करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

श्री लिंगराज मंदिर - Shri Lingaraj Mandir


updated: Sep 21, 2019 15:37 PM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | ▶ वीडियो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


श्री लिंगराज मंदिर को जगन्नाथ धाम पुरी का सहायक शिव मंदिर माना जाता है। जगन्नाथ धाम आने वाले प्रत्येक भक्त को अपनी धाम यात्रा को पूर्ण करने हेतु इस मंदिर के दर्शन जरूर करने चाहिए। यहाँ आधे श्री विष्णु और आधे भगवान शिव का त्रिभुवनेश्वर रूप है, अतः इन्हें हरि-हर भी कहा जाता है।

मंदिर के प्रवेश द्वार के अंदर गरूण स्तंभ के समान एक विशाल त्रिशूल देखा जा सकता है। शिव के विभिन्न रूपों के साथ अन्य देवी-देवताओं के 108 छोटे-बड़े अन्य मंदिर भी मुख्य मंदिर के प्रांगण में स्थित हैं।

मंदिर मूल रूप से 6वीं शताब्दी में बनाया गया था, लेकिन इसे 11वीं शताब्दी में पूर्ण विकसित तरीके से पुनर्निर्मित किया गया था। मंदिर के उत्तर की ओर एक प्रसिद्ध बिन्दुसागर है, जहाँ भगवान शिव द्वारा भारत की हर नदी, झील और धारा से लाया गया पवित्र जल प्राप्त किया जा सकता है।

समय सारिणी

दर्शन समय
6:00 AM - 10:00 PM
त्यौहार

Shri Lingaraj Mandir - Available in English

Sri Lingaraja Temple is considered to be a subsidiary Shiva temple of Jagannath Dham Puri. Every devotee who comes to Jagannath Dham must visit this temple to complete their Dham Yatra.

जानकारियां

बुनियादी सेवाएं
Prasad, Prasad Shop, Sitting Benches, CCTV Security, Solor Panel, Washroom, One Well
स्थापना
6वीं शताब्दी
समर्पित
भगवान शिव
वास्तुकला
कलिंग बौद्ध वास्तुकला
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

वीडियो प्रदर्शनी

कैसे पहुचें

पता 📧
Near Badhei Banka Chowk Bhubaneswar Odisha
सड़क/मार्ग 🚗
Bindu Sagar Road / Giani Zail Singh Road / Municipal Hospital Road / Badadanda Sahi Road >> Lingaraj Temple Road
रेलवे 🚉
Bhubaneswar Railway Station
हवा मार्ग ✈
Biju Patnaik International Airport
नदी ⛵
Mahanadhi
निर्देशांक 🌐
20.238151°N, 85.834301°E
श्री लिंगराज मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/lingaraj-temple

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय जय तुलसी माता

जय जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब जग की सुख दाता, सबकी वर माता॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

top