close this ads

आरती: ॐ जय महावीर प्रभु!


ॐ जय महावीर प्रभु, स्वामी जय महावीर प्रभु।
कुण्डलपुर अवतारी, चांदनपुर अवतारी, त्रिशलानंद विभु॥

सिध्धारथ घर जन्मे, वैभव था भारी।
बाल ब्रह्मचारी व्रत, पाल्यो तप धारी॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥

आतम ज्ञान विरागी, सम दृष्टि धारी।
माया मोह विनाशक, ज्ञान ज्योति जारी॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥

जग में पाठ अहिंसा, आप ही विस्तारयो।
हिंसा पाप मिटा कर, सुधर्म परिचारियो॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥

अमर चंद को सपना, तुमने परभू दीना।
मंदिर तीन शेखर का, निर्मित है कीना॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥

जयपुर नृप भी तेरे, अतिशय के सेवी।
एक ग्राम तिन्ह दीनो, सेवा हित यह भी॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥

जल में भिन्न कमल जो, घर में बाल यति।
राज पाठ सब त्यागे, ममता मोह हती॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥

भूमंडल चांदनपुर, मंदिर मध्य लसे।
शांत जिनिश्वर मूरत, दर्शन पाप लसे॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥

जो कोई तेरे दर पर, इच्छा कर आवे।
धन सुत्त सब कुछ पावे, संकट मिट जावे॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥

निशदिन प्रभु मंदिर में, जगमग ज्योत जरे।
हम सेवक चरणों में, आनंद मूँद भरे॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥

ॐ जय महावीर प्रभु, स्वामी जय महावीर प्रभु।
कुण्डलपुर अवतारी, चांदनपुर अवतारी, त्रिशलानंद विभु॥

Read Also:
» जन्म कल्याणक - Janma Kalyanak
» आरती: श्री महावीर भगवान 3 | जय सन्मति देवा | आरती: ॐ जय महावीर प्रभु 2 | णमोकार महामंत्र
» प्रसिद्ध जैन मंदिर!

Hindi Version in English

Om Jai Mahavir Prabhu, Swami Jai Mahavir Prabhu।
Kundalpur Avtari, Chandanpur Avtari, Trishla-Nand Vibhu॥

Sidhharath Ghar Janme, Vaibhav Tha Bhari।
Baal-Brahmchari Vrat, Paalyo Tap Dhaari॥ Om Jai Mahavir Prabhu ॥

Atam Gyan Viragi, Sum Drishti Dhari
Maya-Moh Vinashak, Gyaan Jyoti Jari॥ Om Jai Mahavir Prabhu ॥

Jag Mein Path Ahimsa, Aap Hi Vistaryo
Hinsa Pap Mitakar, Sudharam Paricharyo॥ Om Jai Mahavir Prabhu ॥

Amar Chand Ko Sapana, Tumne Prabhu Deena,
Mandir Teen Shikhar Ka, Nirmit Hai Keena॥ Om Jai Mahavir Prabhu ॥

Jaipur Nrap Bhi Tere, Atishay Ke Sewi,
Ek Gram Tinh Dino, Sewa Hit Yeh Bhi॥ Om Jai Mahavir Prabhu ॥

Jal Main Bhinn Kamal Jo,Ghar Main Bal Yati
Raaj Path Sab Tyage, Mamta Moh Hati॥ Om Jai Mahavir Prabhu ॥

Bhumandal chandanpur, Mandir Mandhy Lase
Shant Jinishwar Murat, Darshan Paap Lase॥ Om Jai Mahavir Prabhu ॥

Jo Koi Tere Dar Par, Ichcha Kar Aave
Dhan Sut Sab Kuch Pave, Sankat Mit Jave॥ Om Jai Mahavir Prabhu ॥

NishDin Prabhu Mandir Mein, Jagmug Jyoti Jale
Hum Sevak Charnon Mein, Anand Maund Bharen॥ Om Jai Mahavir Prabhu ॥

Om Jai Mahavir Prabhu, Swami Jai Mahavir Prabhu।
Kundalpur Avtari, Chandanpur Avtari, Trishla-Nand Vibhu॥

AartiShri Mahavir AartiJainism Aarti


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

श्री भगवत भगवान की है आरती!

श्री भगवत भगवान की है आरती, पापियों को पाप से है तारती।

आरती श्री भगवद्‍ गीता!

जय भगवद् गीते, जय भगवद् गीते। हरि-हिय-कमल-विहारिणि सुन्दर सुपुनीते॥

मां नर्मदाजी आरती!

ॐ जय जगदानन्दी, मैया जय आनंद कन्दी। ब्रह्मा हरिहर शंकर, रेवा शिव हर‍ि शंकर, रुद्रौ पालन्ती।

प्रार्थना: पूजनीय प्रभो हमारे, भाव उज्जवल कीजिये।

पूजनीय प्रभो हमारे, भाव उज्जवल कीजिये। छोड़ देवें छल कपट को, मानसिक बल दीजिये॥

आरती: ॐ जय जगदीश हरे!

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

आरती: श्री बृहस्पति देव

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा। छिन छिन भोग लगा‌ऊँ...

श्री सत्यनारायण जी आरती

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा। सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा॥

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

आरती: सीता माता की

आरती श्री जनक दुलारी की। सीता जी रघुवर प्यारी की॥

आरती: श्री बालाजी

ॐ जय हनुमत वीरा, स्वामी जय हनुमत वीरा। संकट मोचन स्वामी तुम हो रनधीरा॥

^
top