विवाह पंचमी | आज का भजन!

वसुंधरा जैन मंदिर - Vasundhara Jain Mandir


Jul 21, 2019 14:29 PM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


इंद्रपुरम, वैशाली तथा वसुंधरा से नगर-निगम कार्यालय जाने वाले हर व्यक्ति के मन में इस कमल पुष्पनुमा अक्रति वाले मंदिर में जाने की इच्छा अवश्य ही होती होगी। आस-पास के क्षेत्र में यह मंदिर वसुंधरा जैन मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है।

वसुंधरा के इस श्री दिगंबर जैन मंदिर में, मकराना पत्थर से बने सुंदर से बेदी/मंच पर, धातु से निर्मित भगवान महावीर जी की 41 इंच ऊंची सुनहरे रंग का विग्रह रूप विराजमान है।

प्रचलित नाम: श्री दिगंबर जैन मंदिर

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • कमल पुष्प के आकर का भव्य मंदिर शिखर।
  • वसुंधरा का सबसे प्रसिद्ध जैन मंदिर।

समय सारिणी - Timings

दर्शन समय
5:30 AM - 12:30 AM, 5:30 PM - 8:30 PM
त्यौहार
Mahavir Jayanti, Paryushana, Mahavira Nirvana | Read Also: नवरात्रि

History

It is in year 2001 when the first time Maha Shri Kaushal Mata Ji encouraged the society to built a Chaitalaya. Again in May 2006 the motivation of Digamber Muni Shri 108 Shrut Sagar Ji Maharaj brought the Jain followers together and the shilanyas of the Temple was made possible. And now by God`s Grace & with great blessings of Digamber Muni Shri 108 Saurabh Sagar Ji Maharaj, this dream is going to be fulfilled very soon as in Feb 2010 the Jain community will be facilitated to offer their prayers in front of the Great Creator in a big hall of Shikharbadth Temple.

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
The 31 feet high blossoming lotus flower Shikhar with started with 18 petals at the base followed by an 8 sided square surfaces each side, total 108 petals of Lotus.

The 31 feet high blossoming lotus flower Shikhar with started with 18 petals at the base followed by an 8 sided square surfaces each side, total 108 petals of Lotus.

With great inspiration from our Digamber Muni Shree 108 Saurabh Sagar Ji Maharaj, The 31 feet high blossoming lotus flower Shikhar

With great inspiration from our Digamber Muni Shree 108 Saurabh Sagar Ji Maharaj, The 31 feet high blossoming lotus flower Shikhar

24 theerthankar with the shape of hreem (ह्रीं) at first floor of the temple

24 theerthankar with the shape of hreem (ह्रीं) at first floor of the temple

Vasundhara Jain Mandir in English

The 41 inches high Golden Coloured metallic diety of Bhagwan Mahaveer Ji is placed on a beautiful platform made of Makrana stone in Shri Digamber Jain Mandir Vasundhara.

जानकारियां - Information

धाम
Ground Floor: Rishabhanatha (Adinatha)ChandraprabhaShantinathaMunisuvrata Ji
First Floor: Bhagwan Parshwanath Ji
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Water Coolar, Satsang Hall, Power Backup, CCTV Security, Office, Shoe Store, Parking
धर्मार्थ सेवाएं
फिजियोथेरेपी सेंटर
संस्थापक
श्री दिगंबर जैन मंदिर समिति वसुंधरा
स्थापना
फरवरी 2010
देख-रेख संस्था
श्री दिगंबर जैन मंदिर समिति वसुंधरा
समर्पित
भगवान महावीर जी
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
10/1 Bhagwan Mahavir Marg, Sector - 10 Vasundhara, Ghaziabad Ghaziabad Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Madan Mohan Malviya Marg (Anand Vihar - Mohannagar Road) >> Bhagwan Mahavir Marg
रेलवे 🚉
Ghaziabad, Sahibabad
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Hindon, Yamuna
वेबसाइट 📡
http://www.jainmandir.net/
निर्देशांक 🌐
28.665468°N, 77.36747°E
वसुंधरा जैन मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/jain-mandir-vasundhara

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री भैरव देव जी आरती

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा, जय काली और गौर देवी कृत सेवा॥

ॐ जय कलाधारी हरे - बाबा बालक नाथ आरती

ॐ जय कलाधारी हरे, स्वामी जय पौणाहारी हरे, भक्त जनों की नैया, दस जनों की नैया, भव से पार करे...

आरती: भगवान श्री कुबेर जी

ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे, स्वामी जै यक्ष जै यक्ष कुबेर हरे। शरण पड़े भगतों के... धनतेरस के दिन देवी लक्ष्मी, भगवान कुबेर एवं श्री गणेश की पूजा-आरती प्रमुखता से की जाती है।

top