गणेश मंदिर - Ganesh Mandir

गणेश मंदिर जो भगवान श्री गणेश को समर्पित है। वि.संकर अय्यर द्वारा 31 अक्टूबर 1952 में स्थापित (नवीनीकृत - 22 अप्रैल 1999), श्री गणेश मंदिर के साथ-साथ दो मंदिरों का समूह, शिव एवं शनि मंदिर, दोनों मंदिर एक ही दीवार परस्पर साझा करते हैं। मंदिरों की सीमाओं को अच्छी तरह से परिभाषित नहीं किया गया है, क्योंकि दोनों ही भवन बंद हैं। अधिकांश समय, जब नए भक्त इन मंदिरों में जाते हैं, दोनों मंदिरों को भेद नहीं पाते हैं। ये मंदिर कनॉट प्लेस में प्रसिद्ध हनुमान मंदिर के पास हैं।

यह भी जानें - Read Also

समय - Timings

दर्शन समय
5:00 AM - 12:00 PM, 4:00 PM - 9:30 PM
त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Front view of Shiv Mandir and Ganesh Mandir

Front view of Shiv Mandir and Ganesh Mandir

Ganesh Mandir in English

Ganesh Mandir dedicated to Lord Shri Ganesh founded by V.Sankar Aiyar in 31 Oct 1952 (Renovated - 22 Apr 1999)

जानकारियां - Information

धाम
Shri Ganesh JILord Shiv Family and ShivlingShri Shani MaharajSai BabaDevi MaaShri Hanuman JiNavgrah DhamHawan Shala
बुनियादी सेवाएं
Drinking Water, Prasad, Shoe Store
संस्थापक
V.Sankar Aiyar
स्थापना
31 Oct 1952 (Renovated - 22 Apr 1999)
समर्पित
Lord Shri Ganesh
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Palika Kendra, Hanuman Road Area Connaught Place New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Baba Kharak Singh Marg
रेलवे 🚉
New Delhi
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Yamuna
निर्देशांक 🌐
28.6300686°N, 77.2153086°E
गणेश मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/ganesh-mandir-cp

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय सन्तोषी माता: आरती

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता..

विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी

स्तुति श्री हिंगलाज माता और श्री विंध्येश्वरी माता सुन मेरी देवी पर्वतवासनी...

जय शनि देवा - श्री शनिदेव आरती

जय शनि देवा, जय शनि देवा, जय जय जय शनि देवा। अखिल सृष्टि में कोटि-कोटि जन करें तुम्हारी सेवा।

🔝