💦प्रयागराज कुंभ - Prayagraj Kumbh

कुंभ मेला हिन्दू तीर्थयात्राओं में सर्वाधिक पावन तीर्थयात्रा है। बारह वर्षों के अंतराल से यह पर्व प्रयागराज में मनाया जाता है।

कुंभ मेला हिन्दू तीर्थयात्राओं में सर्वाधिक पावन तीर्थयात्रा है। बारह वर्षों के अंतराल से यह पर्व प्रयागराज में मनाया जाता है।

मेष राशि गते जीवे मकरे चन्द्र भास्करौ ।
अमावस्या तदा योगः कुम्भख्यस्तीर्थ नायके ॥
अर्थात: मेष राशि के चक्र में बृहस्पति एवं सूर्य और चन्द्र के मकर राशि में प्रवेश करने पर अमावस्या के दिन कुम्भ का पर्व प्रयाग में आयोजित किया जाता है।

समुद्र मंथन के दौरान अमृत से भरा एक घडा भी निकला। देवगण और दानवों के बीच अमृत के लिए संघर्ष हुआ। तब देवराज इंद्र के संकेत पर उनका पुत्र जयन्त जब अमृत कुंभ लेकर भागने की चेष्टा कर रहा था, तब कुछ दानवों ने उसका पीछा किया। अमृत-कुंभ के लिए स्वर्ग में बारह दिन तक संघर्ष चलता रहा और उस कुंभ से चार स्थानों पर अमृत की कुछ बूंदें गिर गईं। यह स्थान पृथ्वी पर हरिद्वार,प्रयाग, उज्जैन और नासिक थे। इन स्थानों की पवित्र नदियों को अमृत की बूंदे प्राप्त करने का श्रेय मिला।

प्रत्येक स्थान पर बारह वर्षों के बाद समान रूप से कुंभ आयोजित होता है। अमृत-कुंभ के लिए स्वर्ग की गणना से बारह दिन तक संघर्ष हुआ, जो धरती के लोगों के लिए बारह वर्ष के समान है। प्रत्येक स्थान पर कुंभ पर्व की भिन्न-भिन्न ग्रह और तिथियाँ निश्चित हैं।

घडा को कुंभ भी कहा जाता है, अतः इन अमृत प्राप्त जगहों के विशाल आध्यात्मिक समारोह को कुंभ नाम से जाना जाने लगा।

संबंधित अन्य नाम
प्रयागराज कुम्भ, इलाहाबाद कुंभ, कुंभ मेला

Prayagraj Kumbh in English

Kumbh Mela is the most sacred pilgrimage in Hindu pilgrimage. This festival is celebrated in Prayagraj with a gap of twelve years.

प्रयागराज कुंभ २०१९ शाही स्नान तिथियाँ

1) मकर संक्रान्ति स्नान: 15 जनवरी 2019
2) पौष पूर्णिमा स्नान: 21 जनवरी 2019
3) मौनी अमावस्या स्नान: 4 फरवरी 2019
4) बसंत पंचमी स्नान: 10 फरवरी 2019
5) माघी पूर्णिमा स्नान: 19 फरवरी 2019
6) महाशिवरात्रि स्नान: 4 मार्च 2019

प्रयागराज कुंभ २०१९ के सभी अपडेट जानने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की निम्न लिखित वेबसाइट को देखें https://kumbh.gov.in

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
Maha Kumbh: 15 January 2025
आवृत्ति
12 वर्ष
समय
2 महीने दिन
सुरुआत तिथि
मकर संक्रान्ति
समाप्ति तिथि
महा शिवरात्रि
महीना
जनवरी / फरवरी / मार्च
उत्सव विधि
दान, नदी पर स्नान
महत्वपूर्ण जगह
प्रयागराज में गंगा यमुना संगम
अगर आपको यह त्यौहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्यौहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

🔝