होलिका दहन | चैत्र नवरात्रि | आज का भजन! | भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

गणेश मंदिर


updated: Aug 01, 2015 06:37 AM About | Timing | Photo Gallery | How to Reach | Comments


गणेश मंदिर (Ganesh Mandir) - Palika Kendra, Hanuman Road Area, Connaught Place, New Delhi - 110001 Delhi New Delhi

गणेश मंदिर (Ganesh Mandir) dedicated to Lord Shri Ganesh founded by V.Sankar Aiyar in 31 Oct 1952 (Renovated - 22 Apr 1999), group of two temples Shiv Evam Shani Mandir along with Shri Ganesh Mandir, both temple share same wall and also interconnected. Boundaries of temples are not well define due to the closeness of both bhawan. Most of the time, when new devotees visit these temples unable to distinguish both the temple. These temples are near by famous Hanuman Temple in Connaught Place.

ये भी जानें

समय सारिणी

दर्शन समय
5:00 AM - 12:00 PM, 4:00 PM - 9:30 PM
त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
Front view of Shiv Mandir and Ganesh Mandir

Front view of Shiv Mandir and Ganesh Mandir

जानकारियां

धाम
Shri Ganesh JILord Shiv Family and ShivlingShri Shani MaharajSai BabaDevi MaaShri Hanuman JiNavgrah DhamHawan Shala
बुनियादी सेवाएं
Drinking Water, Prasad, Shoe Store
संस्थापक
V.Sankar Aiyar
स्थापना
31 Oct 1952 (Renovated - 22 Apr 1999)
समर्पित
Lord Shri Ganesh
फोटोग्राफी
नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
पता
Palika Kendra, Hanuman Road Area, Connaught Place, New Delhi - 110001 Delhi New Delhi
निर्देशांक
28.6300686°N, 77.2153086°E
गणेश मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/ganesh-mandir-cp

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती युगलकिशोर की कीजै!

आरती युगलकिशोर की कीजै। तन मन धन न्योछावर कीजै॥ गौरश्याम मुख निरखन लीजै।...

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

माता श्री गायत्री जी की आरती

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता॥

close this ads
^
top