Download Bhakti Bharat APP

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम मे मंदिरों का योगदान - ब्लॉग (Contribution of Temples in Indian Freedom Struggle)

भारत को स्वतंत्रता दिलाने में सभी का योगदान सम्माननीय है, इस योगदान में क्या बड़ा, क्या छोटा सभी ने जिस भी तरह से अपना योगदान निर्धारित किया वह अपने में एक मिसाल बन गया।

भारत में मंदिरों की ऐतिहासिक भूमिका है। प्राचीन काल से, मंदिरों ने न केवल पूजा के स्थान के रूप में बल्कि शिक्षा और व्यक्तियों के समग्र विकास के रूप में भी खुद को प्रतिबिंबित किया है। इन प्राचीन मंदिरों के आसपास अनेक नगर, सत्ता के स्थान, व्यापारिक केंद्र विकसित हुए। इन सभी सुधारों का उद्देश्य भारतीय लोगों को एक सामान्य उद्देश्य के लिए एकजुट करना था - विदेशी शासन के खिलाफ एक आम और एकजुट राजनीतिक चेतना विकसित करना। राजनीतिक मामलों पर चर्चा करने के लिए लोग धार्मिक स्थलों पर एकत्रित हुए।

लोकमान्य तिलक ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम के लिए हिंदुओं को संगठित करने के लिए गणेश चतुर्थी और शिव जयंती त्योहारों का आयोजन किया।

सनातन परंपरा के मुख्य केंद्र मंदिर, इस अभूतपूर्व घटना का साक्षी बनाने से अपने को कैसे रोक पाते? आइए जानते हैं किस-किस मंदिर का भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में क्या-क्या योगदान रहा है।

श्री बाबा औघड़नाथ शिव मंदिर - Shri Baba Augharnath Shiv Mandir
#MeerutCantt #Meerut #UttarPradesh

परतन्त्र काल में भारतीय सेना को काली पल्टन कहा जाता था। यह मन्दिर काली पल्टन क्षेत्र में स्थित होने से काली पल्टन मन्दिर के नाम से भी विख्यात है।

भारत के प्रथम स्वातन्त्रय संग्राम (1857) की भूमिका में इस देव-स्थान का प्रमुख स्थान रहा है। सुरक्षा एवं गोपनीयता के लिए उपयुक्त शान्त वातावरण के कारण अग्रेजों ने यहाँ सेना का प्रशिषण केन्द्र स्थापित किया था।

मन्दिर के प्रांगण में स्थित कुएँ पर सेना के जवान पानी पीने के अभ्यस्त थे। 1856 में बंदूकों के नये कारतूसो का आगमन भी स्वतंत्रता के प्रथम आन्दोलन का प्रधान कारण बना। इस कारतूसो का प्रयोग करने से पहले मुख से खोला जाता था, जिसमें गाय की चर्बी लगी रहती थी जिसकी वजह से मन्दिर के तत्कालीन पुजारी ने सेना के जवानों को पानी पिलाने से मना कर दिया। अतः निर्धारित 31 मई से पूर्व ही उत्तेजित सेना के जवानों ने 10 मई 1857 को अंगेजों के विरूद्ध क्रान्ति का बिगुल बजा दिया।

सारसबाग गणपती मंदिर - Sarasbaug Ganesh Temple
#SadashivPeth #Pune #Maharashtra

पार्वती मंदिर से थोड़ी दूर होने के कारण, यह मंदिर 18वीं और 19वीं शताब्दी में निजाम और ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ मराठों द्वारा सैन्य रणनीति चर्चा व क्रियान्वयन के लिए भी इस्तेमाल किया गया। पेशवा, उनके कमांडर तथा सलाहकार मुद्दे और योजनाओं पर चर्चा करने केलिए अफ्रीकी मूल निवासियों द्वारा संचालित गोपनीयता ढंग से नाव से झील में जाया करते थे। नाव चलाने के लिए गैर-मूल निवासियों को इसलिए चुनते थे क्योंकि वह स्थानीय मराठी भाषा को न समझ सकें।

भगवान वाल्मीकि मंदिर - Bhagwan Valmiki Mandir
#MandirMarg #NewDelhi

महात्मा गांधी ने 1 अप्रैल 1946 से 1947 के प्रारंभ तक अपने दिल्ली प्रवास के दौरान यहाँ 214 दिन बिताए थे।

Contribution of Temples in Indian Freedom Struggle in English

How could the temple, the main center of the Sanatan tradition, prevent itself from witnessing this unprecedented event? Let us know which temple has contributed to the Indian freedom struggle.
यह भी जानें

Blogs Happyindependenceday BlogsBharatmata BlogsIndipendenceday2022 BlogsIndependencedaycelebration BlogsIndependencedayspecial BlogsIndia Blogs15August Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

लता मंगेशकर जी - शत् शत् नमन

भारत की कोकिला लता मंगेशकर जी के निधन पर उन्हें शत् शत् नमन। उनके द्वारा गाये हुए भजनों को सुनकर भक्त अक्सर भाव विभोर हो जाते हैं। आइये उनके द्वारा गाये हुए कुछ भजनों को सुनते हैं। यही उनकी सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

राम मंदिर के राम: शालिग्राम पहुँचा अयोध्या

बहु प्रतीक्षित भब्य राम मंदिर अयोध्या में स्थापित होने वाले प्रभु राम की मूर्ति का पत्थर अयोध्या आ गयी है। यह शालिग्राम शिला, नेपाल की बड़ी गंडक नदी से अयोध्या लाया गया है जिस पर भगवान राम की मूर्ति उकेरी जाएगी और गर्भगृह में स्थापित किया जाएगा। इस 7 फुट लंबे और 5 फुट चौड़े आकार के दो शालिग्राम शिला को मूर्तिकार जल्द ही भगवान राम और माता सीता की मूर्ति का आकार देंगे।

ISKCON

ISKCON संप्रदाय के भक्त भगवान श्री कृष्ण को अपना आराध्य मानते हैं। इनके द्वारा गाये जाने वाले भजन, मंत्र एवं गीतों का कुछ संग्रह यहाँ सूचीबद्ध किया गया है, सभी सनातनी परम्परा के भक्त इसका आनंद लें।

भगवान श्री विष्णु के दस अवतार

भगवान विष्‍णु ने धर्म की रक्षा हेतु हर काल में अवतार लिया। भगवान श्री विष्णु के दस अवतार यानी दशावतार की प्रामाणिक कथाएं।

महा शिवरात्रि 2023: कैसे करें भोलेनाथ को प्रसन्न?

महाशिवरात्रि, फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार इस दिन माता पार्वती और भगवान शिव का विवाह सम्पन्न हुआ था। इस अवसर पर अगर आप भगवान शिव को प्रसन्न करना चाहते हैं तो कुछ बातों का ख़याल कीजिये और भोले बाबा का असीम कृपा प्राप्त करें।

महा शिवरात्रि विशेष 2023

शनिवार, 18 फरवरी 2023 को संपूर्ण भारत मे महा शिवरात्रि का उत्सव बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाएगा। महा शिवरात्रि क्यों, कब, कहाँ और कैसे? | आरती: | चालीसा | मंत्र |नामावली | कथा | मंदिर | भजन

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2023

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | Wednesday, 1 February 2023 जया / भैमी एकादशी व्रत कथा - Jaya / Bhaimi Ekadasi Vrat Kath

Hanuman Chalisa - Shiv Chalisa -
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App