Hanuman Chalisa

🌙सिन्दूर तृतीया - Sindoor Tritiya

Sindoor Tritiya Date: Tuesday, 17 October 2023
Sindoor Tritiya

शारदीय नवरात्रि का तृतीया दिन देवी पार्वती के माँ चंद्रघंटा रूप को समर्पित है, यही तृतीया दिवस सिंदूर तृतीया पर्व के नाम से प्रसिद्ध है। हिन्दू पंचांग के अनुसार आश्विन शुक्ला तृतीया तिथि को सिंदूर तृतीया मनायी जाती है।

सिंदूर को सुहाग की निशानी माना जाता है। विवाहित होकर भी सिंदूर न लगाना अशुभ माना जाता है। सिंदूर तृतीया के दिन माता रानी को सिंदूर चढ़ाने से सुहागिन स्त्रियों के सौभाग्य में वृद्धि होती है। सिंदूर को देवी पूजा की विशेष सामग्रियों मे शामिल किया जाता है।

सिंदूर तृतीया के दिन सुहागिन महिलाएँ माता को सिंदूर चढ़ाकर चढ़ती हैं तथा शेष बचे हुए सिंदूर को प्रसाद रूप में प्रतिदिन अपनी मांग में भारती हैं।

सिंदूर तृतीया को महा तृतीया, सौभाग्य तीज एवं गौरी तीज के नाम से भी जाना जाता है। पश्चिम बंगाल में महिलाए इस पर्व पर आपस में सिंदूर लगाती हैं और इस दिन लाल बॉर्डर की सफेद साड़ी पहनती हैं।

संबंधित अन्य नाममहा तृतीया, सौभाग्य तीज, गौरी तीज
सुरुआत तिथिआश्विन शुक्ला तृतीया

Sindoor Tritiya in English

The third day of Shardiya Navratri is dedicated to Goddess Parvati`s Maa Chandraghanta form, this third day is famous as Sindoor Tritiya festival.

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
5 October 202424 September 2025
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
आश्विन शुक्ला तृतीया
महीना
सितंबर / अक्टूबर
पिछले त्यौहार
28 September 2022, 9 October 2021
अगर आपको यह त्यौहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्यौहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

Durga Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App