भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

श्री लिंगराज मंदिर Coming Soon


updated: Apr 08, 2018 08:05 AM About | Timing | Highlights | Video | How to Reach | Comments


श्री लिंगराज मंदिर (Shri Lingaraj Mandir) - Near Badhei Banka Chowk, Bhubaneswar, Odisha - 751002 Bhubaneswar Odisha

श्री लिंगराज मंदिर (Shri Lingaraj Mandir) is considered as supporting temple of Jagannath Dham Puri. Having Tribhubaneswar form of half Shri Vishu and half Lord Shiv. At the north side of the temple, There ia a famous Bindusagar conmtain holy water from every river, lake and stream of the India brought by Lord Shiv.

मुख्य आकर्षण

  • Supporting Temple of Shri Jagannath Temple Puri.
  • Series of 108 Shiv Mandir.
  • Bindu Sagar - Having Holy Water From Every River and Lake of India .

समय सारिणी

दर्शन समय
6:00 AM - 10:00 PM

जानकारियां

बुनियादी सेवाएं
Prasad, Prasad Shop, Sitting Benches, CCTV Security, Solor Panel, Washroom, One Well
स्थापना
6th Century
समर्पित
Shri Shiv
वास्तुकला
Kalinga Buddhist Architecture
फोटोग्राफी
नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

वीडियो प्रदर्शनी

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: Bindu Sagar Road / Giani Zail Singh Road / Municipal Hospital Road / Badadanda Sahi Road >> Lingaraj Temple Road
रेलवे: Bhubaneswar Railway Station
हवा मार्ग: Biju Patnaik International Airport
नदी: Mahanadhi
पता
Near Badhei Banka Chowk, Bhubaneswar, Odisha - 751002 Bhubaneswar Odisha
संपर्क करें
+91 8908702111
निर्देशांक
20.238151°N, 85.834301°E
श्री लिंगराज मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/lingaraj-temple

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली

ओइम् जय वीणे वाली, मैया जय वीणे वाली, ऋद्धि-सिद्धि की रहती, हाथ तेरे ताली।...

आरती: माँ सरस्वती जी

जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सदगुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥

close this ads
^
top