विवाह पंचमी | आज का भजन!

भारत के चार धाम (Char Dham In India)


आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा परिभाषित चार वैष्णव तीर्थ हैं। जहाँ हर हिंदू को अपने जीवन काल मे अवश्य जाना चाहिए, जो हिंदुओं को मोक्ष प्राप्त करने में मदद करेंगे। इसमें उत्तर दिशा मे बद्रीनाथ, पश्चिम की ओर द्वारका, पूर्व दिशा मे जगन्नाथ पुरी और दक्षिण मे रामेश्वरम धाम है। हिंदू पुराणों में हरि यानी विष्णु और हर या शिव को शाश्वत मित्र कहा जाता है। ऐसा माना गया है कि जहाँ भगवान विष्णु का निवास करते हैं वहीं भगवान शिव भी पास में रहते हैं। ये चार धाम भी इसके अपवाद नहीं माने गये हैं। अतः केदारनाथ को बद्रीनाथ की जोड़ी, रंगनाथ स्वामी को रामेश्वरम की, सोमनाथ को द्वारका, लिंगराज को पुरी की जोड़ी के रूप में माना जाता है हालांकि यहां एक बात भी है।

ध्यान देने वाला तथ्य यह है कि, भारत के चार धाम और उत्तराखंड राज्य के चार धाम अलग-अलग है। उत्तराखंड के चार धाम यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम के रूप में माना जाता है।

द्वारका धाम @द्वारका, गुजरात
मठ: शारदा मठ | महावाक्य: तत्त्वमसि | वेद: सामवेद | सन्यासी नाम: सरस्वती, तीर्थ, आश्रम | प्रथम मठाधीश: हस्तामलक (पृथ्वीधर) | दिशा: पश्चिम | सहायक शिव मंदिर: सोमनाथ ज्योतिर्लिंग | कुंभ: उज्जैन

जगन्नाथ धाम, @पुरी, ओडिशा
मठ: गोवर्धन मठ | महावाक्य: प्रज्ञानं ब्रह्म | वेद: ऋग्वेद | सन्यासी नाम: आरण्य | प्रथम मठाधीश: पद्मपाद | दिशा: पूर्व | सहायक शिव मंदिर: लिंगराज मंदिर | कुंभ: प्रयागराज

रामेश्वरम धाम @रामेश्वरम, तमिलनाडु
मठ: वेदान्त ज्ञानमठ | महावाक्य: अहं ब्रह्मास्मि | वेद: यजुर्वेद | सन्यासी नाम: भारती, पुरी | प्रथम मठाधीश: आचार्य सुरेश्वरजी | दिशा: दक्षिण | सहायक शिव मंदिर: रंगनाथ स्वामी मंदिर | कुंभ: नाशिक

बद्रीनाथ धाम @उत्तराखण्ड
मठ: ज्योतिर्मठ | महावाक्य: अयमात्मा ब्रह्म | वेद: अथर्ववेद | सन्यासी नाम: गिरि,पर्वत, सागर | प्रथम मठाधीश: आचार्य तोटक | दिशा: उत्तर | सहायक शिव मंदिर: केदारनाथ ज्योतिर्लिंग | कुंभ: हरिद्वार

भगवान विष्णु के अलग अलग अवतार में, वह रामेश्वरम में स्नान करते हैं, बद्रीनाथ में ध्यान, पुरी में भोज तथा द्वारिका में शयन पसंद करते हैं।

Char Dham In India in English

There are four Vaishnava pilgrims defined by Guru Shankaracharya and every Hindu must visit there once in life which will help them to attain peace for the soul.
यह भी जानें
Char Dham In English

There are four Vaishnava pilgrims defined by Guru Shankaracharya and every Hindu must visit there once in life which will help them to attain peace for the soul. Out of which, Badrinath is situated in the north, Dwarka to the west, Jagannath Puri in the east and Rameswaram Dham in the south. In Hindu mythology, Hari is called Vishnu while Har or Shiva is called Shashwat Mitra (eternal friend). It is believed that while Lord Vishnu resides, Lord Shiva also lives closer. These four Dhams are also not considered as exceptions. Therefore, the pair of Badrinath to Kedarnath, Rangnath Swami of Rameshwaram, Somnath is considered as a pair of Dwarka, Lingaraj appears as a complete pair although there is also a thing.

The fact required to be note down is that Char Dham of India and Char Dham of Uttarakhand state are different. Char Dham of Uttarakhand is considered as Yamunotri, Gangotri, Kedarnath and Badrinath Dham.

ListChar Dham TemplesSanatan Dham TemplesHindu Dham Temples


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

जगन्नाथ पूरी के विश्व प्रसिद्ध मंदिर!

पुरी भारत के चार धाम में से एक धाम है। जानिए, जगन्नाथ पुरी के शीर्ष प्रसिद्ध मंदिरों की सूची...

ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर

ब्रजभूमि अथवा ब्रिजभूमि भगवान कृष्ण की बचपन से संबंधित गतिविधियों से जुड़ा क्षेत्र है।

द्वारका, गुजरात के विश्व विख्यात मंदिर!

भगवान श्री कृष्ण की कर्म स्थली के नाम से विश्व विख्यात द्वारका शहर गुजरात व भारत के आखिरी पश्चिमी छोर पर स्थित है।...

दिल्ली के प्रमुख श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर

श्री कृष्ण प्रणमी संप्रदाय के दिल्ली में कहाँ-कहाँ मंदिर हैं, जानने के लिए आगे पढ़ें..

महाभारत के समय से दिल्ली के प्रसिद्ध मंदिर

कलयुग प्रारंभ होने से पहिले, महाभारत युद्ध के समय से या उससे भी पहिले से बने दिल्ली के प्रसिद्ध मंदिर हैं।

दिल्ली मे यहाँ विराजमान हैं, श्री गणेश जी!

गणेशोत्सव के लिए दिल्ली और आस-पास के शहर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के इन मंदिरों मे विराजमान हैं श्री गणेश जी।

दिल्ली के प्रसिद्ध बाबा श्री भैरव नाथ मंदिर!

नई दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के लगभग सभी प्रमुख एवं प्रसिद्ध श्री बाबा भैरब नाथ मंदिर। 8 जनवरी 2019 को सारी दिल्ली भैरव जयंती माना रही है।

दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर!

दिल्ली और आस-पास के शहर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर।

दिल्ली के प्रमुख कालीबाड़ी मंदिर!

नीचे दिए गये हैं, दिल्ली और आस-पास के राज्यों के सबसे ज्यादा प्रसिद्ध दुर्गा पूजा पंडाल मे आपको जरूर जाना चाहिए...

आगामी त्यौहार

top