारण बोल-चाल की भाषा में प्रातः वंदना भी कहा जाता है।

हनुमान चालीसा, लाभ, पढ़ने का सही समय, क्यों पढ़ें?

क्या आप प्रभु हनुमान की शक्ति में विश्वास करते हैं? Bhaktibharat के साथ अपने विचार साझा करें।...

कितना खर्चा आयेगा ईशा योग केंद्र जाने के लिए ?

चेन्नई और बंगलौर से लगभग ₹6000 से ₹10000 लागत के साथ आप आदियोगी महाशिवरात्रि की अद्भुत रात देख सकते हैं।

मंगलवार और शनिवार को क्यों करते हैं हनुमान जी की पूजा?

प्रभु हनुमान को भगवान शिव का अवतार माना जाता है। केसरी और अंजना के पुत्र, हनुमान का जन्म मंगलवार को चैत्र के हिंदू महीने के दौरान पूर्णिमा के दिन हुए थे। इसलिए, भक्त मंगलवार को श्री हनुमान की पूजा करते हैं। शनिवार के दिन हनुमान जी की पूजा करने से शनि देव बहुत प्रसन्न होते हैं और इससे शनि देव से संबंधित सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं।

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel